Home » Current Affairs » Current Affairs - Hindi » Current Affair 25 July 2021

Current Affair 25 July 2021

Current Affairs – 25 July, 2021

काकतीय रामप्पा मंदिर

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने यूनेस्को द्वारा काकतीय रामप्पा मंदिर को विश्व धरोहर स्थल घोषित किए जाने पर प्रसन्नता व्यक्त की है। उन्होंने लोगों से इस अद्भुत मंदिर परिसर को देखने और इसकी भव्यता का प्रत्यक्ष अनुभव प्राप्त करने का भी आग्रह किया।

यूनेस्को के एक ट्वीट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा;

“बहुत बढ़िया! सभी को, खासकर तेलंगाना के लोगों को बधाई।

यह प्रतिष्ठित रामप्पा मंदिर महान काकतीय राजवंश के उत्कृष्ट शिल्प कौशल को दर्शाता है। मैं आप सभी से इस भव्य मंदिर परिसर को देखने और इसकी भव्यता का प्रत्यक्ष अनुभव प्राप्त करने का आग्रह करता हूं।”

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने यूनेस्को द्वारा काकतीय रामप्पा मंदिर को विश्व धरोहर स्थल घोषित किए जाने पर प्रसन्नता व्यक्त की है। उन्होंने लोगों से इस अद्भुत मंदिर परिसर को देखने और इसकी भव्यता का प्रत्यक्ष अनुभव प्राप्त करने का भी आग्रह किया।

यूनेस्को के एक ट्वीट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा;

“बहुत बढ़िया! सभी को, खासकर तेलंगाना के लोगों को बधाई।

यह प्रतिष्ठित रामप्पा मंदिर महान काकतीय राजवंश के उत्कृष्ट शिल्प कौशल को दर्शाता है। मैं आप सभी से इस भव्य मंदिर परिसर को देखने और इसकी भव्यता का प्रत्यक्ष अनुभव प्राप्त करने का आग्रह करता हूं।”

तेलंगाना का काकतीय रुद्रेश्वर मंदिर (Kakatiya Rudreshwara Temple) अब विश्वि धरोहर में शामिल हो गया है। काकतीय रुद्रेश्वर मंदिर को यूनेस्को की वर्ल्डि हेरिटेज साइट में जगह मिली है। रामप्पाय मंदिर के नाम से भी पहचाना जाने वाला यह मंदिर 800 साल पुराना है। इस उपलब्धिा पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को बधाई दी है।

मार्को पोलो ने काकतीय वंश के दौरान बने इस मंदिर को तमाम मंदिरों में सबसे चमकता तारा कहा था। UNESCO ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी देते हुए लिखा- ‘यूनेस्कोस वर्ल्ड हेरिटेज साइट में काकतीय रुद्रेश्वकर (रामप्पाह) मंदिर को शामिल किया गया है।

तेलंगाना के काकतिया वंश के महाराजा गणपति देव ने सन 1213 में इन मंदिर का निर्माण शुरू करवाया था। मंदिर के शिल्पकार रामप्पा के काम को देखकर महाराजा गणपतति देव काफी प्रसन्न हुए थे और इसका नाम रामप्पा के नाम पर रख दिया था। रामप्पा को मंदिर निर्माण में 40 साल का समय लगा था।

वारंगल स्थित यह शिव मंदिर इकलौता ऐसा मंदिर है, जिसका नाम इसके शिल्पकार रामप्पा के नाम पर रखा गया। इतिहास के अनुसार काकतीय वंश के राजा ने इस मंदिर का नका निर्माण 12वीं सदी में करवाया था। सबसे बड़ी बात यह है कि उस काल में बने ज्यादातर मंदिर खंडहर में तब्दील हो चुके हैं, लेकिन कई आपदाओं के बाद भी इस मंदिर को कोई खास नुकसान नहीं पहुंचा है। यह मंदिर हजार खंभों से बना हुआ है।

SOURCE-PIB

 

दुनिया का पहला स्वच्छ परमाणु रिएक्टर
एक्टिवेट करेगा चीन

चीनी सरकार के एक वैज्ञानिक ने एक प्रायोगिक परमाणु रिएक्टर की योजना का खुलासा किया है जिसे ठंडा करने के लिए पानी की आवश्यकता नहीं होती है। यह रिएक्टर यूरेनियम के बजाय तरल थोरियम पर चलेगा और पारंपरिक रिएक्टरों की तुलना में अधिक सुरक्षित होने की उम्मीद है। पिघला हुआ नमक, जब हवा के संपर्क में आता है, तो ठंडा हो जाता है और जल्दी से जम जाता है और इस प्रकार थोरियम को इन्सुलेट करता है, जिससे किसी भी संभावित रिसाव में पारंपरिक रिएक्टरों से लीक की तुलना में इससे पर्यावरण में बहुत कम विकिरण फैल सकता है।

मुख्य बिंदु

उम्मीद की जा रही है कि यह प्रोटोटाइप रिएक्टर अगस्त में पूरा हो जाएगा और पहला परीक्षण सितंबर में शुरू होगा।

यह परीक्षण पहले ऐसे वाणिज्यिक रिएक्टर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त करेगा जो वर्ष 2030 तक निर्माण के लिए निर्धारित है। चूंकि इस प्रकार के रिएक्टर के लिए पानी की आवश्यकता नहीं होती है, यह रेगिस्तानी क्षेत्रों में काम करने में सक्षम होगा।

वुवेई (Wuwei) के रेगिस्तानी शहर को पहले रिएक्टर के स्थान के रूप में चुना गया है, और चीनी सरकार पश्चिमी चीन के मैदानी इलाकों और रेगिस्तान में ऐसे और रिएक्टर बनाने की योजना बना रही है।

शंघाई इंस्टीट्यूट ऑफ एप्लाइड फिजिक्स की एक टीम ने इस प्रोटोटाइप को विकसित किया है।

थोरियम (Thorium)

थोरियम एक रेडियोधर्मी धातु है। यह यूरेनियम की तुलना में अधिक प्रचुर मात्रा में और काफी सस्ता है, और इसका उपयोग आसानी से परमाणु हथियार बनाने के लिए नहीं किया जा सकता है।

SOURCE-GK TODAY

 

गोल्डन राइस

“गोल्डन राइस” (Golden Rice) जिसे आनुवंशिक रूप से संशोधित (genetically modified) किया गया है, को फिलीपींस द्वारा व्यावसायिक उत्पादन के लिए मंजूरी दे दी गई है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि यह निर्णय दुनिया के विकासशील क्षेत्रों में बच्चों की जान बचाएगा और बचपन के अंधेपन (childhood blindness) का मुकाबला करेगा।

मुख्य बिंदु

  • सरकार ने एक जैव सुरक्षा परमिटन (bio safety permit) जारी किया जो इस चावल के लिए मार्ग प्रशस्त करता है जो बीटा-कैरोटीन से समृद्ध है जो विटामिन ए-अग्रदूत है और इस चावल को अधिक पौष्टिक बनाता है।
  • अंतर्राष्ट्रीय चावल अनुसंधान संस्थान (IRRI) ने कृषि विभाग-फिलीपीन चावल अनुसंधान संस्थान के साथ मिलकर “गोल्डन राइस” विकसित करने के लिए दो दशक बिताए हैं।
  • यह आनुवंशिक रूप से संशोधित चावल का पहला प्रकार है जिसे दक्षिण और दक्षिण पूर्व एशिया क्षेत्र में व्यावसायिक उपयोग के लिए अनुमोदित किया गया है।

गोल्डन राइसउपभोग के लिए कब उपलब्ध होगा?

अंतिम नियामक बाधाओं को पार करने के बावजूद चावल की यह किस्म अभी भी लोगों के भोजन के कटोरे में दिखाई देने से दूर है। वर्ष 2022 में चयनित प्रांतों में फिलिपिनो किसानों को सीमित मात्रा में गोल्डन राइस बीज वितरित किए जाएंगे।

साधारण और गोल्डन राइसमें अंतर?

साधारण चावल पौधे में बीटा-कैरोटीन पैदा करता है, लेकिन यह दाने में नहीं पाया जाता है जबकि गोल्डन राइस दाने में ही बीटा-कैरोटीन का उत्पादन करेगा। किसान सामान्य चावल की किस्मों की तरह ही “गोल्डन राइस” उगा सकेंगे।

विटामिन ए का महत्व

विटामिन ए विकास और सामान्य वृद्धि, दृष्टि और प्रतिरक्षा प्रणाली (immune system) के समुचित कार्य के लिए महत्वपूर्ण है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों से पता चलता है कि विटामिन ए की कमी से हर साल बचपन में अंधेपन के 5,00,000 मामले सामने आते हैं, जिनमें से आधे की 12 महीने के भीतर अपनी दृष्टि खोने के बाद मृत्यु हो जाती है। IRRI के अनुसार, फिलीपींस में पांच साल से कम उम्र के फिलिपिनो बच्चों में से लगभग 17% में विटामिन ए की कमी है।

सुनहरा चावल (गोल्डन चावल) औरिजा सैटिवा चावल का एक किस्म है जिसे बेटा-कैरोटिन, जो खाने वाले चावल में प्रो-विटामिन ए का अगुआ है, के जैवसंश्लेषण के लिए जेनेटिक इंजिनियरिंग के द्वारा बनाया जाता है चावल के वैज्ञानिक विवरण पहली बार 2000 साल में साइंस में प्रकाशित हुए थे।सुनहरे चावल का विकास उन क्षेत्रों में उपयोग करने के लिए किया गया जिन क्षेत्रों में आहार के रूप में ग्रहण किए जाने वाले विटामिन ए की कमी है। 2005 में एक नए किस्म के चावल सुनहला चावल-2 की घोषणा की गई जो सुनहले चावल की तुलना में 23 गुना ज्यादा बेटा-कैरोटिन पैदा करता है।वर्तमान में मानव के उपभोग के लिए उनमें से कोई भी किस्म उपलब्ध नहीं है। हालांकि गोल्डेन चावल का विकास मानवीय उपयोग के लिए किया गया था लेकिन इसे पर्यावरण से जुड़े और भूमंडलीकरण के विरोधी कार्यकर्ताओं के भारी विरोध का सामना करना पड़ा।

सुनहले चावल का निर्माण स्वीस फेडरल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में इंस्टिट्यूट ऑफ प्लांट सायंसेज के इंगो पोट्रिकस ने फ्रिबर्ग विश्वविद्यालय के पीटर वेयर के साथ काम करते हुए किया था। परियोजना 1992 में शुरू की गयी और 2000 साल में इसके प्रकाशन के समय सुनहले चावल को जैव प्रौद्योगिकी में एक महत्वपूर्ण सफलता मान लिया गया, क्योंकि शोधकर्ताओं ने एक पूरे जैवसंश्लेषण पद्धति को अभियंत्रित कर लिया था।

सुनहले चावल की डिजाईन बेटा-कैरोटिन, उत्पादन के लिए की गयी थी। चावल का भाग जिसे लोग खाते हैं, जिसे एण्डोस्पर्म कहते हैं और जो विटामिन-ए का अगुआ है। चावल के पौधे प्राकृतिक रूप से बेटा-करोटिन पैदा करते हैं, जो करेटोनॉयड पिगमेंट हैं जो पत्तियों में प्रकट होते हैं और प्रकाशसंश्लोषण में भाग लेते हैं। हालांकि, आम तौर पर पौधे एण्डोस्पर्म में रंगद्रव्य उत्पादन नहीं करते हैं क्योंकि प्रकाश संश्लेषण एण्डोस्पर्म में घटित नहीं होता है।

सुनहले चावल का निर्माण दो बेटा-कैरोटिन बायोसिनथेसिस जीन युक्त चावल के रूपांतरण के द्वारा किया जाता है:

विरोध

अनुवांशिक रूप से अभियंत्रित फसलों के आलोचकों ने विभिन्न चिंताएं व्यक्त की हैं। इनमें से एक यह है कि मूलतः सुनहले चावल में पर्याप्त विटामिन ए नहीं है। इस समस्या का समाधान चावल की नई किस्म का विकास कर किया गया है।[3] हलांकि, पौधे की कटाई के समय विटामिन ए के क्षरण की गति और पकने के बाद कितना बच जाता है, इस पर अभी भी संदेह है।[19]

ग्रीनपीस ने आनुवांशिक रूप से संशोधित सभी जीवों का विरोध किया और मत व्यक्त किया कि सुनहला चावल वह ट्रोजन घोड़ा है जो GMOs के अधिक व्यापक उपयोग का दरवाजा खोल देगा।

एक भारतीय GMO विरोधी कार्यकर्ता वंदना शिवा का तर्क है कि समस्या यह नहीं है कि उस विशेष फसल में कोई कमी है, बल्कि यह कि गरीबों में अक्षमता की समस्या है और खाद्य फसलों में जैवविभिन्नता की कमी होती है। इन समस्याओं को अनुवांशिक रूप से संशोधित खाद्य पदार्थों पर आधारित कृषि के कारपोरेट नियंत्रण द्वारा बढ़ाया गया है। समस्या एक संकीर्ण समस्या (विटामिन ए की कमी) पर ध्यान केंद्रित करके वंदना शिवा तर्क देती हैं कि गोल्डन राइस के प्रस्तावक पोषण करने वाले भोजन के विभिन्न स्रोतों की उपलब्धता की व्यापक कमी के एक बड़े मुद्दे को छुपाते हैं।अन्य समूहों का कहना है कि विटामिन ए से समृद्ध विभिन्न खाद्य पदार्थ जैसे कि कंद, पत्तेदार हरी सब्जियां और फल बच्चों को पर्याप्त विटामिन ए प्रदान कर सकते हैं।

वास्तविक तथ्यों के अध्ययन की कमी और इस अनिश्चितता के कारण कि कितने लोग सुनहले चावल का उपयोग करेंगे, डब्ल्यूएचओ के कुपोषण विशेषज्ञ फ्रांसिस्को ब्रांका यह निष्कर्ष निकालते हैं कि “अनुपूरक प्रदान करना, विटामिन ए युक्त मौजूद खाद्यों को सुदृढ़ करना और लोगों को गाजर या कुछ निश्चित पत्तेदार सब्जियां उगाने की शिक्षा देना, समस्या से लड़ने का सबसे सही रास्ता है।

SOURCE-THE HINDU

 

पावर आइलैंडिंग सिस्टम

देश के बिजली ग्रिड पर संभावित हमलों से महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे की रक्षा के लिए देश के कई शहरों में पावर आइलैंडिंग सिस्टम बनाने की योजना बनाई जा रही है।

मुख्य बिंदु

  • बेंगलुरू और जामनगर, जिसमें भारत की दो सबसे बड़ी तेल रिफाइनरियां हैं, उन शहरों में शामिल किये गये हैं जिनका मूल्यांकन एक आइलैंडिंग सिस्टम के लिए किया जा रहा है।
  • मौजूदा सिस्टम वाले मुंबई और नई दिल्ली जैसे शहरों में सुधार किया जा रहा है।
  • वर्ष 2020 में मुंबई में एक बड़ी बिजली आउटेज हुई थी, जिससे शहर ठप हो गया और इसने शहरों के पावर ग्रिड पर साइबर हमले की अटकलों को प्रेरित किया।
  • 2019 में, भारत में परमाणु ऊर्जा एजेंसी ने बताया कि इसके एक पीढ़ी के संयंत्र में कंप्यूटर सिस्टम पर मैलवेयर द्वारा हमला किया गया था।
  • दुनिया भर में बिजली ग्रिडों को लगातार डिजिटल किया जा रहा है जिससे वे ऐसे संभावित हमलों के प्रति संवेदनशील हो जाते हैं।इसलिए, भारत सरकार देश के प्रमुख शहरों में पावर आइलैंड सिस्टम बनाने की योजना बना रही है।

आइलैंडिंग सिस्टम क्या है?

आइलैंडिंग सिस्टम में उत्पादन क्षमता होती है और यह एक आउटेज के दौरान मुख्य ग्रिड से ऑटोमेटिकली अलग हो सकता है। नई प्रणालियों को स्थापित करने के लिए, प्रांतों को भंडारण और उत्पादन क्षमता स्थापित करने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत करने की आवश्यकता है।

इंडिया स्मार्ट ग्रिड फोरम के अध्यक्ष रेजी पिल्लई (Reji Pillai) ने औद्योगिक और वाणिज्यिक परिसरों, हवाई अड्डों, शॉपिंग मॉल, अस्पतालों, रक्षा इकाइयों और रेलवे स्टेशनों जैसे छोटे क्षेत्रों को अलग करने के लिए स्मार्ट माइक्रो ग्रिड की सिफारिश की है। यह सिस्टम मुख्य नेटवर्क से जुड़ा होगा और एक आउटेज के दौरान अपने आप ही रूप से अलग हो जाएगा। माइक्रो ग्रिड रूफटॉप सौर ऊर्जा और बैटरी के मिश्रण पर चलेंगे

SOURCE-GK TODAY

 

नोरोवायरस

यूनाइटेड किंगडम में नोरोवायरस (norovirus) के मामले दर्ज किये गये हैं। पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड (PHE) ने हाल ही में नोरोवायरस को लेकर चेतावनी जारी की थी। मई महीने के अंत से, इंग्लैंड ने देश में नोरोवायरस के 154 मामले दर्ज किए हैं।

नोरोवायरस (Norovirus)

रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (CDC) के अनुसार, नोरोवायरस बहुत संक्रामक है जो दस्त और उल्टी का कारण बनता है।

नोरोवायरस कैसे फैलता है?

एक व्यक्ति संक्रमित व्यक्ति के सीधे संपर्क में आने से इस वायरस से संक्रमित हो सकता है। यह वायरस दूषित पानी और भोजन के सेवन से और दूषित सतहों को अपने हाथों से छूने और फिर उन्हें बिना धोए मुंह में डालने से भी संक्रमण हो सकता है।

नोरोवायरस के लक्षण

नोरोवायरस के लक्षण उल्टी, दस्त, पेट दर्द और मतली हैं। यह वायरस आंतों या पेट में सूजन पैदा कर सकता है और इसे एक्यूट गैस्ट्रोएंटेराइटिस (acute gastroenteritis) कहा जाता है। इस वायरस के अन्य लक्षण सिरदर्द, बुखार और शरीर में दर्द हैं। लोग आमतौर पर 12 से 48 घंटों के भीतर लक्षण विकसित करते हैं और वे 1 से 3 दिनों तक रह सकते हैं।

नोरोवायरस प्रसार को कैसे रोका जा सकता है?

हाथ की स्वच्छता का अभ्यास करके, यानी खाना बनाने, खाने या संभालने से पहले हाथ धोना आदि। हाथों को साफ रखने के लिए एल्कोहल बेस्ड हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना चाहिए।

इलाज

इस वायरस की कोई विशेष दवा नहीं है। विशेषज्ञों ने दस्त और उल्टी से खोए हुए तरल पदार्थों को बदलने के लिए बहुत सारे तरल पदार्थ पीने का सुझाव दिया है ताकि निर्जलीकरण (dehydration) को रोका जा सके।

SOURCE-INDIAN EXPRESS

 

Renewables Integration in India 2021

22 जुलाई, 2021 ‘Renewables Integration in India 2021’ नामक एक रिपोर्ट संयुक्त रूप से नीति आयोग और IEA द्वारा लांच किया गया था। यह रिपोर्ट नवीकरणीय-समृद्ध राज्यों के सामने ऊर्जा परिवर्तन चुनौतियों को समझने के लिए कर्नाटक, महाराष्ट्र और गुजरात सरकारों के साथ तीन राज्यों में आयोजित कार्यशालाओं के परिणाम पर आधारित है।

रिपोर्ट के मुख्य बिंदु

  • यह रिपोर्ट पावर सिस्टम पर विभिन्न लचीलेपन विकल्पों के प्रभावों को चित्रित करने के लिए IEA मॉडलिंग परिणामों का उपयोग करती है।
  • इस रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत की उर्जा प्रणाली नवीकरणीय ऊर्जा (वर्ष 2022 तक 175 गीगावाट और वर्ष 2030 तक 450 गीगावाट) को कुशलतापूर्वक एकीकृत कर सकती है, लेकिन इसके लिए उचित योजना, नियामक नीति और संस्थागत समर्थन, संसाधनों की पहचान, ऊर्जा भंडारण और अग्रिम प्रौद्योगिकी पहल की आवश्यकता होगी।
  • भारत के राज्यों को कोयला आधारित बिजली संयंत्रों के अधिक लचीले संचालन, मांग प्रतिक्रिया, ग्रिड सुधार और भंडारण जैसे विस्तृत श्रृंखला विकल्पों को नियोजित करने की आवश्यकता है ताकि वे स्वच्छ बिजली प्रणालियों में परिवर्तन कर सकें।
  • उपयोग का समय (Time of Use – ToU) टैरिफ लचीली खपत को प्रोत्साहित करने और मांग पक्ष प्रबंधन को प्रोत्साहित करने के लिए एक प्रभावी उपकरण हो सकता है।
  • यह रिपोर्ट भारत में सभी हितधारकों के लिए भंडार के रूप में काम करेगी।
  • इस रिपोर्ट में थर्मल पावर प्लांट के लचीलेपन और ग्रीन कॉरिडोर के माध्यम से ट्रांसमिशन नेटवर्क को मजबूत करने के साथ-साथ भंडारण प्रौद्योगिकियों के लिए लागत प्रभावी समाधान की आवश्यकता पर सरकार की नीतियों का भी उल्लेख किया गया है।
  • कर्नाटक पावर ट्रांसमिशन कॉरपोरेशन लिमिटेड ने जोर दिया था कि अधिकतम नवीकरणीय ऊर्जा को अवशोषित करने के लिए राज्य ने सभी औद्योगिक उपभोक्ताओं को प्रोत्साहन प्रदान करते हुए 70% से 80% कृषि भार को दिन के समय में स्थानांतरित कर दिया है ताकि वे अधिक बिजली की खपत कर सकें और हरित ऊर्जा में राज्य की हिस्सेदारी बढ़ा सकें।
  • गुजरात विद्युत नियामक आयोग ने कहा कि पुराने नियमों को संशोधित करने की जरूरत है और नियामक आयोगों को राज्य में संशोधित नियमों को लागू करने के लिए सक्रिय भूमिका निभाने की जरूरत है।

SOURCE-GK TODAY

%d bloggers like this: