‘ग्रेटर टिपरालैंड’ क्या है? क्यों त्रिपुरा में चुनाव से पहले उठी अलग राज्य की मांग?

ग्रेटर टिपरालैंडक्या है? क्यों त्रिपुरा में चुनाव से पहले उठी अलग राज्य की मांग?

  • त्रिपुरा के शाही परिवार के वंशज, प्रद्योत देबबर्मा के नेतृत्व वाली पार्टी टिपरा मोथा (TIPRA MOTHA) त्रिपुरा के समुदायों को नई मातृभूमि का वादा करने उनका ध्यान अपनी पार्टी की तरफ आकर्षित करने की कोशिश कर रही है।

  • जैसे-जैसे त्रिपुरा चुनाव की ओर बढ़ रहा है, सभी पार्टियां टेंपरहुक पर हैं क्योंकि टिपरा मोथा ने एक अलग राज्य – ग्रेटर टिपरालैंड की मांग उठाई है। प्रद्योत माणिक्य देबबर्मा के नेतृत्व वाले क्षेत्रीय मोर्चे ने सभी दलों के साथ गठबंधन से इनकार कर दिया है।

ग्रेटर टिपरालैंड की मांग क्या है?

  • क्षेत्रफल की दृष्टि से तीसरे सबसे छोटे राज्य से ग्रेटर टिपरालैंड की मांग क्षेत्र में स्थानिक समुदायों के लिए एक नृजातीय मातृभूमि की इच्छा से उत्पन्न होती है, जो विभाजन के दौरान क्षेत्र में बंगालियों की आमद के बाद अल्पसंख्यकों के रूप में सिमट गए हैं। बांग्लादेश में 1971 के मुक्ति संग्राम के दौरान इसमें और वृद्धि आई थी।
  • प्रद्योत माणिक्य देबबर्मा के अनुसार, ग्रेटर टिपरालैंड आदिवासियों की संस्कृति और अधिकारों की रक्षा करने में मदद करेगा और वह चाहतें हैं कि भारतीय संविधान के अनुच्छेद 2 और 3 के तहत उसकी मांगों को पूरा किया जाए।

नया राज्य कैसे बनाया जा सकता है?

  • संविधान के अनुच्छेद 2 के अनुसार संसद, समयसमय पर, विधि द्वारा, नए राज्यों को संघ में प्रवेश दे सकती है, या ऐसे नियमों और शर्तों पर नए राज्यों की स्थापना कर सकती है, जो वह उचित समझे
  • संविधान के अनुच्छेद 3 में कहा गया है – “संसद कानून द्वारा
    • किसी भी राज्य से क्षेत्र को अलग करके या दो या दो से अधिक राज्यों या राज्यों के कुछ हिस्सों को मिलाकर या किसी भी राज्य के एक हिस्से में किसी भी क्षेत्र को एकजुट करके एक नया राज्य बना सकती है;
    • किसी भी राज्य के क्षेत्र में वृद्धि कर सकती है;
    • किसी भी राज्य के क्षेत्र को कम कर सकती है;
    • किसी भी राज्य की सीमाओं में परिवर्तन कर सकती है;
    • किसी भी राज्य के नाम में परिवर्तन कर सकती है”

Any Doubts ? Connect With Us.

Related Links

Connect With US Socially

Request Callback

Fill out the form, and we will be in touch shortly.