Current Affair 19 December 2021

Current Affairs – 19 December, 2021

गोवा मुक्ति दिवस

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने गोवा में आयोजित गोवा मुक्ति दिवस समारोह में भाग लिया। प्रधानमंत्री ने समारोह में स्वतंत्रता सेनानियों और ‘ऑपरेशन विजय’ से जुड़े सेवानिवृत्त सैन्यकर्मियों को सम्मानित किया। उन्होंने कई विकास परियोजनाओं का उद्घाटन किया, जिनमें प्रमुख हैं – पुनर्निर्मित फोर्ट अगुआड़ा जेल संग्रहालय, गोवा मेडिकल कॉलेज में सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक, न्यू साउथ गोवा जिला अस्पताल, मोपा हवाई अड्डे पर विमानन कौशल विकास केंद्र और डाबोलिम-नावेलिम, मडगांव में गैस इंसुलेटेड सबस्टेशन आदि। उन्होंने गोवा में बार काउंसिल ऑफ इंडिया ट्रस्ट के इंडिया इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ लीगल एजुकेशन एंड रिसर्च की आधारशिला भी रखी।

प्रमुख बिंदु

यह दिन उस अवसर को चिह्नित करता है जब भारतीय सशस्त्र बलों ने वर्ष 1961 में 450 वर्षों के पुर्तगाली शासन से गोवा को मुक्त कराया था।

वर्ष 1510 में पुर्तगालियों ने भारत के कई हिस्सों को उपनिवेश बनाया लेकिन 19वीं शताब्दी के अंत तक भारत में पुर्तगाली उपनिवेश गोवा, दमन, दीव, दादरा, नगर हवेली और अंजेदिवा द्वीप (गोवा का एक हिस्सा) तक ही सीमित रहें।

15 अगस्त, 1947 को जैसे ही भारत को स्वतंत्रता मिली, भारत ने पुर्तगालियों से अपने क्षेत्रों को सौंपने का अनुरोध किया लेकिन इन्होंने इनकार कर दिया था।

गोवा मुक्ति आंदोलन छोटे पैमाने पर एक विद्रोह के रूप में शुरू हुआ लेकिन वर्ष 1940 से 1960 के बीच अपने चरम पर पहुँच गया।

वर्ष 1961 में पुर्तगालियों के साथ राजनयिक प्रयासों की विफलता के बाद भारत सरकार द्वारा ऑपरेशन विजय चलाकर 19 दिसंबर को दमन और दीव तथा गोवा को भारतीय मुख्य भूमि के साथ मिला लिया गया।30 मई 1987 को इस क्षेत्र का विभाजन हुआ और गोवा का गठन हुआ तथा दमन और दीव को केंद्रशासित प्रदेश बनाया गया।

30 मई को गोवा के स्थापना दिवस (Statehood Day of Goa) के रूप में मनाया जाता है।

SOURCE-PIB

PAPER-G.S.1

 

कंट्रोल्ड एरियल डिलीवरी सिस्टम

गरा के हवाई वितरण अनुसंधान एवं विकास प्रतिष्ठान (एडीआरडीई) ने 18 दिसंबर 2021 को 500 किलोग्राम क्षमता (सीएडीएस-500) के कंट्रोल्ड एरियल डिलीवरी सिस्टम का हवाई प्रदर्शन किया। एडीआरडीई, आगरा रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) की एक अनुसंधान व विकास प्रयोगशाला है और यह हवाई प्रदर्शन स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ मनाने के लिए आयोजित गतिविधियों की श्रृंखला का एक हिस्सा है।

सीएडीएस-500 का उपयोग रैम एयर पैराशूट (आरएपी) की युद्धाभ्यास क्षमताओं का उपयोग करके पूर्व निर्धारित स्थान पर 500 किलोग्राम तक के पेलोड की सटीक डिलीवरी के लिए किया जाता है। यह अपनी उड़ान के दौरान सभी आवश्यक जानकारी के लिए निर्देशांक, ऊंचाई और शीर्षक सेंसर में ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम का उपयोग करता है। सीएडीएस, अपनी ऑनबोर्ड इलेक्ट्रॉनिक्स इकाई के साथ, ऑपरेटिंग नियंत्रण प्रणाली द्वारा निर्धारित लक्ष्य स्थल की ओर वेपॉइंट नेविगेशन का उपयोग करके अपने उड़ान पथ को स्वायत्त रूप से संचालित करता है।

इसने मालपुरा के ड्रॉप जोन में 5000 मीटर की ऊंचाई से कार्यप्रणाली का सफलतापूर्वक प्रदर्शन किया गया। सिस्टम को एएन32 विमान से पैरा-ड्रॉप किया गया था और फिर स्वायत्त मोड में पूर्वनिर्धारित लैंडिंग बिंदु पर ले जाया गया था। भारतीय सेना और भारतीय वायु सेना के ग्यारह पैराट्रूपर्स ने हवा में सीएडीएस-500 का पीछा किया और एक साथ नीचे उतरे।

SOURCE-PIB

PAPER-G.S.3

 

टाइफून राय

16 दिसंबर, 2021 को, टाइफून राय ने फिलीपींस के दक्षिण-पूर्वी हिस्से में दस्तक दी, जिससे भारी बारिश और बाढ़ आई, जिससे एक बड़े क्षेत्र में हजारों लोग विस्थापित हुए।

मुख्य बिंदु

  • ‘राय’ वर्ष 2021 में देश में आने वाला 15वां प्रमुख मौसम विक्षोभ (weather disturbance) था।
  • इसे 120 मील प्रति घंटे की निरंतर हवाओं के साथ सुपर टाइफून के रूप में वर्गीकृत किया गया। इसकी गति 168 मील प्रति घंटे तक थी।

टाइफून राय (Typhoon Rai)

टाइफून राय को फिलीपींस में टाइफून ओडेट (Typhoon Odette ) कहा जाता है। यह वर्तमान में एक शक्तिशाली उष्णकटिबंधीय चक्रवात (tropical cyclone) है, जिसने पलाऊ द्वीप के पास से गुजरने के बाद फिलीपींस को प्रभावित किया। यह दिसंबर महीने में श्रेणी 5 का पहला सुपर टाइफून बना। बाद में यह लगातार कमजोर होता गया, क्योंकि यह विसायस को पार कर सुलु सागर से होते हुए बाहर निकल गया।

सुलु सागर (Sulu Sea)

सुलु सागर फिलीपींस के दक्षिण-पश्चिमी क्षेत्र में एक जल निकाय है। इस सागर में कई द्वीप शामिल हैं :

  1. कुयो द्वीप
  2. कागायन द्वीप समूह
  3. टर्टल द्वीप

फिलीपींस

फिलीपींस एक द्वीपसमूह देश है, जो दक्षिण पूर्व एशिया में स्थित है। यह पश्चिमी प्रशांत महासागर में स्थित है। इसमें लगभग 7,640 द्वीप शामिल हैं। इन द्वीपों को मोटे तौर पर तीन मुख्य भौगोलिक प्रभागों में वर्गीकृत किया गया है- लूजोन, विसायस और मिंडानाओ।

SOURCE-THE HINDU

PAPER-G.S.1 PRE

 

एल्गो ट्रेडिंग

ब्रोकरेज हाउसेज के अनुसार, सेबी द्वारा एप्लिकेशन प्रोग्रामिंग इंटरफेस (API) से उत्पन्न होने वाले सभी ऑर्डर को एल्गोरिथम या एल्गो ऑर्डर के रूप में मानने का प्रस्ताव भारत में इस तरह के व्यापार के विकास में बाधा उत्पन्न कर सकता है।

मुख्य बिंदु

  • एल्गो ट्रेडिंग का अर्थ उस ऑर्डर से है जो स्वचालित निष्पादन तर्क (automated execution logic) का उपयोग करके उत्पन्न होता है।
  • एल्गो ट्रेडिंग सिस्टम लाइव स्टॉक की कीमतों पर स्वचालित रूप से नज़र रखता है और सभी मानदंडों को पूरा करने पर एक ऑर्डर शुरू करता है।
  • यह प्रणाली ट्रेडर को लाइव स्टॉक की कीमतों की निगरानी से मुक्त करती है।

ब्रोकरेज हाउसेज ने क्या चिंता जताई है?

ब्रोकरेज हाउसेज का विचार है कि एल्गो बाजार को विनियमित करने की आवश्यकता है। क्योंकि कुछ वेंडर्स द्वारा किए गए झूठे वादों के चलते कई निवेशकों ने काफी पैसा खो दिया है। हालांकि, कुछ चुनिन्दा बुरे मामलों से निपटने के लिए, सेबी के नियम बाधाएं डाल रहा है जो भारत में एल्गो ट्रेडिंग के विकास को प्रतिबंधित कर सकता है।

एल्गोरिथम ट्रेडिंग (Algorithmic Trading)

एल्गोरिथम ट्रेडिंग मूल्य, समय और मात्रा जैसे चर (variables) के लिए स्वचालित पूर्व-प्रोग्राम किए गए ट्रेडिंग निर्देशों (automated pre-programmed trading instructions) का उपयोग करके ऑर्डर प्लेस करने का एक तरीका है। इस तरह की ट्रेडिंग मानव व्यापारियों के मुकाबले कंप्यूटर की गति और कम्प्यूटेशनल संसाधनों का लाभ उठती है। यह रिटेल ट्रेडर्स और साथ ही संस्थागत व्यापारियों (institutional traders) में काफी लोकप्रिय हो रहा है। इसका उपयोग निवेश बैंकों, म्यूचुअल फंड, पेंशन फंड और हेज फंड द्वारा किया जाता है। 2019 के एक अध्ययन के अनुसार, विदेशी मुद्रा बाजार में लगभग 92% ट्रेडिंग ट्रेडिंग एल्गोरिदम द्वारा की गई थी।

भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (Securities and Exchange Board of India – SEBI)

सेबी भारत में प्रतिभूतियों और कमोडिटी बाजार के लिए नियामक निकाय है। यह वित्त मंत्रालय के स्वामित्व में काम करता है। सेबी को 12 अप्रैल, 1988 को गैर-सांविधिक निकाय के रूप में स्थापित किया गया था। इसे वैधानिक अधिकार दिए गए थे और सेबी अधिनियम, 1992 द्वारा 30 जनवरी 1992 को यह स्वायत्त निकाय बन गया था।

SOURCE-GK TODAY

PAPER-G.S.3

 

भारत-वियतनाम

17 दिसंबर, 2021 को भारत और वियतनाम ने सूचना प्रौद्योगिकी (IT) के क्षेत्र में सहयोग के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किए।

मुख्य बिंदु

  • दोनों देशों के मंत्रियों ने डिजिटल अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए अपने-अपने देशों द्वारा की गई कई पहलों पर विचारों का आदान-प्रदान किया।
  • मंत्रियों ने दोनों देशों के बीच ICT व्यापार और सहयोग बढ़ाने पर भी सहमति व्यक्त की।
  • मंत्रियों ने यह भी नोट किया कि हालांकि पिछले कुछ वर्षों में दोनों देशों के बीच सक्रिय भागीदारी रही है। तथापि, आगे सहयोग तलाशने की अपार संभावनाएं हैं।

IT में सहयोग पर समझौता ज्ञापन

मंत्रियों ने सूचना प्रौद्योगिकी में सहयोग पर भारत-वियतनाम समझौता ज्ञापन का विस्तार करने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए। यह समझौता ज्ञापन ICT क्षेत्र में दोनों पक्षों के क्षमता निर्माण और अन्य सार्वजनिक और निजी संगठनों को बढ़ाने में शामिल सरकारों, निजी संस्थाओं और संस्थानों के बीच सक्रिय सहयोग और आदान-प्रदान को बढ़ावा देना चाहता है।

भारत-वियतनाम संबंध (India–Vietnam Relations)

भारत और वियतनाम के बीच आर्थिक और सांस्कृतिक संबंध दूसरी शताब्दी के हैं। इंडिक चाम पा साम्राज्य (Indic Cham Pa Kingdom) ने वियतनामी संगीत को प्रभावित किया था। दोनों देशों के बीच वर्तमान संबंधों को साझा राजनीतिक हितों के कई क्षेत्रों द्वारा शासित किया गया है। 1992 में, दोनों देशों ने कृषि, तेल की खोज और विनिर्माण सहित व्यापक आर्थिक संबंध स्थापित किए। उनके संबंधों, विशेष रूप से रक्षा संबंधों को भारत की ‘पूर्व की ओर देखो नीति’ (Look East Policy) से व्यापक रूप से लाभ हुआ। द्विपक्षीय सैन्य सहयोग में सैन्य उपकरणों की बिक्री, संयुक्त नौसैनिक अभ्यास, खुफिया जानकारी साझा करना और आतंकवाद विरोधी युद्ध में प्रशिक्षण शामिल है।

सामरिक भागीदारी

भारत और वियतनाम के बीच द्विपक्षीय संबंधों को जुलाई 2007 में “रणनीतिक साझेदारी” में अपग्रेड किया गया था, जब वियतनामी प्रधानमंत्री गुयेन तान डुंग ने भारत का दौरा किया था। सितंबर 2016 में इसे “व्यापक रणनीतिक साझेदारी” में अपग्रेड किया गया था, जब भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वियतनाम का दौरा किया था।

मोस्ट फेवर्ड नेशन स्टेटस

भारत ने 1975 में वियतनाम को “मोस्ट फेवर्ड नेशन” का दर्जा दिया था।

वियतनाम (आधिकारिक तौर पर वियतनाम समाजवादी गणराज्य) दक्षिणपूर्व एशिया के हिन्दचीन प्रायद्वीप के पूर्वी भाग में स्थित एक देश है। इसके उत्तर में चीन, उत्तर पश्चिम में लाओस, दक्षिण पश्चिम में कंबोडिया और पूर्व में दक्षिण चीन सागर स्थित है। २००८ में ८ करोड़ ६१ लाख की जनसंख्या के साथ वियतनाम दुनिया में १३वाँ सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश है। बौद्ध धर्म यहां का प्रमुख धर्म है जो देश जनसंख्या का ८५% हिस्सा है। और बौद्ध जनसंख्या में ये दुनिया का तीसरा बड़ा देश है (चीन और जापान के बाद)। वियतनाम में आज करीब ७.५ करोड़ बौद्ध धर्म के अनुयायी है

SOURCE-GK TODAY

PAPER-G.S.2

 

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने महिलाओं की शादी की उम्र 21 करने को मंजूरी दी

15 दिसंबर, 2021 को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने महिलाओं की शादी की उम्र 18 साल से बढ़ाकर 21 साल करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी।

पृष्ठभूमि

अगस्त 2020 में स्वतंत्रता दिवस के संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा इसकी घोषणा के एक साल बाद इस प्रस्ताव को मंजूरी दी गई।

शादी के लिए वर्तमान उम्र

वर्तमान में, पुरुषों के लिए विवाह की न्यूनतम आयु 21 वर्ष है जबकि महिलाओं के लिए यह 18 वर्ष है।

फोर्स टास्क

जया जेटली की अध्यक्षता में टास्क फोर्स का गठन जून 2020 में किया गया था। इसका गठन महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा लड़कियों के लिए शादी की सही उम्र की फिर से जांच करने के लिए किया गया था। इसने दिसंबर 2020 में रिपोर्ट दी। इसने सिफारिश की थी कि, पहले बच्चे को जन्म देने के समय महिलाओं की न्यूनतम आयु 21 वर्ष होनी चाहिए। इस टास्क फोर्स ने लड़कियों के लिए शादी की आयु 18 वर्ष से बढ़ाकर 21 वर्ष करने की सिफारिश की। प्रस्ताव ने विवाह की उम्र को स्वास्थ्य और सामाजिक सूचकांकों जैसे मातृ मृत्यु दर, शिशु मृत्यु दर और माताओं और बच्चों में पोषण के स्तर से भी जोड़ा।

अब किन अधिनियमों में संशोधन किया जाएगा?

इस प्रस्ताव को मंजूरी मिलने से सरकार नए प्रस्ताव को आकार देने के लिए बाल विवाह निषेध अधिनियम, हिंदू विवाह अधिनियम और विशेष विवाह अधिनियम में संशोधन लाएगी।

महत्व

विवाह में देरी से महिलाओं, बच्चों, परिवारों और समाज के आर्थिक, सामाजिक और स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। यह महिलाओं को कुपोषण से भी बचाएगा।

SOURCE-GK TODAY

PAPER-G.S.1