चीनी निगरानी पोत ‘युआन वांग 5’ ने हिंद महासागर में फिर से प्रवेश किया

चीनी निगरानी पोत ‘युआन वांग 5’ ने हिंद महासागर में फिर से प्रवेश किया

  • 15-16 दिसंबर के बीच भारतीय लंबी दूरी की मिसाइल परीक्षण की योजना के अनुमान साथ ही चीनी निगरानी पोत ‘युआन वांग 5’ ने हिंद महासागर में फिर से प्रवेश किया है।
  • पिछले महीने इसी तरह की एक घटना में, एक अन्य पोत ‘युआन वांग 6’ हिंद महासागर क्षेत्र (आईओआर) में प्रवेश किया था, जब पूर्वनियोजित भारतीय मिसाइल प्रक्षेपण की योजना थी, लेकिन लॉन्च को तब टाल दिया गया था।
  • समुद्री पोत-ट्रैकिंग पोर्टल Marinetraffic.com के अनुसार ‘युआन वांग-5’ ने 4 दिसंबर को देर शाम इंडोनेशिया के सुंडा जलडमरूमध्य से होकर हिन्द महासागर में प्रवेश किया। यह पोत पिछले महीने भी हिन्द महासागर में यात्रा की थी।

  • Twitter@detresfa पर ओपन-सोर्स इंटेलिजेंस हैंडल के अनुसार, भारत ने 15-16 दिसंबर के बीच एक विंडो के साथ संभावित मिसाइल लॉन्च के लिए बंगाल की खाड़ी के ऊपर 5400 किमी की अधिकतम दूरी के लिए नो-फ्लाई ज़ोन के लिए एक अधिसूचना NOTAM (नोटिस टू एयरमेन) जारी की थी।
  • रेंज को देखते हुए, यह अग्नि 5 इंटरमीडिएट-रेंज बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण होने की संभावना है।
  • रक्षा अधिकारियों के अनुसार हालांकि अंतरराष्ट्रीय नियमों के अनुसार अंतर्राष्ट्रीय जल में अनुसंधान गतिविधियों की अनुमति है, इस जहाज से संगृहीत डेटा में सैन्य सहित दोहरी प्रकृति की उपयोग की क्षमता है और कई अवसरों पर, चीनी जहाजों का मकसद संदिग्ध लग रहा है, ।
  • अगस्त में, श्रीलंका के हंबनटोटा में ‘युआन वांग 5’ के डॉकिंग ने भारत और श्रीलंका के बीच एक बड़ा कूटनीतिक चुनौती उत्पन्न किया था।
  • जैसा कि पहले भी रिपोर्ट किया गया है, आईओआर में चीनी अनुसंधान जहाजों की तैनाती में लगातार वृद्धि हुई है, और तैनाती का सामान्य क्षेत्र नब्बे डिग्री पूर्वी रिज और दक्षिण पश्चिम भारतीय रिज के आसपास था। अनुसंधान या सर्वेक्षण जहाजों के पास ताक-झांक करने और डेटा की एक श्रृंखला एकत्र करने के लिए शक्तिशाली उपकरण होते हैं।
  • उल्लेखनीय है कि हिंद महासागर में चीनी उपस्थिति 2008 में अदन की खाड़ी में एंटी-पायरेसी ऑपरेशन की आड़ में शुरू हुई और तब से चीन ने इस क्षेत्र में निरंतर अपनी उपस्थिति बनाए रखी है, यहां तक कि कई अवसरों पर परमाणु हमला करने वाली पनडुब्बियों (एसएसएन) को भी तैनात किया है।
  • चीन ने तब से जिबूती में एक सैन्य अड्डा स्थापित किया है और हिंद महासागर में श्रीलंका, म्यांमार, पाकिस्तान, अन्य देशों में कई दोहरे उपयोग वाले बंदरगाहों का विकास किया है।
CIVIL SERVICES EXAM