Current Affair 8 December 2021

Current Affairs – 8 December, 2021

वेसल्स स्क्वाड्रन को राष्ट्रपति मानक दिया गया

राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने आज मुंबई में एक औपचारिक समारोह में भारतीय नौसेना के 22वें मिसाइल वेसल्स स्क्वाड्रन को ‘राष्ट्रपति मानक’ प्रदान किया।

राष्ट्रपति का मानक  किसी सैन्य इकाई द्वारा राष्ट्र के लिए की गई सेवा को मान्यता देने के लिए सर्वोच्च कमांडर द्वारा दिया जाने वाला सर्वोच्च सम्मान है।

इस अवसर पर बोलते हुए राष्ट्रपति श्री कोविंद ने कहा कि “इस स्क्वाड्रन को मानक का दिया जाना इसके अतीत और वर्तमान के अधिकारियों और नाविकों द्वारा हमारे देश के लिए  की गई असाधारण सेवाओं का प्रमाण है।” उन्होंने पचास साल पहले 1971 के युद्ध के दौरान पाकिस्तानी नौसेना के जहाजों को डुबोने में 22वीं मिसाइल स्क्वाड्रन द्वारा निभाई गई भूमिका को याद किया।

आत्म निर्भर भारत की दृष्टि के हिस्से के रूप में स्वदेशीकरण के प्रति भारतीय नौसेना की प्रतिबद्धता पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए राष्ट्रपति ने कहा, “नौसेना की यह प्रतिबद्धता छत्रपति शिवाजी महाराज को एक श्रद्धांजलि है जिन्हें कई इतिहासकार सत्रहवीं शताब्दी में युद्ध के लिए तैयार भारतीय नौसैनिक बल के संस्थापक के रूप में मानते हैं।

राष्ट्रपति ने कहा कि भारत-प्रशांत महासागर क्षेत्र में उभरती भू-राजनीतिक चुनौतियों ने देश को एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने का अवसर दिया है। उन्होंने कहा कि “वैश्विक समुद्री व्यापार का एक बड़ा हिस्सा हिंद महासागर क्षेत्र से होकर गुजरता है। इसलिए, न केवल हमारे लिए बल्कि पूरे वैश्विक समुदाय के लिए भी इस क्षेत्र में शांति बनाए रखना सबसे महत्वपूर्ण है।” श्री कोविंद ने कहा कि दुनिया की प्रमुख नौसेनाओं में से एक भारतीय नौसेना को हमारे समुद्री पड़ोसी हिंद महासागर क्षेत्र में एक पसंदीदा सुरक्षा भागीदार के रूप में देखते हैं।

राष्ट्रपति कोविंद ने मानवीय संकटों तथा प्राकृतिक आपदाओं के दौरान लोगों की सहायता करने में भारतीय नौसेना द्वारा निभाई गई भूमिका की भी सराहना की। उन्होंने पिछले साल कोविड 19 और महाराष्ट्र-गुजरात तट पर चक्रवात के दौरान बचाव कार्यों में नागरिकों के प्रत्यावर्तन में इसकी भूमिका की भी प्रशंसा की।

22वीं मिसाइल वेसल स्क्वाड्रन

22वीं मिसाइल वेसल स्क्वाड्रन को औपचारिक रूप से अक्टूबर 1991 में मुंबई में दस ‘वीर श्रेणी’ और तीन ‘प्रबल श्रेणी’ मिसाइल नौकाओं के साथ स्थापित किया गया था। हालांकि, ‘मारक’ की उत्पत्ति तो इससे पहले ही वर्ष 1969 में हो गई जब भारतीय नौसेना की ताकत को बढ़ाने के लिए तत्कालीन सोवियत रूस से ओएसए-1 क्लास मिसाइल बोट शामिल किया गया था।

दिसंबर 04-05, 1971 की रात को युवा भारतीय नौसेना के सबसे कम उम्र के योद्धाओं ने दुश्मन का पहला खून बहाया जब उन्होंने पाकिस्तानी नौसेना पर एक विनाशकारी आक्रमण किया। भारतीय नौसेना के ‘निर्घट’, ‘निपत’ और ‘वीर’ जहाजों ने अपनी स्टाइक्स मिसाइलें दागीं और पाकिस्तानी नौसेना के जहाजों ‘खैबर’ और ‘मुहाफ़िज़’ को डूबो दिया जिससे पाकिस्तानी नौसेना की आकांक्षाओं को घातक झटका लगा। ‘ऑपरेशन ट्राइडेंट’ गुप्त नाम वाले इस ऑपरेशन को आधुनिक नौसैनिक इतिहास में सबसे सफल कार्यवाहियों में से एक माना जाता है जिसमें कोई भारतीय बल हताहत नहीं हुआ।

भारतीय नौसेना ने 8/9 दिसंबर की रात को एक और साहसी हमला किया जब आईएनएस ‘विनाश’ ने दो युद्धपोतों के साथ चार स्टाइक्स मिसाइलें दागी जिसमें पाकिस्तान नौसेना बेड़े के टैंकर ‘ढाका’ को डुबो दिया गया और कराची में ‘केमारी’ तेल भंडारण सुविधा को काफी नुकसान पहुंचाया गया। स्क्वाड्रन के जहाजों और सैनिकों के वीरतापूर्ण कार्यों के कारण ही इस स्क्वाड्रन ने ‘मारक’ की उपाधि अर्जित की।

SOURCE-PIB

PAPER-G.S.1 PRE

 

प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल ने आज ‘प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण (पीएमएवाई-जी)’ को मार्च 2021 के बाद भी जारी रखने संबंधी ग्रामीण विकास विभाग के प्रस्‍ताव को मंजूरी दे दी है जिसके तहत कुल 2.95 करोड़ आवासों के लक्ष्य के अंतर्गत शेष 155.75 लाख आवासों के निर्माण के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।

कैबिनेट द्वारा दी गई मंजूरी का विवरण इस प्रकार है:

  • 95 करोड़ आवासों के कुल लक्ष्य के अंतर्गत शेष आवासों का निर्माण कार्य पूरा करने के लिए मौजूदा मानदंडों के अनुसार मार्च 2021 के बाद भी मार्च 2024 तक ‘पीएमएवाई-जी’ को जारी रखना।
  • पीएमएवाई-जी के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में 95 करोड़ आवासों के समग्र लक्ष्य को प्राप्त करने हेतु शेष 155.75 लाख आवासों के निर्माण के लिए कुल वित्तीय भार 2,17,257 करोड़ रुपये (केंद्रीय हिस्सा 1,25,106 करोड़ रुपये और राज्य का हिस्सा 73,475 करोड़ रुपये) है। नाबार्ड को ब्याज चुकाने के लिए 18,676 करोड़ रुपये की अतिरिक्त आवश्यकता।
  • ‘ईबीआर’ को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने और पूरी योजना के वित्त पोषण का इंतजाम सकल बजटीय सहायता (जीबीएस) के जरिए करने के बारे में निर्णय वित्त मंत्रालय के परामर्श से लिया जाएगा।
  • असम एवं त्रिपुरा को छोड़कर प्रत्येक छोटे राज्य यथा हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, गोवा, पंजाब, उत्तराखंड, पूर्वोत्तर राज्यों और जम्मू-कश्मीर को छोड़ सभी केंद्र शासित प्रदेशों को प्रशासनिक कोष के केंद्रीय हिस्से (2% के कुल प्रशासनिक कोष में से 3%) में से सालाना अतिरिक्त 45 लाख रुपये का प्रशासनिक कोष जारी करना, जो उक्त राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों को जारी किए गए 1.70 प्रतिशत के प्रशासनिक कोष के अतिरिक्‍त होगा।
  • कार्यक्रम प्रबंधन इकाई (पीएमयू) और राष्ट्रीय तकनीकी सहायता एजेंसी (एनटीएसए) को वित्त वर्ष 2023-24 तक जारी रखना।

लाभ:

इस योजना को मार्च 2024 तक जारी रखने से यह सुनिश्चित होगा कि ‘पीएमएवाई-जी’ के तहत 2.95 करोड़ आवासों के समग्र लक्ष्य के अंतर्गत शेष 155.75 लाख परिवारों को बुनियादी सुविधाओं से युक्‍त ‘पक्के मकानों’ के निर्माण के लिए वित्‍तीय सहायता प्रदान की जाएगी, ताकि ग्रामीण क्षेत्रों में ‘सबके लिए आवास’ के उद्देश्य को प्राप्त किया जा सके।

29 नवंबर 2021 तक पीएमएवाई-जी के तहत कुल 2.95 करोड़ आवासों के लक्ष्य में से 1.65 करोड़ आवासों का निर्माण किया जा चुका है। यह अनुमान है कि 2.02 करोड़ आवास, जोकि एसईसीसी 2011 डेटाबेस पर आधारित स्थायी प्रतीक्षा सूची के लगभग बराबर है, 15 अगस्त 2022 की समय सीमा तक पूरे हो जाएंगे। इसलिए 2.95 करोड़ आवासों के समग्र लक्ष्य को हासिल करने के लिए योजना को मार्च 2024 तक जारी रखने की आवश्यकता है।

SOURCE-PIB

PAPER-G.S.1 PRE

 

आई-स्प्रिंट’21 के तहत हैकाथन स्प्रिंट04: मार्केट-टेक का शुभारंभ

भारत के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने 3 दिसंबर 2021 को आईएफएससीए के पहले प्रमुख वित्तीय प्रौद्योगिकी और वैश्विक विचार नेतृत्व कार्यक्रम “इनफिनिटी फोरम 2021” का उद्घाटन किया। यह कार्यक्रम 3 और 4 दिसंबर 2021 को भारत सरकार के तत्वावधान में और वर्चुअल मोड में गिफ्ट सिटी तथा ब्लूमबर्ग के सहयोग से अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केन्‍द्र प्राधिकरण (आईएफएससीए) द्वारा आयोजित किया गया था। इसने 70+ देशों के 95,000+ से अधिक पंजीकरण देखे।

“इन्फिनिटी फोरम, 2021” के समापन की ओर, आईएफएससीए ने 4 दिसंबर 2021 को फिनटेक हैकाथन “स्प्रिंट04: मार्केट-टेक” की शुरूआत की। यह हैकाथन पूंजीगत बाजार खंड पर केन्द्रित है और एक नियामक द्वारा समर्थित अपनी तरह का एक है। इसका वर्चुअल आयोजन किया जा रहा है और दुनिया भर के पात्र फिनटेक के लिए खुला है।

केन्‍द्रीय बजट 2020-21 में माननीय वित्त मंत्री द्वारा जीआईएफटी आईएफएससी, आईएफएससीए में “विश्‍वस्‍तरीय फिनटेक केन्‍द्र” का समर्थन करने की घोषणा के बाद,  अक्टूबर 2020 में “रेगुलेटरी सैंडबॉक्स” के लिए एक ढांचा पेश किया था जो फिनटेक संस्थाओं को सीमित समय सीमा के लिए वास्तविक ग्राहकों के सीमित सेट के साथ एक जीवंत वातावरण में अभिनव फिनटेक समाधानों के साथ प्रयोग करने के लिए सुविधाओं और लचीलेपन की अनुमति देता है। आईएफएससी में बैंकिंग, बीमा, प्रतिभूतियों और फंड प्रबंधन के क्षेत्र में वित्तीय उत्पादों और वित्तीय सेवाओं में वित्तीय प्रौद्योगिकियों (‘फिनटेक’) की पहल को बढ़ावा देने के लिए, आईएफएससीए ने आई-स्प्रिंट’21 के बैनर के अंतर्गत इन क्षेत्रों में हैकाथन की एक श्रृंखला शुरू की है। इस हैकाथन के फाइनलिस्ट को आईएफएससीए नियामक/नवाचार सैंडबॉक्स में सीधे प्रवेश की अनुमति होगी।

स्प्रिंट04: एनएसई के सहयोग से आईएफएससीए और गिफ्ट सिटी द्वारा मार्केट-टेक की मेजबानी की जाती है। हैकाथन के भागीदार हैं ज़ेरोधा, पीडब्ल्यूसी, चेनफ्लक्स, टैलेंट-स्प्रिंट, आईक्रिएट, आईआईएम-बी (एनएसआरसीईएल), और इन्वेस्ट-इंडिया।

इस हैकथॉन का संक्षिप्‍त विवरण है (ए) गिफ्ट आईएफएससी में खुदरा पूंजी बाजार उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए समाधान, (बी) गिफ्ट-आईएफएससी में हरित वित्त उत्पादों में बैंकों, संस्थागत निवेशकों और खुदरा निवेशकों की भागीदारी को प्रोत्साहित करने के लिए समाधान, (सी) ए भौतिक संपत्तियों के टोकन और आंशिक स्वामित्व के लिए वितरित लेजर प्रौद्योगिकी पर आधारित समाधान, (डी) वेब 3.0 पर अभिनव समाधान पूंजी बाजार पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं और (ई) भारत या विदेश में जारी किए गए असूचीबद्ध बांडों के लिए विकेन्द्रीकृत एक्सचेंज/ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के रूप में एक अभिनव समाधान डिज़ाइन किया जा सकता है।

स्प्रिंट04 के तहत प्रस्तावित प्रमुख पुरस्कार और मान्यता: मार्केट-टेक हैं:

  • आईएफएससीए रेगुलेटरी/इनोवेशन सैंडबॉक्स में सीधे प्रवेश। सैंडबॉक्स से सफलतापूर्वक बाहर निकलने के बाद, फिनटेक को गिफ्ट आईएफएससी में व्यवसाय स्थापित करने का अवसर मिलता है।
  • विनियामक मार्गदर्शन और सहयोग।
  • सहयोगी कंपनियों से एपीआई, परामर्श और मार्गदर्शन प्राप्त करने का अवसर।
  • सैंडबॉक्स प्रयोग चरण के दौरान विभिन्न प्रोत्साहनों (5 मिलियन भारतीय रुपये प्रति फिनटेक तक) का लाभ उठाने का अवसर; आईएफएससीए के नियमों और शर्तों के अधीन।
  • एनएसई द्वारा प्रायोजित भारतीय रुपये 20 लाख (अधिकतम 5 विजेता) की पुरस्कार राशि।

SOURCE-PIB

G.S.3

 

हॉर्नबिल महोत्सव

हॉर्नबिल फेस्टिवल, जिसे ‘त्योहारों का त्योहार’ कहा जाता है, नागालैंड का 10-दिवसीय वार्षिक सांस्कृतिक उत्सव है जो लोक नृत्यों, पारंपरिक संगीत, स्थानीय व्यंजनों, हस्तशिल्प, कला कार्यशालाओं आदि के माध्यम से समृद्ध और विविध नागा जातीयता को प्रदर्शित करता है।

हर साल हॉर्नबिल उत्सव 1 दिसंबर से 10 दिसंबर के बीच पूर्वोत्तर क्षेत्र और नागालैंड राज्य में मनाया जाता है। इस त्योहार का नाम भारतीय हॉर्नबिल पक्षी के नाम पर रखा गया है। यह एक बड़ा और रंगीन वन पक्षी है। इस त्योहार का नाम इस पक्षी के नाम पर रखा गया है क्योंकि यह नागालैंड राज्य के अधिकांश आदिवासियों की लोककथाओं में प्रदर्शित होता है।

आर्थिक क्षमता

इस त्योहार ने भारत के उत्तर पूर्वी हिस्से में महत्वपूर्ण पर्यटन राजस्व में योगदान दिया है। यह मुख्य रूप से इसलिए है क्योंकि हॉर्नबिल त्योहार नागालैंड की विभिन्न जनजातियों में एक अंतर्दृष्टि प्रदान करता है। यह शिल्प, खेल, धार्मिक समारोहों और भोजन मेलों का एक रंगीन मिश्रण प्रदान करता है। इस त्योहार के दौरान नागा मोरंग प्रदर्शनी भी आयोजित की जाती है।

नागा मोरंग (Naga Morungs)

नागा मोरंगों को नागा भी कहा जाता है। वे उत्तर पश्चिमी म्यांमार और उत्तर पूर्वी भारत के मूल निवासी जातीय समूह हैं। इन समूहों की संस्कृति समान है और ये नागालैंड और नागा स्व-प्रशासित क्षेत्र में बहुसंख्यक आबादी का निर्माण करते हैं। नागा स्व-प्रशासित क्षेत्र म्यांमार के सागिंग क्षेत्र के नागा पहाड़ियों में स्थित है।

अन्य नागा महोत्सव

हॉर्नबिल त्योहार के अलावा, नागाओं का अन्य लोकप्रिय त्योहार लुई नगाई नी (Lui Ngai Ni) है। यह बीज बोने का त्योहार है जो मणिपुर की नागा जनजातियों द्वारा मनाया जाता है। यह वसंत के मौसम की शुरुआत को चिह्नित करने के लिए फरवरी के महीने में मनाया जाता है।

हॉर्नबिल

हॉर्नबिल पक्षी उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय एशिया, अफ्रीका और मेलानेशिया में पाया जाता है। इस त्योहार का नाम इस पक्षी के नाम पर रखा गया है, क्योंकि यह कई स्थानीय लोककथाओं का केंद्र है। साथ ही राज्य की जनजातियां इस पक्षी को पवित्र मानती हैं। हॉर्नबिल पक्षी की IUCN स्थिति “खतरे के निकट” है।

SOURCE-DANIK JAGRAN

PAPER-G.S.1

 

PANEX-21

PANEX-21 एक मानवीय सहायता और आपदा राहत अभ्यास है। यह बिम्सटेक देशों के लिए आयोजित किया जायेगा।

PANEX-21

  • यह एक बहुराष्ट्रीय आपदा राहत अभ्यास है।
  • यह अभ्यास बिम्सटेक देशों के बीच आयोजित जायेगा, इन देशों में शामिल हैं : भूटान, बांग्लादेश, नेपाल, म्यांमार, श्रीलंका, भारत और थाईलैंड।
  • इस अभ्यास का मुख्य उद्देश्य प्राकृतिक आपदाओं के जवाब में क्षेत्रीय सहयोग का निर्माण करना है।
  • इसका आयोजन पुणे में 20 दिसंबर से 22 दिसंबर तक किया जायेगा।

यह अभ्यास कैसे आयोजित किया जाएगा?

  • यह प्राकृतिक आपदा के जवाब में सदस्य देशों की क्षमताओं का विश्लेषण करेगा। देश अपनी सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करेंगे।
  • अभ्यास तैयारियों और प्रतिक्रिया की प्रक्रियाओं की समीक्षा करेगा। इसके बाद यह संगठित ढांचे के विकास की सिफारिश करेगा।
  • इस अभ्यास के दौरान, देश सैन्य-से-सैन्य सहयोग प्रोटोकॉल पर चर्चा करेंगे।

यह अभ्यास महत्वपूर्ण क्यों है?

  • हाल ही में बंगाल की खाड़ी में आए चक्रवात और अधिक विनाशकारी होते जा रहे हैं। यह मुख्य रूप से जलवायु परिवर्तन के कारण है। समुद्र की सतह के तापमान में वृद्धि चक्रवातों को और अधिक शक्तिशाली बना रही है। समुद्र की सतह के तापमान में वृद्धि से चक्रवातों की हवा की गति बढ़ जाती है। चक्रवात अम्फान से 13 अरब अमेरिकी डॉलर का नुकसान हुआ था।

SOURCE-GK TODAY

PAPER-G.S.2

 

अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन दिवस

हर साल, अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन दिवस 7 दिसंबर को मनाया जाता है। यह संयुक्त राष्ट्र और कई अन्य अंतर्राष्ट्रीय संगठनों द्वारा मनाया जाता है।

अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन दिवस 2021 की थीम

2021 में, अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन दिवस निम्नलिखित विषय के तहत मनाया जाता है:

“Advancing Innovation for Global Aviation Development”

ICAO यह दिवस क्यों मनाता है?

ICAO (International Civil Aviation Organisation) अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन पर कन्वेंशन पर हस्ताक्षर करने के उपलक्ष्य में यह दिन मनाता है। 7 दिसंबर, 1944 को शिकागो में इस पर हस्ताक्षर किए गए थे। इस सम्मेलन के तहत ICAO की स्थापना की गई थी। यह एक संयुक्त राष्ट्र एजेंसी है जो हवाई यात्रा का समन्वय करती है। अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन पर सम्मेलन ने विमान पंजीकरण, हवाई क्षेत्र, सुरक्षा, स्थिरता और सुरक्षा के लिए नियम स्थापित किए।

ICAO की भूमिका

  • अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन दिवस 1994 से ICAO (अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन) द्वारा मनाया जाता है। यह संयुक्त राष्ट्र की एक विशेष एजेंसी है।
  • ICAO उड़ान निरीक्षण, हवाई नेविगेशन, सीमा पार प्रक्रियाओं से संबंधित प्रथाओं की सिफारिश करता है। यह हवाई दुर्घटनाओं की जांच के प्रोटोकॉल को परिभाषित करता है।
  • ICAO का तकनीकी निकाय एयर नेविगेशन कमीशन है।

आवश्यकता

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, 120 मिलियन से अधिक यात्री दैनिक आधार पर हवाई यात्रा करते हैं। हवाई यात्रा उद्योग 65.5 मिलियन नौकरियों का समर्थन करता है। यह दिन वैश्विक कनेक्टिविटी में सुधार के लिए विमानन के महत्व पर प्रकाश डालता है। इस प्रकार, अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन दिवस मनाना महत्वपूर्ण है।

SOURCE-GK TODAY

PAPER-G.S.1 PRE

 

सशस्त्र सेना झंडा दिवस

सशस्त्र बल झंडा दिवस भारत में 7 दिसम्बर, 1949 से मनाया जा रह है, यह दिन लोगों से धन का संग्रह की दिशा में समर्पित है। एकत्रित धन का उपयोग सशस्त्र कर्मियों, पूर्व सैनिकों के कल्याण और युद्ध के हताहतों के पुनर्वास के लिए किया जाएगा।

इतिहास

जैसे ही भारत ने स्वतंत्रता प्राप्त की, भारत सरकार के लिए रक्षा कर्मियों के कल्याण का प्रबंधन करने की आवश्यकता उत्पन्न हुई। 1949 में तत्कालीन रक्षा मंत्री बलदेव सिंह की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया गया था। समिति ने 7 दिसंबर को प्रतिवर्ष झंडा दिवस मनाने की सिफारिश की। सशस्त्र सेना झंडा दिवस पर जनता द्वारा किए गए दान के बदले आम जनता को छोटे झंडे वितरित किए जाएंगे।

सशस्त्र सेना झंडा दिवस का मुख्य उद्देश्य क्या है?

सशस्त्र सेना झंडा दिवस मुख्य रूप से सेवारत कर्मियों और उनके परिवारों के कल्याण, युद्ध में हताहतों के पुनर्वास और पूर्व सैनिकों और उनके परिवारों के पुनर्वास पर केंद्रित है।

सशस्त्र सेना झंडा दिवस कोष

1949 में बलदेव सिंह समिति ने झंडा दिवस कोष की स्थापना की। 1993 में, भारत के रक्षा मंत्रालय ने संबंधित कल्याण कोष को सशस्त्र सेना झंडा दिवस कोष में समेकित किया। इनमें फ्लैग डे फंड, युद्ध शोक संतप्त, भूतपूर्व सैनिकों और युद्ध विकलांगों के लिए समामेलित विशेष कोष, भारतीय गोरखा भूतपूर्व सैनिक कल्याण कोष और केंद्रीय सैनिक बोर्ड कोष शामिल हैं।

फंड कौन जमा करता है?

रक्षा मंत्रालय के तहत संचालित केंद्रीय सैनिक बोर्ड धन एकत्र करता है।

भारतीय राष्ट्रीय ध्वज

राष्ट्रीय ध्वज में सबसे ऊपर केसरिया रंग शक्ति को दर्शाता है, ध्वज के बीच में सफेद रंग शांति और सच्चाई का प्रतिनिधित्व करता है और हरा रंग विकास, उर्वरता और समृद्धि का प्रतिनिधित्व करता है। बीच में गहरा नीला चक्र अशोक चक्र है। इसमें 24 तीलियाँ हैं जो 24 जीवन सिद्धांतों का प्रतिनिधित्व करती हैं।

SOURCE-GK TODAY

PAPER-G.S.1 PRE