UV-C Disinfection Technology

भारत सरकार ने संसद, एसी बसों और ट्रेनों में परीक्षण के लिए अल्ट्रा वायलेट-सी डिसइंफेक्शन टेक्नोलॉजी तैनात की है। यह तकनीक एक बड़ी सफलता है। इसे अब जनता के लिए रोल आउट किया जायेगा। साथ ही, ECI (भारत के चुनाव आयोग) की चुनावी बैठकों के दौरान इस तकनीक का इस्तेमाल किया जायेगा।

इस तकनीक का विकास किसने किया?

इसे विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत CSIR-Council of Scientific Instruments Organization द्वारा विकसित किया गया है।

यूवी-सी कीटाणुशोधन प्रौद्योगिकी (UV-C Disinfection Technology)

  • अल्ट्रा वायलेट सी तकनीक 100 NM और 280 NM के बीच तरंग दैर्ध्य (wavelength) का उपयोग करती है। यूवी प्रकाश अर्थात् यूवी-ए और यूवी-बी वातावरण के माध्यम से प्रेषित होते हैं। यूवी-बी त्वचा की बाहरी परत को भेदने में सक्षम है। यह त्वचा के कैंसर का कारण बनता है।
  • यूवी-सी प्रकाश ओजोन परत द्वारा फ़िल्टर किया जाता है।
  • दशकों से अस्पतालों में हवा को कीटाणुरहित करने के लिए यूवी-सी विकिरण का उपयोग किया जाता रहा है। यह एक पारंपरिक कीटाणुनाशक उपचार है।

COVID-19 में यूवी-सी (UV–C in COVID-19)

यूवी-सी कोविड-19 के बाहरी प्रोटीन कोटिंग को नष्ट कर देता है। विशेष रूप से, दूर-यूवीसी प्रकाश COVID-19 वायरस को मारने में अत्यधिक कुशल है। वैज्ञानिकों ने साबित किया कि अल्फा और बीटा म्यूटेंट सुदूर यूवीसी द्वारा मारे जाते हैं। इसके लिए वे 222 NM दूर यूवीसी रेडिएशन का इस्तेमाल करते हैं। इस 222 NM यूवीसी को मुख्य रूप से इसलिए चुना गया क्योंकि यह स्तनधारी त्वचा, यानी मानव त्वचा को नुकसान नहीं पहुंचाता है। क्योंकि, वायरस और बैक्टीरिया की कोशिकाएं मानव कोशिकाओं की तुलना में बहुत छोटी होती हैं।

यूवी-सी विकिरण क्या कर सकता है?

यह हवा, झरझरा सतह और पानी को कीटाणुरहित करता है। यह वायरस को तभी मारता है जब वायरस सीधे यूवी-सी के संपर्क में आता है। इसलिए, यूवी-सी का उपयोग धूल भरी सतहों और शारीरिक तरल पदार्थों वाली अन्य सतहों को कीटाणुरहित करने के लिए नहीं किया जा सकता है।

क्या UV-A और UV-B COVID वायरस को मार सकते हैं?

हाँ, लेकिन आंशिक रूप से। यह यूवी-सी जितना प्रभावी नहीं है। इसके अलावा, यूवी-बी यूवी-सी के विपरीत डीएनए को नुकसान पहुंचाता है।

यूवी-सी के संभावित खतरे

यूवी-सी कीटाणुशोधन तकनीक का उपयोग प्लास्टिक, रंगे हुए वस्त्र और पॉलिमर से बनी सतहों पर नहीं किया जा सकता है। UVC ओजोन बनाता है। ओजोन को साँस द्वारा लेने से वायुमार्ग में जलन पैदा होती है।

SOURCE-GK TODAY

PAPER-G.S.1PRE