Home » Current Affairs - Hindi » Current Affairs 29 June 2021

Current Affairs 29 June 2021

CURRENT AFFAIRS – 29th JUNE 2021

आईएनएस तबर

नौसेना का प्रमुख विध्वंसक आईएनएस तबर 27 जून 2021 को दो दिनों के लिए मिस्र के अलेक्जेंड्रिया पहुंचा। भारत और मिस्र के बीच मैत्रीपूर्ण द्विपक्षीय संबंध हैं और भारतीय नौसेना के जहाज अक्सर अलेक्जेंड्रिया बंदरगाह का दौरा करते हैं।

कमांडिंग ऑफिसर आईएनएस तबर, कैप्टन एम महेश और जहाज के चालक दल ने ‘अलेक्जेंड्रिया नेवल अननोन सोल्जर मेमोरियल’ पर माल्यार्पण किया। कमांडिंग ऑफिसर ने अलेक्जेंड्रिया नेवल बेस के कमांडर रियर एडमिरल अयमान अल-डेली से भी मुलाकात की।

बंदरगाह से प्रस्थान करने पर, आईएनएस तबर ने मिस्र के नौसेना पोत तौशका के साथ समुद्र में ‘पार्टनरशिप एक्सरसाइज’ की। अभ्यास में डेक लैंडिंग ऑपरेशन और अंडरवाटर रिचार्ज ड्रिल शामिल थे। समुद्र में इस अभ्यास के दौरान भारतीय नौसेना और मिस्र की नौसेना के बीच सहयोग और समन्वय प्रशंसनीय था। आईएनएस तबर की सद्भावना यात्रा का उद्देश्य दोनों देशों के बीच संबंधों को मजबूत करने के साथ-साथ संबंधों को बढ़ाने के नए तरीके खोजना था।

आईएनएस तबर (एफ44) (“युद्ध कुल्हाड़ी” के रूप में अनुवादित) भारतीय नौसेना के तलवार-श्रेणी के युद्धपोत का तीसरा है। फ्रिगेट को 19 अप्रैल 2004 को रूस के कैलिनिनग्राद में कैप्टन (बाद में वाइस एडमिरल) बिस्वजीत दासगुप्ता के साथ कमीशन किया गया था। आईएनएस ताबर, तलवार श्रेणी का एक पोत है जो सुपरसोनिक ब्रह्मोस एंटी-शिप क्रूज मिसाइलों से लैस होगा। वह बराक 1 मिसाइलों से भी लैस है। तबर के वर्तमान कमांडिंग ऑफिसर (सीओ) कैप्टन मानव सहगल हैं।

आईएनएस तबर 31 जुलाई 2004 को मुंबई के अपने होम-पोर्ट पर पहुंचा। आईएनएस तलवार (संस्कृत में “तलवार”) और आईएनएस त्रिशूल (संस्कृत में “त्रिशूल”) के साथ, आईएनएस ताबर को भारतीय नौसेना के पश्चिमी नौसेना कमान को सौंपा गया है। मुख्यालय मुंबई में है। आईएनएस ताबर एक अच्छी तरह से सुसज्जित युद्धपोत है जिसमें हवाई/सतह/उप-सतह मिशनों को संभालने या समुद्री मिशनों पर स्वतंत्र रूप से संचालन करने या एक बड़े नौसैनिक टास्क फोर्स का समर्थन करने की क्षमता है।

हाल के दिनों में, जहाज ने सद्भावना मिशन पर फारस की खाड़ी के विभिन्न बंदरगाहों का दौरा किया है और यह यात्रा अत्यधिक सफल रही है। जहाज ने विशाखापत्तनम में अंतर्राष्ट्रीय फ्लीट रिव्यू में भी भाग लिया। इसने हाल ही में मॉरीशस के राष्ट्रीय दिवस समारोह में भाग लेने के लिए पोर्ट लुइस का दौरा किया

SOURCE-PIB

 

आत्‍मनिर्भर भारत अभियान योजना के अंतर्गत प्रधानमंत्री सूक्ष्‍म खाद्य उद्योग उन्‍नयन योजना (पीएमएफएमई) का एक वर्ष पूर्ण

खाद्य प्रसंस्‍करण उद्योग के असंगठित खंड में मौजूदा व्‍यक्तिगत सूक्ष्‍म उद्यमों की प्रतिस्‍पर्धात्‍मकता बढ़ाने और इस क्षेत्र के औपचारिकता को प्रोत्‍साहन देने के लिए आत्‍मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत शुरू की गई केंद्र प्रायोजित प्रधानमंत्री सूक्ष्‍म खाद्य उद्योग उन्‍नयन योजना अपने एक वर्ष के पूरा होने का प्रतीक है ।

पीएमएफएमई योजना के अंतर्गत हासिल की गई उपलब्धि

. एक जिला एक उत्‍पाद

पीएमएफएमई योजना के एक जिला एक उत्‍पाद (ओडीओपी) घटक के अंतर्गत खाद्य प्रसंस्‍करण उद्योग मंत्रालय ने राज्‍यों/संघ राज्‍य क्षेत्रों द्वारा प्राप्‍त सिफारिशों के अनुसार 137 यूनिक उत्‍पादों सहित 35 राज्‍यों और संघ राज्‍य क्षेत्रों के लिए 707 जिलों हेतु ओडीओपी को अनुमोदित किया है ।

भारत का जीआईएस ओडीओपी डिजिटल मैप सभी राज्‍यों और संघ राज्‍य क्षेत्रों के ओडीओपी उत्‍पादों का विवरण प्रदान करने के लिए शुरू किया गया है । डिजिटल मानचित्र में जनजातीय, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और आकांक्षी जिलों के लिए संकेतक भी हैं । यह हितधारकों को इसके मूल्‍य श्रृंखला विकास के लिए ठोस प्रयास करने में सक्षम बनाएगा ।

. अभिसरण (Convergence)  

पीएमएफएमई योजना के अंतर्गत खाद्य प्रसंस्‍करण उद्योग मंत्रालय ने ग्रामीण विकास मंत्रालय, जनजातीय मामले मंत्रालय और आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय के साथ तीन संयुक्‍त पत्रों पर हस्‍ताक्षर किए ।

खाद्य प्रसंस्‍करण उद्योग मंत्रालय ने भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर), राष्‍ट्रीय सहकारी विकास निगम (एनसीडीसी), भारतीय जनजातीय सहकारी विपणन विकास महासंघ (ट्राईफैड), भारतीय राष्‍ट्रीय कृषि-सहकारी विपणन संघ लिमिटेड (नेफेड), राष्‍ट्रीय अनुसूचित जाति वित्‍त एवं विकास निगम (एनएसएफडीसी), और ग्रामीण स्‍व-रोजगार प्रशिक्षण संस्‍थान (आरएसईटीओ) के साथ छह एमओयू (समझौता ज्ञापन) पर हस्‍ताक्षर किए ।

योजना के नोडल बैंक के रूप में यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं और 11 बैंकों के साथ पीएमएफएमई योजना के लिए आधिकारिक ऋण देने वाले भागीदारों के रूप में समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए हैं।

.  क्षमता निर्माण और उद्भवन केंद्र (Capacity building & Incubation Centres)

पीएमएफएमई योजना के क्षमता निर्माण घटक के अंतर्गत राष्ट्रीय खाद्य प्रौद्योगिकी उद्यमिता और प्रबंधन संस्थान (NIFTEM) और भारतीय खाद्य प्रसंस्करण प्रौद्योगिकी संस्थान (IIFPT) राज्य स्तरीय तकनीकी संस्थानों के साथ पार्टनर्शिप में चयनित उद्यमों/क्‍लस्टरों/समूहों को प्रशिक्षण और अनुसंधान सहायता प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। उद्यमिता विकास कार्यक्रम (ईडीपी) और विभिन्न खाद्य उत्पादों के तहत 371 मास्टर ट्रेनरों का प्रशिक्षण आयोजित किया गया।

निफ्टेम और आईआईएफपीटी ने 137 ओडीओपी पर प्रशिक्षण मॉड्यूल तैयार किए हैं जिनमें 175 प्रजेंटेशन, 157 वीडियो, 166 डीपीआर और 177 पाठ्यक्रम सामग्री/हैंडबुक शामिल हैं। 18 राज्यों/संघ शासित प्रदेशों में 469 जिला स्तरीय प्रशिक्षकों का प्रशिक्षण आयोजित किया गया और अन्य राज्यों में प्रगति पर है। 302 जिलों में 491 जिला रिसोर्स पर्सन की नियुक्ति की गई है।

योजना के तहत, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, जम्मू-कश्मीर, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, तेलंगाना, छत्तीसगढ़, हिमाचल प्रदेश, केरल, सिक्किम, अंडमान और निकोबार, आंध्र प्रदेश, , मेघालय, मिजोरम, ओडिशा और उत्तराखंड जैसे 17 राज्यों और संघ राज्‍य क्षेत्रों में 54 कॉमन इन्क्यूबेशन केंद्रों को मंजूरी दी गई है। खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय ने आईआईएफपीटी के सहयोग से कॉमन इनक्यूबेशन सेंटर के प्रस्तावों को प्रस्तुत करने के लिए एक ऑनलाइन पोर्टल और देश भर में इनक्यूबेशन केंद्रों के विवरण की सुविधा के लिए एक ऑनलाइन कॉमन इनक्यूबेशन सेंटर मैप विकसित किया है।

 .  प्रारम्भिक पूंजी (Seed Capital)

स्वयं सहायता समूहों को प्रारम्भिक पूंजी उपलब्ध कराने के लिए पीएमएफएमई योजना के अंतर्गत घटक को राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (एनआरएलएम) और राज्य स्तर पर संचालित राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन (एसआरएलएम) के नेटवर्क के सहयोग से कार्यान्वित किया जा रहा है । पीएमएफएमई योजना में कार्यशील पूंजी के लिए 40,000 रुपये की वित्तीय सहायता और खाद्य प्रसंस्करण गतिविधियों में लगे स्वयं सहायता समूहों के प्रत्येक सदस्य के लिए छोटे उपकरणों की खरीद की परिकल्पना की गई है। अब तक एनआरएलएम ने 123.54 करोड़ रुपये की राशि के लिए राज्य नोडल एजेंसियों (एसएनए) को 43,086 एसएचजी सदस्यों की सिफारिश की है। एसएनए ने 8040 सदस्यों की प्रारम्भिक पूंजी को मंजूरी दी है और एसआरएलएम को 25.25 करोड़ रुपये की राशि वितरित की है।

 .   विपणन और ब्रांडिंग

योजना के तहत, प्रत्येक 10 उत्पादों के लिए विपणन और ब्रांडिंग समर्थन लेने के लिए नेफेड और ट्राइफेड के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए हैं। नेफेड ने ब्रांडिंग और मार्केटिंग समर्थन के लिए अनानास, बाजरा आधारित उत्पाद, धनिया, मखाना, शहद, रागी, बेकरी, इसबगोल, हल्दी और चेरी जैसे उत्पादों का चयन किया है। ट्राइफेड ने योजना के तहत शहद, इमली, मसाले, आंवला, दालें/अनाज/बाजरा, कस्टर्ड सेब, जंगली मशरूम, काजू, काला चावल और जंगली सेब जैसे उत्पादों का चयन किया है।

.  संस्थागत तंत्र (Institutional Mechanism)

सभी 35 प्रतिभागी राज्यों और संघ राज्‍य क्षेत्रों ने अपनी-अपनी राज्य नोडल एजेंसियों, राज्य स्तरीय अनुमोदन समितियों, जिला स्तरीय समितियों और राज्य स्तरीय तकनीकी संस्थानों का गठन/चिन्हित किया है। इसके अलावा, निफ्टेम में एक कॉल सेंटर की स्थापना की गई है ताकि प्रश्नों का समाधान किया जा सके और योजना के हितधारकों का मार्गदर्शन किया जा सके।

.   पीएमएफएमई योजना का प्रचार और प्रसार

खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय राज्यों/संघ राज्‍य क्षेत्रों और कृषि विश्वविद्यालयों के सहयोग से रेडियो, प्रिंट मीडिया, ऑफलाइन कार्यशालाओं, वेबिनार, क्षेत्रीय भाषा ब्रोशर/बुकलेट्स, आउटडोर पब्लिसिटी और वेबसाइट, एप्स और सोशल मीडिया प्लेटफार्मों के माध्यम से डिजिटल मीडिया के द्वारा हितधारकों को जागरूक करने के लिए पीएमएफएमई योजना का राष्ट्रव्यापी संवर्धन और प्रचार कर रहा है । पीएमएफएमई योजना मासिक ई-न्यूजलेटर 5 लाख से अधिक हितधारकों को भेजा जा रहा है। एग्री-बिजनेस इनक्यूबेटर, इंडस्ट्री एक्सपर्ट्स और स्टार्टअप्स के साथ बातचीत करने के लिए पीएमएफएमई पॉडकास्ट सीरीज शुरू की गई है ।

आजादी का अमृत महोत्सव पहल के अंतर्गत भारत की स्वतंत्रता के 75 वर्षों के उपलक्ष्य में खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय राज्यों/संघ शासित प्रदेशों, निफ्टेम और आईआईएफपीटी के सहयोग से देश भर में 75 एक जिला एक उत्पाद (ओडीपी) वेबिनार/ऑफलाइन कार्यशालाओं का आयोजन कर रहा है। मौजूदा सूक्ष्म खाद्य प्रसंस्करण उद्यमों की 75 कहानियों को लाने के लिए “कहानी सूक्ष्‍म उद्यमों की” शीर्षक से सफलता की कहानियों की एक साप्ताहिक श्रृंखला शुरू की गई है।

पीएमएफएमई योजना के बारे में

आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत शुरू की गई, प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना (पीएमएफएमई)  एक केंद्र प्रायोजित योजना है जिसका उद्देश्य खाद्य प्रसंस्करण उद्योग के असंगठित खंड में मौजूदा व्यक्तिगत सूक्ष्म उद्यमों की प्रतिस्पर्धात्मकता को बढ़ाना, क्षेत्र के औपचारिकता को बढ़ावा देना और किसान उत्पादक संगठनों, स्वयं सहायता समूहों और उत्पादकों को उनकी पूरी मूल्य श्रृंखला के साथ सहकारी समितियों को सहायता प्रदान करना है। वर्ष 2020-21 से 2024-25 तक पांच वर्षों की अवधि में 10,000 करोड़ रुपये के परिव्यय के साथ इस योजना में मौजूदा सूक्ष्म खाद्य प्रसंस्करण उद्यमों के उन्नयन के लिए वित्तीय, तकनीकी और व्यावसायिक सहायता प्रदान करने के लिए 2,00,000 सूक्ष्म खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों को सीधे सहायता देने की परिकल्पना की गई है।

प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना

केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने 17 नवंबर, 2020 को ‘प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना’ [Pradhan Mantri Formalisation of Micro food processing Enterprises (PM-FME Scheme)] के क्षमता निर्माण घटक के लिए मास्टर ट्रेनर्स प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

योजना का उद्देश्य : खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में असंगठित रूप से कार्य कर रहे छोटे उद्यमियों को बढ़ावा देना और इस क्षेत्र में एक स्वस्थ प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा देना; इस क्षेत्र से जुड़े कृषक उत्पादक संगठनों, स्वयं सहायता समूहों तथा सहकारी उत्पादकों को सहायता प्रदान करना।

महत्वपूर्ण तथ्य : प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना, केंद्र सरकार द्वारा प्रवर्तित योजना है, जो आत्मनिर्भर भारत अभियान के अतंर्गत प्रारंभ की गई है।

  • योजना के तहत 2020-21 से 2024-25 के मध्य 2 लाख सूक्ष्म खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों को वित्तीय, तकनीकी एवं विपणन सहयोग प्रदान करने के लिए 10 हजार करोड़ रुपए की धनराशि का प्रावधान रखा गया है।
  • खाद्य प्रसंस्करण उद्यमियों के साथ-साथ स्वयं सहायता समूहों, कृषक उत्पादक संगठनों (PPO) सहकारिता क्षेत्र से जुड़े लोगों, श्रमिकों एवं अन्य हितधारकों को इस योजना के तहत प्रशिक्षण दिया जा रहा है।
  • उन्होंने ‘एक जिला-एक उत्पाद योजना’ (One District One Product- ODOP) का जीआईएस डिजीटल मानचित्र भी जारी किया। यह सभी राज्यों के ODOP उत्पादों का विवरण प्रदान करता है। मानचित्र में आदिवासी, एससी, एसटी, और आकांक्षी जिलों के लिए संकेतक भी हैं।

आत्मनिर्भर भारत अभियान PM Modi Aatm Nirbhar Yojana

  • प्रधानम्नत्री नरेंद्र मोदी द्वारा देश में कोरोना वायरस के संकट के समय में अनेको बार राष्ट के नाम सम्बोधन में देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सभी से प्रयास करने की बात कही गयी है। देश में आयात को कम करने तथा सप्लाई चेन के विकास के द्वारा देश को प्रत्येक क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रयास करने की बात कहु गयी है।
  • इसी के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आज दिनांक 12 मई 2020 को राष्ट के नाम सम्बोधन मेंआत्मनिर्भर भारत अभियान (Aatm Nirbhar Yojana) की शुरुआत की गयी है। इस अभियान का मुख्य उद्देश्य देश के 130 करोड़ नागरिको को आत्मनिर्भर बनने तथा स्वेदेशी उत्पादों के ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल की बात कही गयी है।

आत्मनिर्भर भारत अभियान का उद्देश्य

  • प्रधानम्नत्री नरेंद्र मोदी द्वारा देश में कोरोना वायरस के संकट के समय में अनेको बार राष्ट के नाम सम्बोधन में देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सभी से प्रयास करने की बात कही गयी है। देश में आयात को कम करने तथा सप्लाई चेन के विकास के द्वारा देश को प्रत्येक क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रयास करने की बात कही गयी है।  इसी के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 12 मई 2020 को राष्ट के नाम सम्बोधन में Aatm Nirbhar Yojana की शुरुआत की गयी है।
  • इस अभियान का मुख्य उद्देश्य देश के 130 करोड़ नागरिको को आत्मनिर्भर बनाना है।आत्मनिर्भर भारत अभियान के माध्यम से देश के नागरिकों के लिए विभिन्न प्रकार की योजनाएं शुरू की गईं, ताकि देश की आर्थिक स्थिति में सुधार हो सके। आत्मनिर्भर भारत अभियान का मुख्य उद्देश्य देश की आर्थिक स्थिति में सुधार करना है, ताकि देश की अर्थव्यवस्था को पहले से बहाल किया जा सके।

आत्मनिर्भर भारत अभियान के लाभ

  • इस राहत पैकेज से MEMEs के तहत जुड़े हुए 12 करोड़ से अधीक लोगो को लाभ प्राप्त होगा।
  • करीब 11 करोड़ MEMEs कर्मचारियों को इससे सीधा लाभ पहुंचाया जायेगा। इस क्षेत्र से जुड़े लगभग 4 करोड़ लोगो को लाभ पहुंचाया जायेगा।
  • कुटीर उद्योग, गृह उद्योग, हमारे लघु-मंझोले उद्योगो के लिएआत्मनिर्भर भारत अभियान में अनेको घोषणाएं की गयी है।
  • इस आर्थिक पैकेज से गरीब मजदूरों, कर्मचारियों के साथ ही होटल तथा टेक्सटाइल सेक्टर से जुड़े हुए मजदूर को सीधा लाभ पहुंचाया जा सकेगा।
  • कोरोना वायरस के संक्रमण के समय देश में इस राहत पैकेज से करोड़ नौकरियों को बचाया का सकेगा।

आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत आने वाले क्षेत्र

  • कृषि प्रणाली (Reformation Of Agricultural Supply Chain & System)
  • सरल और स्पष्ट नियम कानून (Rational Tax System)
  • उत्तम आधारिक संरचना (Reformation Of Infrastructure)
  • समर्थ और संकल्पित मानवाधिकार ( Capable Human Resources)
  • बेहतर वित्तीय सेवा (A Good Financial System)
  • नए व्यवसाय को प्रेरित करना (To Motivate New Business)
  • निवेश को प्रेरित करना (Provide Good Investment Opportunities)
  • मेक इन इंडिया (Make In India Mission)

आत्मनिर्भर भारत अभियान 3.0 के अंतर्गत लांच की गई 12 योजनाएं

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना

इस योजना के तहत, संगठित क्षेत्र में रोजगार प्रदान करने पर जोर दिया जाएगा और अधिक से अधिक लोगों को कर्मचारी भविष्य निधि से जोड़ा जाएगा। 30 जून 2021 तक आत्मनिर्भर भारत रोज़गार अभियान चलाया जाएगा। केवल ईपीएफओ के तहत पंजीकृत संस्थान ही  इस योजना के तहत लाभ उठा सकते हैं। यदि कोई संस्थान ईपीएफओ के तहत पंजीकृत नहीं है, तो वह इस योजना का लाभ नहीं उठा सकता है। इस योजना के तहत, सभी संगठन जिनके पास 1000 से कम कर्मचारी हैं, में केंद्र सरकार द्वारा कर्मचारी के हिस्से का 12% और नियोक्ता के 12% का योगदान दिया जायेगा। 1000 से अधिक कर्मचारियों वाले संगठन में, केंद्र सरकार कर्मचारियों के हिस्से का 12% योगदान देगी। यह योजना 2 वर्षों तक जारी रहेगी। इस योजना के लिए पात्र बनने के लिए, आपको आधार के साथ एक ईपीएफ खाता खोलना होगा।

इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम

आपातकालीन क्रेडिट लाइन गारंटी योजना को भी 31 मार्च 2021 तक बढ़ा दिया गया है, ताकि अधिक से अधिक लोग इस योजना का लाभ उठा सकें। इस योजना के तहत संपार्श्विक मुक्त ऋण प्रदान किया जा रहा था। इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी योजना के तहत व्यवसाय के लिए ऋण लिया जा रहा है। इस योजना के पात्र लाभार्थी एमएसएमई इकाइयां, व्यवसाय उद्यम, व्यक्तिगत ऋण और मुद्रा ऋण लेने वाले व्यक्ति हैं। इस योजना के तहत अब तक 61 लाख लोगों को 2.05 लाख करोड़ रुपये प्रदान किए गए हैं। कामत समिति द्वारा इस योजना के तहत 26 तनावग्रस्त क्षेत्रों को भी शामिल किया गया है।

आत्मनिर्भर मैन्युफैक्चरिंग प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव स्कीम

उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव स्कीम शुरू की गई है। घरेलू विनिर्माण को इस योजना के तहत बढ़ावा दिया जाएगा, ताकि देश में निर्यात बड़ा हो और आयात कम हो। अगले 5 वर्षों के लिए, इस योजना के तहत दो लाख करोड़ रुपये का बजट निर्धारित किया गया है। 10 नए क्षेत्रों को आत्मनिर्भर विनिर्माण उत्पादन लिंक्ड प्रोत्साहन योजना से जोड़ा गया है, ताकि अर्थव्यवस्था आगे बढ़े। इस योजना में उन्नत रासायनिक सेल बैटरी, इलेक्ट्रॉनिक और प्रौद्योगिकी उत्पाद, ऑटोमोबाइल और ऑटो घटक, फार्मास्युटिकल ड्रग्स, दूरसंचार और नेटवर्किंग उत्पाद, कपड़ा उत्पाद, खाद्य उत्पाद, सौर पीवी मॉड्यूल, सफेद वस्तुएं और विशेष इस्पात शामिल हैं।

प्रधानमंत्री आवास योजना(शहरी)

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 18000 करोड़ रुपये का अतिरिक्त योगदान देने का निर्णय लिया गया है। यह 2020-21 में 8000 करोड़ रुपये के बजट से अलग 18000 करोड़ रुपये होंगे। इस योजना के तहत 1200000 घर बनाए जाएंगे और 1800000 घर पूरे किए जाएंगे। इस योजना के माध्यम से 78 लाख से अधिक रोजगार के अवसर पैदा होंगे और 25 लाख मीट्रिक टन स्टील और 131 लाख मीट्रिक टन सीमेंट का उपयोग किया जाएगा।

कंस्ट्रक्शन तथा इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर को सहायता

सरकार द्वारा प्रदर्शन सुरक्षा को 5 से 10% से घटाकर 3% कर दिया गया है। इसके साथ, निर्माण और बुनियादी ढांचे से जुड़ी कंपनियों के पास काम करने के लिए अधिक पूंजी लगाई जाएगी। अब टेंडर भरने के लिए ईएमडी की आवश्यकता नहीं होगी, इसे बिड सिक्योरिटी डिक्लेरेशन द्वारा प्रतिस्थापित किया जाएगा। यह सुविधा 31 दिसंबर 2021 तक प्रदान की जाएगी।

घर बनाने वाले तथा घर खरीदने वालों के लिए इनकम टैक्स रिलीफ

धारा 43 के तहत डिफरेंशियल 10% से बढ़ाकर 20% कर दिया गया है। यह बदलाव केवल उन घरों के लिए है जो पहली बार 30 जून, 2021 तक बेचे गए थे, जिनका मूल्य दो करोड़ रुपये तक है।

एग्रीकल्चर सब्सिडी फर्टिलाइजर

जैसा कि आप जानते हैं कि खेत में पानी लगाने के बाद सबसे ज्यादा जरूरत खाद की होती है। उर्वरक का उपयोग हर साल बढ़ रहा है। इसे ध्यान में रखते हुए, उर्वरक सब्सिडी प्रदान करने के लिए 65000 करोड़ रुपये दिए जाएंगे। ताकि देश के 140 मिलियन किसानों के पास खाद की कमी न हो।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना 116 जिलों में लागू की जा रही है। इसके तहत अब तक 37543 करोड़ रुपये खर्च किए जा चुके हैं। अब पीएम गरीब कल्याण योजना के तहत 10,000 करोड़ रुपये अधिक खर्च किए जाएंगे। ताकि देश के हर नागरिक तक रोजगार पहुँचे और गाँव की अर्थव्यवस्था भी बढ़े। इस योजना के माध्यम से प्रणाली में पारदर्शिता आएगी और बेरोजगारी की दर में भी कमी आएगी।

बूस्ट फॉर प्रोजेक्ट एक्सपोर्ट्स

एलओसी के तहत 811 निर्यात अनुबंधों का वित्तपोषण किया जा रहा है। अब परियोजना निर्यात को बढ़ावा देने के लिए एक्सिम्बैंक को 3000 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता दी जाएगी। यह वित्तीय सहायता आइडिया योजना के तहत प्रदान की जाएगी। प्रोजेक्ट एक्सपोर्ट में पावर, रेलवे, ट्रांसपोर्ट, ट्रांसमिशन रोड आदि प्रोजेक्ट शामिल हैं।

कैपिटल एंड इंडस्ट्रियल स्टीमुलस

सरकार द्वारा पूंजी और औद्योगिक व्यय के लिए 10200 करोड़ रुपये का अतिरिक्त बजट निर्धारित किया गया है। यह सहायता घरेलू रक्षा उपकरण, औद्योगिक प्रोत्साहन, औद्योगिक अवसंरचना, हरित ऊर्जा आदि के लिए प्रदान की जाएगी ताकि हमारा देश उत्पादन के क्षेत्र में आगे बढ़ सके।

कोविड-19 वैक्सीन के शोध तथा विकास के लिए

भारतीय कोविद वैक्सीन के अनुसंधान और विकास के लिए कोविद सुरक्षा मिशन के लिए 900 करोड़ रुपये की राशि प्रदान की जाएगी। यह धन जैव प्रौद्योगिकी विभाग को प्रदान किया जाएगा।

SOURCE-PIB

 

एनफोर्सिंग कॉन्ट्रेक्ट पोर्टल

सचिव (न्याय) श्री बरुन मित्रा ने दिल्ली स्थित न्याय विभाग में अन्य आला अधिकारियों की उपस्थिति में 28 जून, 2021 को एक विशिष्ट “एनफोर्सिंग कॉन्ट्रेक्ट्स पोर्टल” का उद्घाटन किया।

विश्व बैंक समूह की डूइंग बिजनेस रिपोर्ट दुनिया की 191 अर्थव्यवस्थाओं में व्यापार को कानूनी तौर पर नियमित करने का मानदंड है। इसके तहत व्यापार सुगमता सूचकांक एक ऐसी रैंकिंग प्रणाली है, जिसके द्वारा किसी अर्थव्यवस्था के बारे में यह संकेत मिल जाता है कि व्यापार नियमन के 11 क्षेत्रों में वह अन्य अर्थव्यवस्थाओं की तुलना में क्या हैसियत रखती है।“अनुबंध प्रवर्तन” संकेतक एक ऐसा अहम क्षेत्र है, जो मानक व्यापार विवादों के निपटारे में लगने वाले खर्च और समय के बारे में बताता है। इसके अलावा न्यायपालिका में उत्कृष्ट व्यवहारों के बारे में जानकारी देता है। मौजूदा समय में, सिर्फ दिल्ली और मुम्बई शहर को ही विश्व बैंक के व्यापार सुगमता सर्वेक्षण में शामिल किया गया है। कोलकाता और बेंगलूरू को भविष्य में डूइंग बिजनेस रिपोर्ट में शामिल करने की संभावना है।

विधि और न्याय मंत्रालय का न्याय विभाग, नोडल विभाग होने के नाते भारत में व्यापार सुगमता के हवाले से “अनुबंध प्रवर्तन” को मजबूत बनाने के लिये विधायी और नीतिगत सुधारों की निगरानी करता है। इसका अर्थ यह है कि जिन पक्षों में किसी व्यापार का अनुबंध किया जाये, तो उसके सिलसिले में दोनों पक्ष अपना वायदा पूरा करें। इसमें उच्चतम न्यायालय और दिल्ली, मुम्बई, कोलकाता और कर्नाटक के उच्च न्यायालयों की ई-समिति का सहयोग है। इन सबके साथ करीबी सहयोग की बदौलत न्याय विभाग विभिन्न सुधार उपायों का भरपूर इस्तेमाल कर रहा है, ताकि कारगर, कुशल, पारदर्शी और मजबूत “अनुबंध प्रवर्तन कानून” बनाया जा सके।

पोर्टल में “अनुबंध प्रवर्तन” पैमानों के बारे में विधायी और नीतिगत सुधारों की समग्र सूचना उपलब्ध होगी। इसमें दिल्ली, मुम्बई, बेंगलूरु और कोलकाता के समर्पित वाणिज्यिक अदालतों में चलने वाले और निपटाये जाने वाले मुकदमों की ताजा जानकारी रहेगी। इनसमर्पित वाणिज्यिक अदालतों को व्यापार विवादों के जल्द निपटारे के लिये स्थापित किया गया है।

वाणिज्यिक अदालत और सम्बंधित सेवाओं की सूचना को सुगम बनाने के लिये पोर्टल में कई फीचर शामिल किये गये हैं। इन फीचरों में दिल्ली, मुम्बई, बेंगलूरु और कोलकाता में समर्पित वाणिज्यिक अदालतों के विवरण/लिंक; ई-फाइलिंग, अधिवक्ता पंजीकरण सम्बंधी जानकारी वाले वीडियो; न्यायाधिकारियों के लिये जस्टिस एप्प, वकीलों के लिये ई-कोर्ट एप्प जैसे इलेक्ट्रॉनिक केस मैनेजमेंट टूल्स की जानकारी शामिल है, जिन्हें भारत के सर्वोच्च न्यायालय की ई-समिति ने विकसित किया है; तथा सीधे संदर्भ के लिये वाणिज्यिक कानून की जानकारी को भी पोर्टल में रखा गया है।

नये पोर्टल में वाणिज्यिक अदालतों से जुड़े मध्यस्थता और पंचाट केंद्रों के बारे में सभी उच्च न्यायालयों द्वारा ऑनलाइन रिपोर्ट भी दी जायेगी, ताकि व्यापार मुकदमों के सिलसिले में संस्थागत-पूर्व मध्यस्थता और समझौते (पीआईएमएस) को प्रोत्साहन दिया जा सके और उसकी निगरानी हो सके। पीआईएमएस को इस उद्देश्य से स्थापित किया गया है, ताकि लंबित मुकदमों की संख्या कम हो और मध्यस्थता को बढ़ावा मिले, क्योंकि मध्यस्थता व्यापापर विवाद को निपटाने का एक कारगर विकल्प है।

SOURCE-PIB

 

नस्लीय न्याय और समानता पर संयुक्त राष्ट्र ने रिपोर्ट जारी की

संयुक्त राष्ट्र ने नस्लीय न्याय और समानता पर अपनी रिपोर्ट प्रकाशित की और जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या जैसे बार-बार होने वाले आक्रोश से बचने के लिए दुनिया भर में अश्वेत लोगों के खिलाफ प्रणालीगत नस्लवाद को तुरंत खत्म करने का आह्वान किया।

रिपोर्ट के प्रमुख निष्कर्ष

  • इस रिपोर्ट के अनुसार, अफ्रीकी मूल के लोगों के अमानवीयकरण ने नस्लीय भेदभाव और हिंसा के लिए एक संस्कृति सहिष्णुता पैदा की है।
  • इसमें पीड़ितों के लिए जवाबदेही और निवारण भी शामिल है।

आगे का रास्ता

  • संयुक्त राष्ट्रमानवाधिकार उच्चायुक्त ने नस्लीय न्याय और समानता पर परिवर्तन लाने के लिए चार सूत्री एजेंडा तय किया है और देशों  से इसे लागू करने को कहा है।
  • इसने ब्लैक लाइव्स मैटर जैसे समूहों के लिए ऐतिहासिक नस्लवाद और फंडिंग के लिए पुनर्मूल्यांकन को शामिल करने का आह्वान किया।
  • जब नस्लवाद की बात आती है तो इसने “इनकार की संस्कृतियों” को उलटने का आह्वान किया।इसने कहा कि कानून प्रवर्तन अधिकारियों द्वारा मानवाधिकारों के उल्लंघन के लिए कोई छूट नहीं होनी चाहिए।इसने विश्वास बनाने और संस्थागत निरीक्षण को सुदृढ़ करने का भी आग्रह किया।
  • यह अश्वेत लोगों और नस्लवाद विरोधी कार्यकर्ताओं की आवाज सुनने के लिए भी अनिवार्य है।

मानवाधिकार के लिए संयुक्त राष्ट्र उच्चायुक्त कार्यालय

इसे आमतौर पर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यालय (United Nations Human Rights Office) के रूप में जाना जाता है। संयुक्त राष्ट्र सचिवालय का यह विभाग अंतर्राष्ट्रीय कानून के तहत गारंटीकृत मानवाधिकारों को बढ़ावा देने और उनकी रक्षा करने के लिए काम करता है। यह कार्यालय 1993 में संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा मानवाधिकारों पर विश्व सम्मेलन के बाद स्थापित किया गया था।

SOURCE-GK TODAY

 

 

मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस 2021 स्पेन के बार्सिलोना में शुरू हुई

मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस (MWC) 2021 का दुनिया का सबसे बड़ा मोबाइल इवेंट है। इसकी शुरुआत 28 जून को बार्सिलोना में हुई।

प्रमुख बिंदु

  • यह सबसे बड़े ट्रेड शो में से एक है जो कोविड-19 महामारी के बीच हाइब्रिड रूप में आयोजित किया जा रहा है।
  • इस साल इस इवेंट में Nokia, Goggle, Facebook, Xiaomi और Sony जैसे ब्रांड शामिल हो रहे हैं।

मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस क्या है?

मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस या MWC बार्सिलोना दूरसंचार उद्योग में नवाचारों पर केंद्रित एक वार्षिक कार्यक्रम है। इसे GSMA द्वारा होस्ट किया जा रहा है। इस कार्यक्रम में प्रमुख दूरसंचार ऑपरेटरों, घटक निर्माताओं, स्मार्टफोन कंपनियों, मीडिया और दुनिया भर के दूरसंचार मंत्रालयों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

स्पेन में कोविड19

स्पेन ने 26 जून, 2021 को COVID-19 प्रतिबंधों में ढील दी और बाहर फेस मास्क पहनने की आवश्यकता को समाप्त कर दिया गया है। हालांकि, सार्वजनिक स्थानों और सार्वजनिक परिवहन में मास्क अनिवार्य है।

पृष्ठभूमि

बार्सिलोना 2006 से MWC की मेजबानी कर रहा है। MWC 2021 मूल रूप से मार्च 2021 के लिए निर्धारित किया गया था, लेकिन इसे कोविड -19 महामारी के कारण स्थगित कर दिया गया था।

GSM Association (GSMA)

GAMA को मोबाइल संचार के लिए वैश्विक प्रणाली भी कहा जाता है। यह एक उद्योग संगठन है जो दुनिया भर में मोबाइल नेटवर्क ऑपरेटरों के हितों का प्रतिनिधित्व करता है। लगभग 750 मोबाइल ऑपरेटर GSMA के पूर्ण सदस्य हैं जबकि 400 कंपनियां सहयोगी सदस्य हैं। GSMA उद्योग कार्यक्रमों, कार्य समूहों और उद्योग समर्थन पहलों के माध्यम से अपने सदस्यों का प्रतिनिधित्व करता है।

SOURCE-GK TODAY

%d bloggers like this: