Current Affair 14 December 2021

Current Affairs – 14 December, 2021

सामाजिक अधिकारिता शिविर

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय, भारत सरकार के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय द्वारा संचालित ‘राष्ट्रीय वयोश्री योजना’ (आरवीवाई) के अंतर्गत उपकरणों की खरीद/फिटिंग के लिए दिव्यांग व्यक्तियों की सहायता योजना (एडिप-एडीआईपी) के माध्यम से दिव्यांगजनों एवं वरिष्ठ नागरिकों को सहायता एवं सहायक उपकरणों के वितरण हेतु दिनांक 16 दिसंबर 2021 को विभूति नारायण, राजकीय इंटर कॉलेज, ज्ञानपुर, भदोही जिला, उत्तर प्रदेश में एक ‘सामाजिक अधिकारिता शिविर’ का आयोजन किया जायेगा। इस शिविर का आयोजन सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय, भारत सरकार के अंतर्गत शारीरिक रूप से अक्षम–दिव्यांग व्यक्तियों के सशक्तिकरण विभाग (डीईपीडब्ल्यूडी) द्वारा जिला प्रशासन, भदोही (उप्र) एवं सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय, भारत सरकार के अंतर्गत एक मिनीरत्न- द्वितीय सार्वजनिक उपक्रम, भारतीय कृत्रिम अंग निर्माण निगम (आर्टिफिशियल लिम्ब्स मैन्युफैक्चरिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया- एएलआईएमसीओ) के सहयोग से किया जा रहा है।

भारतीय कृत्रिम अंग निर्माण निगम (आर्टिफिशियल लिम्ब्स मैन्युफैक्चरिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया-एएलआईएमसीओ) द्वारा 8 नवंबर से 13 नवंबर 2021 तक विभिन्न स्थानों पर आयोजित मूल्यांकन शिविरों के दौरान भारत सरकार की उपकरणों की खरीद/फिटिंग के लिए दिव्यांग व्यक्तियों की सहायता योजना (एडिप-एडीआईपी) और राष्ट्रीय वयोश्री योजना (आरवीवाई) के तहत कुल 2818 दिव्यांगजनों और वरिष्ठ नागरिक लाभार्थियों की पहचान की गई है।

कोविड-19 महामारी को ध्यान में रखते हुए विभाग द्वारा तैयार की गई मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का पालन करने के बाद 2308 दिव्यांगजनों और 510 वरिष्ठ नागरिक लाभार्थियों के बीच 02 करोड़ 62 लाख रूपये मूल्य के कुल 7759 सहायता और सहायक उपकरणों का नि:शुल्क वितरण किया जाएगा।

SOURCE-PIB

PAPER-G.S.2

 

नवम्‍बर 2021 माह में थोक मूल्य सूचकांक

उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (डीपीआईआईटी) के आर्थिक सलाहकार के कार्यालय ने नवम्‍बर 2021 (अंतिम) और सितम्‍बर 2021 (अंतिम) के लिए थोक मूल्य सूचकांक (आधार वर्षः 2011-12) जारी किया है। थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) के अंतिम आंकड़े प्रत्येक महीने की 14 तारीख (या उसके अगले कार्य दिवस) को संदर्भित महीने के दो सप्ताह के अंतराल के साथ जारी किए जाते हैं और इन्हें संस्थागत स्रोतों और देश भर की चयनित विनिर्माण इकाइयों से प्राप्त आंकड़ों को मिलाकर संकलित किया जाता है। 10 सप्ताह के बाद, इस सूचकांक को अंतिम रूप दिया जाता है और इसके अंतिम आंकड़े जारी किए जाते हैं और उसके बाद इन आंकड़ों को सुरक्षित कर लिया जाता है।

नवम्‍बर 2021 के महीने के लिए (नवम्‍बर 2020 की तुलना में) मुद्रास्फीति की वार्षिक दर 14.23 प्रतिशत (अनंतिम) है जो कि नवम्‍बर 2020 में 2.29 प्रतिशत थी। नवम्‍बर 2021 में मुद्रास्फीति की उच्च दर होने का प्रमुख कारण खनिज तेल, मूल धातु, खाद्य उत्पाद, कच्चा पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस, रसायन और रासायनिक उत्पाद आदि की कीमतों में पिछले साल के नवम्‍बर महीने की तुलना में बढ़ोतरी होना है।

थोक मूल्य सूचकांक के प्रमुख समूह में माह दर माह के आधार पर परिवर्तनः

  1. प्राथमिक वस्तुएं (भारित 22.62 प्रतिशत) : इस प्रमुख समूह का सूचकांक नवम्‍बर, 2021 में (5.75%) बढ़कर 168.6 (अंतिम) हो गया, जो अक्‍टूबर, 2021 के महीने के लिए 159.7 प्रतिशत (अंतिम) था। नवम्‍बर 2021 में अक्‍टूबर 2021 की तुलना में कच्चे पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस (12.24%) और खाद्य पदार्थों की कीमतें (5.81%), खनिज (5.96%), गैर खाद्य वस्‍तुओं (2.15%) में वृद्धि देखी गई।
  2. ईंधन और विद्युत (भारांक 13.15%) :- इस प्रमुख समूह का सूचकांक नवम्‍बर, 2021 में (5.61%) बढ़कर 131.7 (अंतिम) हो गया, जो अक्‍टूबर, 2021 के महीने में 124.7 (अंतिम) था। अक्‍टूबर 2021 की तुलना में नवम्‍बर 2021 में खनिज तेल (8.76%) और कोयला की कीमतों (1.16%) में वृद्धि हुई।
  3. विनिर्मित उत्पाद (भारांक 64.23%) :- इस प्रमुख समूह का सूचकांक नवम्‍बर, 2021 में (0.89%) बढ़कर 136.1 (अंतिम) हो गया, जो अक्‍टूबर, 2021 के महीने के लिए 134.9 (अंतिम) था। विनिर्मित उत्पादों के लिए 22 एनआईसी दहाई अंकों के समूहों में से 16 समूहों की कीमतों में वृद्धि देखी गई; 6 समूहों में कमी देखी गई। कीमतों में वृद्धि मुख्य रूप से बुनियादी धातुओं का निर्माण; रसायन और रासायनिक उत्पादों, टेक्‍सटाइल अन्‍य गैर-धात्विक खनिज उत्‍पाद, कागज और कागज उत्‍पादों के मूल्‍य में बढ़ोतरी के कारण हुई। कुछ समूहों में मूल्‍यों में गिरावट भी देखी गई, जिनमें खाद्य उत्पादों का निर्माण; अन्‍य विनि‍र्माण, विद्युत उपकरण, तम्‍बाकू उत्‍पाद, चमड़ा और संबंधित उत्‍पाद शामिल हैं।

डब्ल्यूपीआई खाद्य सूचकांक (भार 24.38%) : खाद्य सूचकांक, जिसमें प्राथमिक वस्‍तु समूह की ‘खाद्य वस्‍तुएं’ और विनिर्मित उत्पाद समूह के ‘खाद्य उत्पाद’ शामिल हैं, अक्‍टूबर, 2021 के 164.8 से बढ़कर नवम्‍बर, 2021 में 170.4 हो गया है। मुद्रास्फीति की दर डब्ल्यूपीआई पर आधारित खाद्य सूचकांक अक्‍टूबर, 2021 में 3.06% से बढ़कर नवम्बर, 2021 में 6.70% हो गया।

सितम्‍बर 2021 महीने के लिए सूचकांक के अंतिम आंकड़े (आधार वर्षः 2011-12=100) : सितम्‍बर 2021 महीने के लिए ‘सभी जिंसों’ के लिए थोक मूल्य सूचकांक (अंतिम) और मुद्रास्फीति दर (आधार वर्षः 2011-12=100) क्रमशः 137.4 और 11.80% रही। नवम्‍बर 2021 के लिए विभिन्न जिंस समूहों के लिए अखिल भारतीय थोक मूल्य सूचकांक और मुद्रास्फीति की दरों का विवरण अनुलग्नक I में दिया है। पिछले छह महीने में विभिन्न जिंस समूहों के लिए डब्ल्यूपीआई पर आधारित मुद्रास्फीति की वार्षिक दर (वर्ष दर वर्ष) अनुलग्नक II में है। पिछले छह महीनों में विभिन्न जिंस समूहों के लिए डब्ल्यूपीआई सूचकांक अनुलग्नक III में है।

थोक मूल्य सूचकांक

थोक मूल्य सूचकांक (Wholesale Price Index) एक मूल्य सूचकांक है जो कुछ चुनी हुई वस्तुओं के सामूहिक औसत मूल्य का प्रतिनिधित्व करता है। भारत और फिलीपिन्स आदि देश थोक मूल्य सूचकांक में परिवर्तन को महंगाई में परिवर्तन के सूचक के रूप में इस्तेमाल करते हैं। किन्तु भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका अब उत्पादक मूल्य सूचकांक (producer price index) का प्रयोग करने लगे हैं।

भारत में थोक मूल्य सूचकांक

भारत में थोक मूल्य सूचकांक को आधार मान कर महँगाई दर की गणना होती है। हालाँकि थोक मूल्य और ख़ुदरा मूल्य में काफी अंतर होने के कारण इस विधि को कुछ लोग सही नहीं मानते हैं।

थोक मूल्य सूचकांक के लिये एक आधार वर्ष होता है। भारत में अभी 2011-12 के आधार वर्ष के मुताबिक थोक मूल्य सूचकांक की गणना हो रही है। इसके अलावा वस्तुओं का एक समूह होता है जिनके औसत मूल्य का उतार-चढ़ाव थोक मूल्य सूचकांक के उतार-चढ़ाव को निर्धारित करता है। अगर भारत की बात करें तो यहाँ थोक मूल्य सूचकांक में (697) पदार्थों को शामिल किया गया है जिनमें खाद्यान्न, धातु, ईंधन, रसायन आदि हर तरह के पदार्थ हैं और इनके चयन में कोशिश की जाती है कि ये अर्थव्यवस्था के हर पहलू का प्रतिनिधित्व करें।

SOURCE-PIB

PAPER-G.S.3

 

दिल्ली की योगशाला

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 13 दिसंबर, 2021 को ‘दिल्ली की योगशाला’ (Dilli ki Yogshala) कार्यक्रम की शुरुआत की।

मुख्य बिंदु

  • राष्ट्रीय राजधानी में लोगों को मुफ्त योग कक्षाएं प्रदान करने के लिए दिल्ली सचिवालय में यह कार्यक्रम लांच किया गया।
  • जनवरी 2022 से योग की कक्षाएं शुरू होंगी।
  • योगशाला कार्यक्रम के तहत, 400 योग प्रशिक्षकों की वर्तमान क्षमता पर दिल्ली में कम से कम 20,000 लोग योग का अभ्यास करेंगे।
  • इस कार्यक्रम का लांच लोगों को बीमार होने से रोकेगा और इस प्रकार उपचार की आवश्यकता को रोकेगा।
  • इसके तहत जनता को कक्षाएं और शिक्षक नि:शुल्क उपलब्ध कराए जाएंगे।

इस कार्यक्रम का लाभ उठाने के लिए, लोगों को 25 लोगों के एक समूह को इकट्ठा करने की आवश्यकता है जो योग सीखने के इच्छुक हैं। 9013585858 पर मिस्ड कॉल देकर समूह को एक प्रशिक्षक उपलब्ध करवाया जाएगा।

पृष्ठभूमि

दिल्ली सरकार ने फरवरी 2021 में योगशाला कार्यक्रम की संकल्पना की थी और इसे लागू करने के लिए उसने एक बजट भी पारित किया था।

प्रसन्नता पाठ्यक्रम (Happiness Curriculum)

दिल्ली सरकार ने सरकारी स्कूलों में ‘प्रसन्नता पाठ्यक्रम’ भी लॉन्च किया। हैप्पीनेस करिकुलम एक शैक्षिक कार्यक्रम है, जो दिल्ली के सरकारी स्कूलों में नर्सरी से कक्षा आठ तक के बच्चों के लिए शुरू किया गया है। यह कार्यक्रम जुलाई, 2018 में शुरू किया गया था। इसे विद्यार्थियों के मानसिक स्वास्थ्य में सुधार लाने के उद्देश्य से शुरू किया गया था। यह प्रोग्राम माइंडफुलनेस, क्रिटिकल थिंकिंग, सोशल-इमोशनल लर्निंग, रिलेशनशिप बिल्डिंग और प्रॉब्लम सॉल्विंग सिखाता है।

दिल्ली में इस कार्यक्रम के सफल क्रियान्वयन के बाद आंध्र प्रदेश और उत्तराखंड जैसे भारतीय राज्यों के साथ-साथ नेपाल, अफगानिस्तान और संयुक्त अरब अमीरात जैसे देश इसी तरह के कार्यक्रमों को लागू करने की तैयारी कर रहे हैं।

SOURCE-GK TODAY

PAPER-G.S.1PRE

 

एशियाई विकास आउटलुक रिपोर्ट

14 दिसंबर, 2021 को एशियाई विकास बैंक ने अपनी एशियाई विकास आउटलुक रिपोर्ट जारी की और वर्ष 2021 के लिए विकासशील एशिया के लिए अपने विकास पूर्वानुमानों को कम कर दिया।

मुख्य बिंदु

  • यह कदम उस अनिश्चितता के अनुरूप आया है जो ओमिक्रोन कोरोनावायरस संस्करण के कारण उत्पन्न हुई है।
  • एडीबी ने अब विकासशील एशिया के लिए 2021 सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में 0% की वृद्धि का अनुमान लगाया है, यह 7.1% पूर्वानुमान के विपरीत है।
  • 2022 के लिए, इसने 3% की वृद्धि का अनुमान लगाया है।
  • एशिया के अधिकांश विकासशील उपक्षेत्रों के 2021 में पिछले पूर्वानुमान की तुलना में धीमी गति से बढ़ने की उम्मीद है।

चीन के विकास पर ADB

एडीबी ने 2021 में चीन की विकास दर 8.0% होने का अनुमान लगाया है और  2022 में 5.3% तक धीमा हो जाएगा। चीन की अर्थव्यवस्था, जिसने पिछले साल की महामारी मंदी से एक प्रभावशाली रिकवरी दिखाई थी, ने हाल के महीनों में गति खो दी है क्योंकि यह बढ़ती कीमतों, धीमे विनिर्माण सेक्टर, संपत्ति बाजार में कर्ज की समस्या और लगातार COVID-19 का प्रकोप से जूझ रहा है।

भारत के विकास पर एडीबी

एडीबी ने सितंबर 2021 के 10.0% अनुमान के विपरीत भारत के लिए अपने 2021 के विकास पूर्वानुमान को घटाकर 9.7% कर दिया है। 2022 विकास पूर्वानुमान अपरिवर्तित रखा गया है।

एशियाई विकास आउटलुक

एशियाई विकास आउटलुक एशियाई विकास बैंक (ADB) का एक वार्षिक प्रकाशन है। यह आउटलुक आर्थिक विश्लेषण और पूर्वानुमान प्रदान करता है। यह एशियाई देशों के लिए सामाजिक विकास के मुद्दों की भी जांच करता है। यह रिपोर्ट मार्च या अप्रैल में प्रकाशित होती है, जबकि इस पर एक अपडेट सितंबर में प्रकाशित होती है। इसे आर्थिक अनुसंधान और क्षेत्रीय सहयोग विभाग के समन्वय से एडीबी के क्षेत्रीय विभागों और क्षेत्रीय कार्यालयों के कर्मचारियों द्वारा तैयार किया जाता है।

एशियाई विकास बैंक (Asian Development Bank – ADB)

एडीबी एक क्षेत्रीय विकास बैंक है। इसकी स्थापना 19 दिसंबर, 1966 को हुई थी। इसका मुख्यालय फिलीपींस में है। एडीबी एशिया में सामाजिक और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए दुनिया भर में 31 क्षेत्रीय कार्यालयों का भी रखरखाव करता है। वर्तमान में इसके 68 सदस्य हैं।

SOURCE-THE HINDU

PAPER-G.S.3

 

गणतंत्र दिवस पर पांच मध्य एशियाई देशों के प्रमुख होंगे मुख्य अतिथि

भारत ने गणतंत्र दिवस समारोह, 2022 के लिए मुख्य अतिथि के रूप में पांच मध्य एशियाई देशों कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, तुर्कमेनिस्तान, ताजिकिस्तान और उजबेकिस्तान को आमंत्रित किया है।

मुख्य बिंदु

  • यह पहली बार है जब सभी पांच मध्य एशियाई देशों के प्रतिनिधि गणतंत्र दिवस समारोह में अतिथि होंगे।
  • पिछली बार वे 2018 में आसियान शिखर सम्मेलन में एक साथ शामिल हुए थे।
  • भारत इन देशों के साथ ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और सभ्यतागत संबंध साझा करता है।
  • गणतंत्र दिवस समारोह में उनकी उपस्थिति दोनों पक्षों के बीच संबंधों को मजबूत करने में मदद करेगी।

भारत में गणतंत्र दिवस समारोह में गणमान्य व्यक्ति

2014 में जब से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कार्यभार संभाला है, भारत ने निम्नलिखित गणमान्य अतिथियों को गणतंत्र दिवस समारोह के लिए आमंत्रित किया है :

  • 2015 में तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा
  • 2016 में तत्कालीन-फ्रांसीसी राष्ट्रपति फ्रेंकोइस ओलांद
  • 2017 में संयुक्त अरब अमीरात के मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान
  • 2018 में सभी 10 आसियान देश
  • 2019 में दक्षिण अफ्रीका के सिरिल रामफोसा
  • गणतंत्र दिवस के लिए 2020 में ब्राजील के जेयर बोल्सोनारो

यूनाइटेड किंगडम के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के 2021 में गणतंत्र दिवस समारोह में शामिल होने की उम्मीद थी, लेकिन वह कोविड-19 महामारी के कारण शामिल नहीं हो सके।

मध्य एशियाई-भारत के विदेश मंत्री की बैठक

भारत 18 और 19 दिसंबर, 2021 को मध्य एशियाई-भारत विदेश मंत्री की बैठक की भी मेजबानी करेगा। इसकी पहली बैठक जनवरी 2019 में समरकंद, उज्बेकिस्तान में हुई थी। दूसरी बैठक  कोविड-19 के कारण वर्चुअली हुई थी।

मध्य एशियाई देशों को भारत का समर्थन

भारत मध्य एशियाई देशों को अपनी वित्तीय सहायता प्रदान करता रहा है। भारत ने पूर्व में मध्य एशियाई देशों के लिए ऊर्जा, आईटी, कनेक्टिविटी, स्वास्थ्य सेवा, कृषि और शिक्षा जैसे क्षेत्रों में परियोजनाओं के विकास का समर्थन करने के लिए 1 बिलियन डॉलर के ऋण की घोषणा की है। भारत ने कनेक्टिविटी के लिए आसान मार्ग प्राप्त करने के लिए ईरान में चाबहार बंदरगाह के लिए भी पैरवी की है।

SOURCE-GK TODAY

PAPER-G.S.1PRE

 

राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस

राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस (National Energy Conservation Day) प्रतिवर्ष 14 दिसम्बर को मनाया जाता है। यह दिवस विद्युत मंत्रालय के अंतर्गत ऊर्जा दक्षता और संरक्षण के महत्व के बारे में लोगों में जागरूकता फ़ैलाने के उद्देश्य से मनाया जाता है। इस दिवस का आयोजन केन्द्रीय ऊर्जा मंत्रालय के अधीन ऊर्जा दक्षता ब्यूरो के द्वारा 1991 से किया जा रहा है।

राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस (National Energy Conservation Day)

राष्ट्रीय उर्जा संरक्षण दिवस का मुख्य उद्देश्य लोगों को ऊर्जा दक्षता तथा संरक्षण के बारे में अवगत करवाना है। इस दिवस के अवसर पर ऊर्जा दक्षता तथा संरक्षण के क्षेत्र में भारत की उपलब्धियों को प्रदर्शित किया जाता है। इस दिन ऊर्जा दक्षता व संरक्षण के क्षेत्र में बेहतरीन कार्य करने वाले उद्योगों, संस्थानों, थर्मल पॉवर स्टेशन, जोनल रेलवे स्टेशन, नगरपालिकाओं, विद्युत वितरण कंपनियों, होटलों,  अस्पतालों तथा शॉपिंग मॉल इत्यादि को पुरस्कृत किया जाता है।

ऊर्जा दक्षता ब्यूरो की स्थापना ऊर्जा संरक्षण अधिनियम, 2001 के तहत की गयी थी, यह एक वैधानिक संस्था है। ऊर्जा दक्षता ब्यूरो विद्युत के उचित उपयोग के लिए सरकार की सहायता करता है।

SOURCE-GK TODAY

PAPER-G.S.1PRE

 

OSCAR 1

12 दिसंबर, 2021 को OSCAR 1 नामक पहले शौकिया रेडियो उपग्रह को लॉन्च की तिथि को चिन्हित किया, जिसका अर्थ है “Orbiting Satellites Carrying Amateur Radio”।

OSCAR 1

  • OSCAR 1 प्रोजेक्ट OSCAR द्वारा लॉन्च किया गया पहला शौकिया रेडियो उपग्रह (amateur radio satellite) था।
  • इसे 12 दिसंबर, 1961 को पृथ्वी की निचली कक्षा में प्रक्षेपित किया गया था।
  • इसे Thor-DM21 Agena B लांचर द्वारा कैलिफोर्निया में वैंडेनबर्ग एयर फ़ोर्स बेस, लोम्पोक से लॉन्च किया गया था।
  • यह उपग्रह एक आयताकार बॉक्स है, जिसकी माप 30 x 25 x 12 सेमी और वजन 10 किलो था।
  • इस सैटेलाइट को सीमित संसाधनों का उपयोग करके डिजाइन और निर्मित किया गया था।

उपग्रह की विशेषताएं

OSCAR 1 उपग्रह में बैटरी से चलने वाला 140 MW ट्रांसमीटर था, जो 2-मीटर बैंड में काम करता है। इसमें एक मोनोपोल ट्रांसमिटिंग एंटेना लगाया गया था, जो 60 सेंटीमीटर लंबा था।

काम करने का समय

OSCAR 1 ने 22 दिनों तक कार्य किया, 3 जनवरी 1962 को कार्य करना बंद कर दिया था। इसने 31 जनवरी, 1962 को 300 चक्करों को पूरा करते हुए पृथ्वी के वायुमंडल में फिर से प्रवेश किया।

प्रोजेक्ट ऑस्कर

एक शौकिया रेडियो उपग्रह लॉन्च करने का विचार एक्सप्लोरर 1 के लॉन्च के महीनों के भीतर सामने रखा गया था। यह रेडियो शौकीनों के एक समूह द्वारा बनाया गया था। इस परियोजना के तहत, समूह बनाने वाले सदस्यों के गैरेज और बेसमेंट में OSCAR 1 का निर्माण किया गया था।

चार्ज प्रणाली

OSCAR 1 में कोई सोलर सेल चार्जिंग सिस्टम नहीं था। इस उपग्रह को तब तक कार्य करने के लिए निर्मित किया गया था जब तक कि बैटरी पूरी तरह से डिस्चार्ज नहीं हो जाती। इस उपग्रह की अपेक्षित बैटरी लाइफ 28 दिन थी।

SOURCE-GK TODAY

PAPER-G.S.3