Home » Current Affairs - Hindi » Current Affair 24 March 2021

Current Affair 24 March 2021

24 March Current Affairs

यूएनआईटीएआर

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र के इंस्टीट्यूट फॉर ट्रेनिंग एंड रिसर्च (यूएनआईटीएआर) का आभार व्यक्त किया है। यूएनआईटीएआर ने गैर-संचारी रोगों से होने वाली असामयिक मौतों में कमी लाने की दिशा में भारत द्वारा की गई प्रगति की प्रशंसा की है।

एक ट्वीट में प्रधानमंत्री ने कहा, “भारत गैर-संचारी रोगों की रोकथाम और स्वास्थ्य को लेकर किए जाने वाली पहलों के मामले में अग्रिम पंक्ति में है। यूएनआईटीएआर का आभारी हूं कि उसने भारत के प्रयासों की सराहना की। हम सबको मिलकर अपने इस ग्रह को पूरी तरह स्वस्थ बनाना है। ”

संयुक्त राष्ट्र प्रशिक्षण और अनुसंधान संस्थान (UNITAR) संयुक्त राष्ट्र प्रणाली का एक समर्पित प्रशिक्षण शाखा है। UNITAR, मुख्य रूप से विकासशील देशों (LDC), स्माल आईलैंड डेवलपिंग स्टेट्स (SIDS) और अन्य समूहों और समुदायों के लिए विशेष रूप से विकासशील देशों की सहायता के लिए प्रशिक्षण और क्षमता विकास गतिविधियाँ प्रदान करता है, जो संघर्ष की स्थितियों में शामिल हैं।

संयुक्त राष्ट्र प्रशिक्षण और अनुसंधान संस्थान के बारे में उन्हें पहली बार संयुक्त राष्ट्र महासभा के 1962 के प्रस्ताव में उल्लेख किया गया था। संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक परिषद की महासभा की सिफारिश के बाद 1963 में UNITAR की स्थापना हुई, जिसने संयुक्त राष्ट्र के प्रशिक्षण और अनुसंधान के लिए संयुक्त राष्ट्र संस्थान की स्थापना के साथ UN प्रणाली के भीतर एक स्वायत्त निकाय के रूप में संयुक्त राष्ट्र महासचिव की स्थापना की।

UNITAR का निर्माण 1960 के बाद से 36 राज्यों के साथ हुआ, जिसमें 28 अफ्रीकी राज्य संयुक्त राष्ट्र शामिल थे। विखंडन की उस अभूतपूर्व लहर ने सहायता की एक महत्वपूर्ण आवश्यकता पैदा की, क्योंकि कई नए स्वतंत्र राज्यों में अपने युवा राजनयिकों को प्रशिक्षित करने की क्षमता का अभाव था। मूल रूप से नव स्वतंत्र अफ्रीकी राज्यों के अपने पहले चार कार्यकारी निदेशकों द्वारा आकार में, संस्थान की प्रशिक्षण की दृष्टि प्राप्तकर्ता देशों की जरूरतों और प्राथमिकताओं को देखते हुए विकसित की गई थी।

मार्च 1965 में UNITAR ने कामकाज शुरू किया। संस्थान का मुख्यालय मूल रूप से न्यूयॉर्क शहर में स्थित था। 1993 में, UNITAR के मुख्यालय को जिनेवा (स्विट्जरलैंड) में स्थानांतरित कर दिया गया था।

Source-PIB

डबल म्यूटेंट वैरिएंट

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने जानकारी दी है कि भारत में कोरोना वायरस के एक नए ‘डबल म्यूटेंट वैरिएंट’ का पता चला है। मंत्रालय ने बताया है कि देश के 18 राज्यों में कई ‘वैरिएंट ऑफ़ कंसर्न्स’ (VOCs) पाए गए हैं। इसका अर्थ है कि देश के कई हिस्सों में कोरोना वायरस के अलग-अलग प्रकार पाए गए हैं जो स्वास्थ्य पर हानिकारक असर डाल सकते हैं।

इनमें ब्रिटेन, दक्षिण अफ़्रीका, ब्राज़ील के साथ-साथ भारत में पाया गया नया ‘डबल म्यूटेंट वैरिएंट’ भी शामिल है।

इंडियन सार्स-सीओवी-2 कंसोर्टियम ऑन जेनोमिक्स (INSACOG) स्वास्थ्य मंत्रालय के तहत बनाई गई 10 राष्ट्रीय लेबोरेट्री का समूह है जो देश में अलग-अलग हिस्सों से आए सैंपल की जीनोमिक सीक्वेंसिंग का पता लगाती है।

जीनोमिक सीक्वेंसिंग किसी जीव के पूरे जेनेटिक कोड का ख़ाका तैयार करने की एक टेस्टिंग प्रक्रिया है। INSACOG का गठन 25 दिसंबर 2020 को किया गया था जो जीनोमिक सीक्वेंसिंग के साथ-साथ कोविड-19 वायरस के फैलने और जीनोमिक वैरिएंट के महामारी विज्ञान के रुझान पर अध्ययन करता है।

इसमें बताया गया कि इन 771 में से 736 पॉज़िटिव सैंपल यूके वैरिएंट, 34 सैंपल दक्षिण अफ़्रीका वैरिएंट और 1 सैंपल ब्राज़ील वैरिएंट का था।

लेकिन जिस नए वैरिएंट की ख़ासी चर्चा शुरू हो गई है उसे ‘डबल म्यूटेंट वैरिएंट’ बताया जा रहा है। हालांकि, स्वास्थ्य मंत्रालय ने साफ़ कर दिया है कि इस डबल म्यूटेंट वैरिएंट के कारण देश में संक्रमण के मामलों में उछाल नहीं दिखता है।

मंत्रालय ने बताया है कि इस स्थिति को समझने के लिए जीनोमिक सीक्वेंसिंग और एपिडेमियोलॉजिकल (महामारी विज्ञान) स्टडीज़ जारी।

क्या होता है डबल म्यूटेंट वैरिएंट?

विभिन्न प्रकार के वायरस के जीनोमिक वेरिएंट में बदलाव होना आम बात है और यह हर देश में पाए जाते हैं।

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के पूर्व वैज्ञानिक डॉक्टर रमन गंगाखेडकर ने बीबीसी हिंदी से कहा कि स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी बयान से साफ़ नहीं है कि वह किस तरह के डबल म्यूटेंट की बात कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, “स्वास्थ्य मंत्रालय ने E484Q और L452R म्यूटेशन के बारे में बताया है लेकिन यह साफ़ नहीं है कि वह इन दोनों म्यूटेशन में दोबारा म्यूटेशन की बात कर रहे हैं या फिर इन दोनों वायरस के एकसाथ मिलकर उसमें तब्दीली होने की बात कर रहे हैं।”

“हालांकि, इन दोनों वैरिएंट के बारे में रिसर्च होनी बाकी है क्योंकि इसका कितना असर होगा और यह कितना ख़तरना है यह कहा नहीं जा सकता है। L452R म्यूटेंट पहली बार अमेरिका के कैलिफ़ॉर्निया में पाया गया जिसके बाद यह पूरी दुनिया में फैला। इसका मतलब है कि इस म्यूटेंट में कुछ असर है जो बदल रहा है। अमेरिका में एक चिड़ियाघर के गोरिल्ला में यह वायरस पाया गया था। लेकिन इसका सकारात्मक रूप भी देखना चाहिए। कैलिफ़ॉर्निया में इसका प्रभाव ख़त्म हो रहा है। लोग अगर कोविड-19 अप्रोप्रिएट बिहेवियर का पालन करते हैं तो इसका ख़तरा कम है।”

डॉक्टर गंगाखेडकर कहते हैं कि दो वैरिएंट का एक साथ म्यूटेशन हो सकता है और वह आपस में मिल सकते हैं, यूके, ब्राज़ील और दक्षिण अफ़्रीका वेरिएंट में तक़रीबन 8-10 म्यूटेशन देखे जा चुके हैं।

“वायरस जब रिप्रोड्यूस करता है तो वह परफ़ेक्ट नहीं होता है और वही म्यूटेशन होता है। और जब उस म्यूटेशन का हम पर असर होता है तो उसे वैरिएंट कहते हैं।

नया म्यूटेंट वायरस कितना ख़तरना हो सकता है? इस सवाल पर डॉक्टर गंगाखेडकर कहते हैं कि ‘इस तरह के म्यूटेंट जिस तरह से हमारे यहां पाए जा रहे हैं उससे यह जितना कम लोगों को हो तो अच्छा है क्योंकि यह जितना लोगों को होगा फिर यह उतना फैलेगा।

यह नहीं फैलेगा तो एक वैरिएंट दूसरे के साथ जुड़ेगा नहीं और हम ख़तरे से बचे रहेंगे इसलिए यह ज़रूरी है कि लोग कोविड-19 के दिशानिर्देशों का अच्छे से पालन करें यही इकलौता हल है।”

स्वास्थ्य मंत्रालय के बयान में बताया गया है कि केरल के 2032 सैंपल को जांचा गया है इसमें 123 सैंपल N440K वेरिएंट के हैं। इससे पहला यह वैरिएंट आंध्र प्रदेश के 33 फ़ीसदी सैंपल में पाया गया था।

यही वैरिएंट तेलंगाना के कुल 104 सैंपल में से 53 सैंपल में पाया गया था।

वायरस की नई किस्म

हालाँकि बताया गया है कि वायरस की यह नई किस्म शरीर के इम्यून सिस्टम से बचकर संक्रामकता को बढ़ाता है।

वायरस का यह म्यूटेशन क़रीब 15 से 20 फ़ीसदी नमूनों में पाया गया है जबकि यह चिंता पैदा करने वाली पहले की किस्मों से मेल नहीं खाता।

महाराष्ट्र से मिले नमूनों के विश्लेषण से पता चला है कि दिसंबर 2020 की तुलना में नमूनों में ई484क़्यू और एल452आर म्यूटेशन के अंशों में बढ़ोतरी हुई है।

अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के देश आने पर और अन्य रोगियों से लिए गए नमूनों की जीनोम सीक्वेंसिंग और इसके विश्लेषण के बाद पाया गया है कि इस किस्म से संक्रमित लोगों की संख्या 10 है।

SOURCE-BBC

 

प्रजनन संबंधी अनुसंधान

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर), मुंबई के नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर रिसर्च इन रिप्रोडक्टिव हेल्थ के स्ट्रक्चरल बायोलॉजी डिवीजन की वैज्ञानिक डॉक्टर अन्तारा बैनर्जी को प्रजनन संबंधी तकनीक के लिए उपयोगी एन्डोक्रनालॉजी को समझने के मामले में महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए 2021 का एसईआरबी विमेन एक्सिलेंस अवार्ड प्रदान किया गया है।

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के साइंस एंड इंजीनियरिंग रिसर्च बोर्ड (एसईआरबी) द्वारा शुरू किए गए इस पुरस्कार के तहत विज्ञान एवं इंजीनियरिंग के क्षेत्र में अनुसंधान करने वाली युवा महिला वैज्ञानिकों की अतुलनीय अनुसंधान उपलब्धियों को मान्यता दी जाती है और पुरस्कृत किया जाता है।

यह अध्ययन, प्रजनन के कार्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले फॉलिकल-स्टिमुलेटिंग हार्मोन्स (एफएसएच) और उसके रिसेप्टर (एफएसएचआर) तथा महिलाओं में ओवा या अंडाणु का विकास कर प्रजनन कार्य में केंद्रीय भूमिका निभाने वाले प्रोटीन्स से संबंधित है।

एफएसएचआर को लेकर डॉक्टर बैनर्जी के मन में लम्बे समय से कौतुहल था। अपने डॉक्टरल थीसिस में उन्होंने किसी भी स्तनधारी प्राणी के प्रजनन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले इस हार्मोन रिसेप्टर के बारे में अनुसंधान किया था। इस अनुसंधान ने बाद में उन्हें एफएसएचआर में उपस्थित कोशिकीय छोरों में मौजूद अवशेषों की पहचान करने में मदद की जो एफएसएच-एफएसएचआर के संपर्क के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं और इस तरह जी-प्रोटीन युक्त रिसेप्टर के काम में इन कोशिकीय अवशेषों की भूमिका के बारे में ज्यादा जानकारी मुहैया कराते हैं।

डॉक्टर बैनर्जी ने बताया कि उन्होंने साइट-डायरेक्टेड म्युटेजेनेसिस दृष्टिकोण के नाम से पहचानी जाने वाली पद्धति के जरिए एफएसएचआर के कोशिकीय छोरों पर मौजूद अवशेषों की पहचान की जो कि हार्मोन रिसेप्टर इन्टरेक्शन के लिए अति महत्वपूर्ण हैं और इसके लिए म्युटेन्ट्स के उत्पन्न होने की स्थिति और उसकी पहचान का कार्य भी किया गया। उन्होंने बताया कि पैथोफिजियोलॉजी को समझने के लिए एफएसएचआर म्यूटेशन के दो स्वाभाविक रूप से होने वाले कार्यात्मक लक्षण वर्णन को भी जानने का प्रयास किया गया।

उनके इस कार्य ने एफएसएचआर के कार्य को प्रभावित करने के लिए जिम्मेदार कुछ प्राकृतिक तौर से उत्पन्न होने वाले म्युटेशन्स के कार्यात्मक लक्षणों को पहचानने में मदद की। इस तरह प्रजनन संबंधी पैथोलॉजी को भी समझने में मदद मिली।

डॉक्टर बैनर्जी ने अपने दल के साथ प्यूबर्टी यानी वयः संधि जैसे जैविक मोड़ को समझने के लिए भी एक अध्ययन शुरू किया है। वयः संधि वह शारीरिक प्रक्रिया है जिसमें एक बाल शरीर वयस्क शरीर में परिवर्तित होकर यौन प्रजनन के कार्य में सक्षम होता है। न्यूरोपेप्टाइड हार्मोन किस्सपेप्टिन-1 या उसके रिसेप्टर में म्युटेशन्स आने से किसी बालक/बालिका में वयः संधि की अवस्था समय से पूर्व आ जाती है। डॉक्टर बैनर्जी ने बताया कि उनका दल इसी का अध्ययन कर रहा है। उनके दल में वैज्ञानिक, बाल रोग विशेषज्ञ और आनुवंशिकीविद् शामिल हैं।

SOURCE-PIB

 

श्रीलंका पर यूएनएचआरसी वोट

भारत ने जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में श्रीलंका के अधिकार रिकॉर्ड पर एक महत्वपूर्ण वोट में हिस्सा (वोट ना करके) नहीं लिया।

श्रीलंका में सुलह, जवाबदेही और मानवाधिकारों को बढ़ावा देने’ पर संकल्प, हालांकि, 47 सदस्यीय परिषद के 22 राज्यों द्वारा इसके पक्ष में मतदान करने के बाद अपनाया गया था।

श्रीलंका ने पहले संकल्प को “राजनीति से प्रेरित” कहा था। सशस्त्र बलों और लिट्टे द्वारा किए गए देश में युद्ध अपराधों के लिए सबूत इकट्ठा और संरक्षित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र के कदम को श्रीलंका ने तुरंत अस्वीकार किया।

यूएनएचआरसी के 46 वें सत्र (जिसे आभासी तौर पर आयोजित किया गया है) के लिए स्थापित असाधारण ई-वोटिंग प्रक्रियाओं का उपयोग पहली बार श्रीलंका के प्रस्ताव पर मतदान करने के लिए किया गया था।

यूएन मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी)

संयुक्त राष्ट्र प्रणाली के भीतर मानवाधिकार परिषद एक अंतर-सरकारी निकाय है।

स्थान: यह संयुक्त राष्ट्र कार्यालय जिनेवा में है।

स्थापना: इसकी स्थापना 2006 में हुई थी। इसने संयुक्त राष्ट्र के पूर्व मानवाधिकार आयोग (यूएनएचआरसी) का स्थान लिया था, जिसकी खराब मानवाधिकार रिकॉर्ड वाले देशों को सदस्य बनाने के लिए काफी आलोचना हुई थी।

कार्य: यह संयुक्त राष्ट्र के सदस्य राज्यों में मानव अधिकारों के उल्लंघन के आरोपों की जांच करता है।

सदस्यता: परिषद 47 सदस्य राज्यों से बनी है, जो संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा चुने जाते हैं। परिषद की सदस्यता समान भौगोलिक वितरण पर आधारित है।

परिषद के सदस्य तीन साल की अवधि के लिए काम करते हैं और लगातार दो कार्यकालों की सेवा के बाद तत्काल पुन: चुनाव के लिए पात्र नहीं होते हैं।

भारत 1 जनवरी, 2019 से शुरू होने वाले तीन वर्षों की अवधि के लिए यूएनएचआरसी के लिए चुना गया है। इससे पहले भारत 2011-2014 और 2014-2017 के लिए यूएनएचआरसी के लिए चुना गया था।

SOURCE-DANIK JAGARAN

 

पैरोस्मिया

कोविड-19 के लक्षण के रूप में कुछ लोगों को पैरोस्मिया का अनुभव हो सकता है।

पैरोस्मिया एक चिकित्सा शब्द है जिसका उपयोग ऐसी स्थिति का वर्णन करने के लिए किया जाता है जिसमें प्रभावित व्यक्ति “गंध के हीन होने की भावना” का अनुभव करते हैं।

पैरोस्मिया वाले व्यक्ति कुछ गंधों का पता लगा सकते हैं, लेकिन वे कुछ चीजों की गंध का अलग और अक्सर अप्रिय अनुभव कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, पैरोस्मिया वाले किसी व्यक्ति को, कॉफी में जले हुए टोस्ट जैसी गंध आ सकती है।

पेरोस्मिया एक अस्थायी स्थिति है और हानिकारक नहीं है।

यह असामान्यता आम तौर पर उन लोगों द्वारा अनुभव की जाती है जिनके वायरस या चोट से नुकसान के बाद गंध की अपनी भावना ठीक हो रही हैं।

पेरोसमिया के कुछ सामान्य ट्रिगर्स में भुना हुआ, टोस्टेड या ग्रिल्ड खाद्य पदार्थ, कॉफी, प्याज, चॉकलेट, लहसुन और अंडे शामिल हैं।

यह संभावना है कि घ्राण न्यूरॉन्स मे नुकसान के कारणपेरोसमिया खुद प्रकट होता है जब “नाक में नाजुक और जटिल संरचना पर एक वायरस द्वारा हमला किया जाता है।

SOURCE-INDIAN EXPRESS

 

राष्ट्रीय बायोफार्मा मिशन

जैव प्रौद्योगिकी विभाग (DBT) ने भारत भर में उभरते जैव प्रौद्योगिकी उद्यम को मजबूत करने के उद्देश्य से कैबिनेट द्वारा अनुमोदित राष्ट्रीय बायोफार्मा मिशन (National Biopharma Mission) शुरू किया है।

राष्ट्रीय बायोफार्मा मिशन (National Biopharma Mission)

उत्पादों के विकास के शुरुआती चरणों से जुड़े जोखिमों को दूर करने के लिए छोटे और मध्यम उद्यमों का समर्थन करने के लिए राष्ट्रीय बायोफार्मा मिशन लांच किया गया था। यह बढ़े हुए उद्योग-अकादमिया इंटर-लिंकेज का समर्थन करके उद्यमिता को बढ़ावा देता है। यह शिक्षाविदों, नवप्रवर्तकों और उद्यमियों के लिए सलाह और प्रशिक्षण भी प्रदान करता है। मिशन जीएलपी एनालिटिकल फैसिलिटीज, सेल लाइन रिपॉजिटरी और नैदानिक परीक्षण नेटवर्क की स्थापना जैसी साझा राष्ट्रीय सुविधाओं द्वारा घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा देता है।

मिशन के उद्देश्य

उत्पादों को सत्यापित करना और निर्माण करने के लिए साझा बुनियादी सुविधाओं को मजबूत और स्थापित करना।

शोधकर्ताओं और नयी जैव प्रौद्योगिकी कंपनियों में ‘महत्वपूर्ण कौशल अंतराल’ को संबोधित करने के लिए विशिष्ट प्रशिक्षण प्रदान करके मानव पूंजी का विकास करना।

सार्वजनिक और निजी क्षेत्र में प्रौद्योगिकी हस्तांतरण और बौद्धिक संपदा प्रबंधन क्षमताओं को बढ़ावा देना।

मिशन के लक्ष्य

इस मिशन के विशिष्ट लक्ष्य हैं :

5 बायोफार्मा प्रोडक्ट्स जैसे बायोथेराप्यूटिक्स, वैक्सीन, मेडिकल डिवाइस और डायग्नोस्टिक्स विकसित करना।

साझा बुनियादी ढांचे और जीएलपी सत्यापन और रिफरेन्स लैब जैसी सुविधाओं को स्थापित करना।

मेड-टेक सत्यापन सुविधा

कोशिकीय और अंतःविषय अनुसंधान और सेल लाइनों का विकास।

सार्वजनिक और निजी क्षेत्र में प्रौद्योगिकी हस्तांतरण कार्यालय स्थापित करना।

तकनीकी और गैर-तकनीकी कौशल विकास प्रदान करना।

इनोवेट इन इंडिया (Innovate in India – I3)

I3 जैव-प्रौद्योगिकी विभाग (DBT) द्वारा एक उद्योग-अकादमिक सहयोगी मिशन है जो अनुसंधान को तेज करने के लिए विश्व बैंक के सहयोग से शुरू किया गया था। इसे जैव प्रौद्योगिकी उद्योग अनुसंधान सहायता परिषद (BIRAC) द्वारा लागू किया जाएगा। इस मिशन को बायोफार्मास्यूटिकल में भारत की तकनीकी और उत्पाद विकास क्षमताओं को विकसित करने के लिए शुरू किया गया था।

SOURCE-G.K.TODAY

 

PRANIT की स्थापना

पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया नामक केंद्रीय PSU ने PRANIT नाम से एक ई-टेंडरिंग पोर्टल की स्थापना की है। यह पोर्टल कम कागजी कार्रवाई, संचालन में आसानी और निविदा प्रक्रिया को अधिक पारदर्शी बनाने में मदद करेगा। इस पोर्टल को इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत मानकीकरण, परीक्षण और गुणवत्ता प्रमाणन निदेशालय (STQC) द्वारा प्रमाणित किया गया है। POWERGRID भारत का एकमात्र संगठन है, जिसका SAP सप्लायर रिलेशनशिप मैनेजमेंट पर एक ई प्रोक्योरमेंट सॉल्यूशन है, जो सुरक्षा और पारदर्शिता से जुड़ी सभी जरूरतों को पूरा करता है।

पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (POWERGRID)

यह एक भारतीय केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र की इकाई और एक महारत्न कंपनी है। इस कंपनी का स्वामित्व ऊर्जा मंत्रालय के पास है। इसका मुख्यालय गुरुग्राम में है। यह कंपनी मुख्य रूप से पावर ट्रांसमिशन में कार्यरत्त है। यह कंपनी अपने ट्रांसमिशन नेटवर्क के माध्यम से भारत भर में उत्पन्न कुल बिजली का लगभग 50 प्रतिशत संचारित करती है। पावरग्रिड की पूर्व सहायक कंपनी जिसे “पावर सिस्टम ऑपरेशन कॉर्पोरेशन लिमिटेड (POSOCO)” कहा जाता है, नेशनल ग्रिड और सभी राज्य ट्रांसमिशन उपयोगिताओं के लिए बिजली प्रबंधन में कार्यरत्त है। यह कंपनी POWERTEL नामक दूरसंचार व्यवसाय भी संचालित करती है। इस कंपनी के वर्तमान अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक श्री कांदिकुप्पा श्रीकांत हैं।

पावर सिस्टम ऑपरेशन कॉर्पोरेशन लिमिटेड (POSOCO)

यह विद्युत मंत्रालय के अधीन काम करने वाला पूर्ण स्वामित्व वाला भारत सरकार का उपक्रम है। विश्वसनीय, सुरक्षित और कुशल तरीके से ग्रिड के एकीकृत संचालन को सुनिश्चित करने के लिए यह संगठन जिम्मेदार है।

विश्व क्षय रोग दिवस

हर साल, 24 मार्च को विश्व क्षय रोग दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस विचार का प्रस्ताव इंटरनेशनल यूनियन अगेंस्ट ट्यूबरकुलोसिस एंड लंग डिजीज (International Union Against Tuberculosis and Lung Disease – IUATLD) ने किया था। इस दिन को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा भी चिन्हित किया गया है।

मुख्य बिंदु

इस बीमारी के कारण होने वाले विनाशकारी सामाजिक और आर्थिक प्रभावों के बारे में जन जागरूकता बढ़ाने के लिए दिवस को चिह्नित किया जा रहा है।

महत्व

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, हर दिन लगभग 4,000 लोग तपेदिक के कारण अपना जीवन खो देते हैं। साथ ही, बीमारी के कारण लगभग 30,000 लोग बीमार पड़ते हैं।

24 मार्च ही क्यों?

हर साल 24 मार्च को विश्व तपेदिक दिवस (World Tuberculosis Day) के रूप में चिह्नित किया जा रहा है। डॉ. रॉबर्ट कोच ने इसी दिन तपेदिक पैदा करने वाले जीवाणु की खोज की घोषणा की टी।

SOURCE-G.K.TODAY

%d bloggers like this: