Home » Current Affairs » Current Affairs in Hindi » Current Affair 16 November 2021

Current Affair 16 November 2021

Current Affairs – 16 November, 2021

प्रथम वैश्विक नवाचार शिखर सम्मेलन

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी 18 नवंबर 2021 को सायं 4 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से फार्मास्युटिकल या दवा क्षेत्र के प्रथम वैश्विक नवाचार शिखर सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे।

यह एक विशिष्ट पहल है जिसका उद्देश्य भारत के फार्मास्यूटिकल उद्योग में नवाचार के उत्‍कृष्‍ट परिवेश या माहौल को बढ़ावा देने हेतु विभिन्‍न प्राथमिकताओं पर चर्चा करने और रणनीति बनाने के लिए सरकार एवं उद्योग जगत के प्रमुख भारतीय व अंतर्राष्ट्रीय हितधारकों, शिक्षाविदों, निवेशकों और शोधकर्ताओं को एक मंच पर लाना है। इस शिखर सम्‍मेलन के दौरान भारतीय फार्मा या दवा उद्योग में उपलब्‍ध अवसरों पर भी प्रकाश डाला जाएगा जिनमें विकास की अपार संभावनाएं हैं।

इस दो दिवसीय शिखर सम्मेलन के दौरान 12 सत्र होंगे और 40 से भी अधिक राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय वक्ता नियामकीय माहौल, नवाचार का वित्‍त पोषण या धनराशि की व्‍यवस्‍था करने, उद्योग-अकादमिक सहयोग, और नवाचार संबंधी बुनियादी ढांचागत सुविधाओं सहित कई विषयों पर विचार-विमर्श करेंगे।

इस शिखर सम्‍मेलन में देश-विदेश के फार्मा या दवा उद्योगों के प्रमुख सदस्यगण, अधिकारीगण, निवेशक और मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, जॉन हॉपकिन्स इंस्टीट्यूट, आईआईएम अहमदाबाद एवं अन्य प्रतिष्ठित संस्थानों के शोधकर्ता भाग लेंगे।

केंद्रीय मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया भी इस अवसर पर उपस्थित रहेंगे।

SOURCE-PIB

PAPER-G.S.1 PRE

 

बीआरओ की उपलब्धि को गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स से मान्यता मिली

महानिदेशक सीमा सड़क (डीजीबीआर) लेफ्टिनेंट जनरल राजीव चौधरी ने 16 नवंबर, 2021 को लद्दाख में उमलिंगला दर्रे पर 19,024 फीट पर दुनिया की सबसे ऊंची वाहन चलाने योग्य सड़क के निर्माण और ब्लैक टॉपिंग के लिए सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) की उपलब्धि के लिए गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स का प्रमाण पत्र प्राप्त किया। एक आभासी समारोह में, यूनाइटेड किंगडम स्थित गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स के आधिकारिक निर्णायक श्री ऋषि नाथ ने दुनिया में सबसे अधिक ऊंचाई वाली सड़क के निर्माण के लिए बीआरओ की उल्लेखनीय उपलब्धि को मान्य किया। गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स द्वारा संचालित चार महीने लंबी प्रक्रिया में पांच अलग-अलग सर्वेक्षकों ने इस दावे की पुष्टि की।

52 किलोमीटर लंबी चिसुमले से डेमचोक टरमैक सड़क 19,024 फीट ऊंचे उमलिंगला दर्रे से होकर गुजरती है और बोलीविया में एक सड़क के पिछले रिकॉर्ड से बेहतर है, जो ज्वालामुखी उटुरुंकु से 18,953 फीट पर जुड़ती है। उमलिंगला दर्रा सड़क विकास की दिशा में कदम बढ़ाते हुए भारत की उपलब्धि में एक और मील का पत्थर है क्योंकि इसका निर्माण माउंट एवरेस्ट के उत्तर और दक्षिण बेस कैंप से अधिक ऊंचाई पर किया गया है जो क्रमशः 16,900 फीट और 17,598 फीट की ऊंचाई पर हैं।

इस अवसर पर सीमा सड़क संगठन के महानिदेशक (डीजीबीआर) लेफ्टिनेंट जनरल राजीव चौधरी ने उमलिंगला दर्रे के लिए सड़क निर्माण के दौरान आने वाली चुनौतियों के बारे में बात की जो एक अत्यंत कठिन इलाके में, जहां सर्दियों में तापमान -40 डिग्री तक गिर जाता है और ऑक्सीजन का स्तर सामान्य से 50 प्रतिशत कम रहता है, में मानवीय संकल्प और मशीनों की प्रभावकारिता दोनों का परीक्षण करता है।

बीआरओ ने पूर्वी लद्दाख के महत्वपूर्ण गांव डेमचोक को एक ब्लैक टॉप्ड सड़क प्रदान की जो क्षेत्र की स्थानीय आबादी के लिए एक वरदान होगी क्योंकि यह लद्दाख में सामाजिक-आर्थिक परिस्थितियों को तथा पर्यटन को बढ़ावा देगी।

रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण यह सड़क, जो लगभग 15 किलोमीटर लंबी है, सीमावर्ती क्षेत्रों में सड़कों के बुनियादी ढांचे के विकास में सरकार के फोकस को उजागर करती है ।

गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स

गिनीज़ व‌र्ल्ड रिकार्ड्स (अंग्रेजी: Guinness World Records; हिन्दी अनुवाद: गिनीज़ विश्व कीर्तिमान), प्रतिवर्ष प्रकाशित होने वाली एक सन्दर्भ पुस्तक है जिसमें विश्व कीर्तिमानों (रिकॉर्ड्स) का संकलन होता है। सन् 2000 तक इसे ‘गिनीज़ बुक ऑफ रिकॉर्ड्स’ (अमेरिका में गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स) के नाम से जाना जाता था। यह पुस्तक ‘सर्वाधिक बिकने वाली कॉपीराइट पुस्तक’ के रूप में स्वयं एक रिकार्डधारी पुस्तक है। यह पुस्तक अमेरिका के ‘सार्वजनिक पुस्तकालयों से सर्वाधिक चोरी जाने वाली पुस्तक’ भी है।

मताधिकार टेलिविजन शृंखला और संग्रहालयो में शामिल करने के लिऐ प्रिंट से आगे बढ़ाया गया है। मताधिकार की लोकप्रीयता गिनीज़ व‌र्ल्ड रिकार्ड्स विश्व रिकार्ड की एक बड़ी संख्या को सुचिबदध करने और स्त्यापन पर प्राथमिक अंतर्राष्ट्रीय प्राधिकरण बनने में हुई है। संगठन के रिकार्ड की स्थापना और थोड़ने सत्यपित करने के लिऐ अधिकृत सरकारी रिकार्ड निर्णायकों कायरत है।

SOURCE-PIB

PAPER- G.S,1 PRE

 

राष्ट्र रक्षा संबंध पर्व

‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के तहत 17 नवंबर से 19 नवंबर 2021 तक राष्ट्र रक्षा संबंध पर्व का आयोजन किया जाएगा।

मुख्य बिंदु

  • राष्ट्र रक्षा संबंध पर्व का आयोजन उत्तर प्रदेश के झाँसी में किया जायेगा।
  • इस अवसर को चिह्नित करने के लिए, रक्षा मंत्रालय कई योजनाओं को राष्ट्र को समर्पित करेगा।
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 19 नवंबर, 2021 को झांसी किले में आयोजित एक समारोह में रक्षा मंत्रालय की नई पहल का शुभारंभ करेंगे। 19 नवंबर को रानी लक्ष्मी बाई का जन्मदिन है।
  • इस आयोजन का उद्घाटन 17 नवंबर, 2021 को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह करेंगे।

राष्ट्र रक्षा सम्पर्ण पर्व

इस कार्यक्रम का आयोजन रक्षा मंत्रालय द्वारा उत्तर प्रदेश सरकार के सहयोग से किया जा रहा है। 19 नवंबर को, इस कार्यक्रम में रक्षा मंत्री, रक्षा राज्य मंत्री, उत्तर प्रदेश की राज्यपाल, आनंदीबेन पटेल और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शामिल होंगे।

शुरू की जाने वाली नई पहलें

  1. 100 नए सैनिक स्कूल की स्थापना : सैनिक स्कूल निजी शिक्षण संस्थानों, गैर सरकारी संगठनों और राज्य सरकारों के सहयोग से की स्थापना की जाएगी। अगले दो वर्षों में प्रत्येक राज्य/संघ राज्य क्षेत्र में कम से कम एक सैनिक स्कूल स्थापित किए जाएंगे। सभी सैनिक स्कूल में लड़कियों को भी प्रवेश दिया जायेगा।
  2. NCC पूर्व छात्र संघ (NCC Alumni Association) का शुभारंभ : NCC पूर्व छात्र संघ NCC के उद्देश्यों को आगे बढ़ाएगा और राष्ट्र निर्माण में सहायता करेगा। प्रधानमंत्री मोदी (पूर्व एनसीसी कैडेट) को एसोसिएशन के पहले सदस्य के रूप में नामांकित करके एनसीसी पूर्व छात्र संघ लांच करने का प्रस्ताव किया गया है।
  3. NCC कैडेटों के लिए सिमुलेशन प्रशिक्षण के राष्ट्रीय कार्यक्रम का शुभारंभ : NCC कैडेटों को उनके संबंधित क्षेत्रों में प्रशिक्षित करने में सक्षम बनाने के लिए NCC के तीन विंग के लिए सिमुलेशन प्रशिक्षण सुविधाओं को बढ़ाने के लिए रक्षा मंत्रालय द्वारा इसे लॉन्च किया जाएगा।
  4. NCC सीमा और तटीय योजना : इस योजना के माध्यम से सीमा और तटीय क्षेत्रों को समर्पित एक लाख कैडेटों द्वारा एनसीसी का विस्तार किया जाएगा।

SOURCE-PIB

PAPER-G.S.3

 

राष्ट्रीय प्रेस दिवस

हर साल 16 नवंबर को राष्ट्रीय प्रेस दिवस (National Press Day) मनाया जाता है। भारतीय प्रेस परिषद की स्थापना 16 नवंबर, 1966 को हुई थी। भारतीय प्रेस परिषद मीडिया के लिए एक नैतिक प्रहरी के रूप में कार्य करती है। साथ ही, भारतीय प्रेस परिषद यह सुनिश्चित करती है कि प्रेस की स्वतंत्रता अन्य बाहरी कारकों के खतरों या प्रभाव से नियंत्रित न हो।

मुख्य बिंदु

भारत में, राष्ट्रीय प्रेस दिवस के उत्सव को भारत में स्वतंत्र और जिम्मेदार प्रेस का प्रतीक माना जाता है।

संवैधानिक प्रावधान

भारत के संविधान का अनुच्छेद 19 वाक् और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार प्रदान करता है। हालाँकि, प्रेस की स्वतंत्रता को विशेष रूप से अनुच्छेद में शामिल नहीं किया गया है।

भारत का प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक

अप्रैल 2020 में जारी ग्लोबल प्रेस फ्रीडम इंडेक्स, 2020 के अनुसार, भारत 180 देशों में से 140वें स्थान पर है। इस रिपोर्ट द्वारा भारत का प्रदर्शन विश्लेषण निम्नलिखित प्रकार से था:

विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक 2000 से प्रतिवर्ष प्रकाशित किया जा रहा है। यह रिपोर्टर्स सैन्स फ्रंटियर्स या रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स द्वारा प्रकाशित किया जाता है। यह एक स्वतंत्र गैर सरकारी संगठन है। इसे यूनेस्को, संयुक्त राष्ट्र और अंतर्राष्ट्रीय फ़्रैंकोफ़ोनी संगठन के साथ परामर्शदात्री दर्जा प्राप्त है।

SOURCE-GK TODAY

PAPER-G.S.1PRE

 

प्रथम ऑडिट दिवस

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, 16 नवंबर, 2021 को पहले ऑडिट दिवस के कार्यक्रम को संबोधित करेंगे।

मुख्य बिंदु

  • यह कार्यक्रम CAG कार्यालय परिसर में आयोजित किया जाएगा।
  • इस मौके पर पीएम सरदार वल्लभभाई पटेल की प्रतिमा का भी अनावरण करेंगे।

ऑडिट दिवस क्या है?

ऑडिट दिवस का पहला संस्करण CAG की संस्था की ऐतिहासिक उत्पत्ति और शासन, पारदर्शिता और जवाबदेही में इसके द्वारा किए गए योगदान को चिह्नित करने के लिए मनाया जाएगा।

भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (CAG)

CAG भारत में संवैधानिक प्राधिकरण है। यह भारत के संविधान के अनुच्छेद 148 के अनुसार स्थापित किया गया था। CAG को केंद्र और राज्य सरकारों की सभी प्राप्तियों और व्ययों की लेखा परीक्षा करने का अधिकार है। CAG सरकार के स्वामित्व वाले निगमों का वैधानिक लेखा परीक्षक है। यह उन सरकारी कंपनियों की पूरक लेखा परीक्षा आयोजित करता है, जहां सरकार की हिस्सेदारी 51% है।

CAG की रिपोर्ट

CAG की रिपोर्ट संसद या विधानमंडल के समक्ष रखी जाती है। उन पर लोक लेखा समितियों (Public Accounts Committees – PACs) और सार्वजनिक उपक्रम समितियों (Committees on Public Undertakings – COPUs) द्वारा चर्चा की जाती है। PAC और COPU संसद और राज्य विधानसभाओं में विशेष समितियां हैं।

वरीयता क्रम

CAG को वरीयता क्रम में 9वें स्थान पर रखा गया है। इसे सर्वोच्च न्यायालय के वर्तमान न्यायाधीश के समान दर्जा प्राप्त है।

वर्तमान CAG कौन है?

वर्तमान में, जम्मू कश्मीर के केंद्र शासित प्रदेश के पूर्व उपराज्यपाल जी.सी. मुर्मू भारत के CAG के रूप में कार्यरत हैं। वह भारत के 14वें सीएजी हैं। उनका कार्यकाल अगस्त 2020 में शुरू हुआ था।

SOURCE-GK TODAY

PAPER-G.S.2