Home » Current Affairs - Hindi » Current Affair 13 March 2021

Current Affair 13 March 2021

Current Affairs – 13 March, 2021

राज्य चुनाव आयुक्त

सुप्रीम कोर्ट ने माना कि स्वतंत्र व्यक्तियों और नौकरशाहों को राज्य चुनाव आयुक्त नियुक्त नहीं किया जाना चाहिए।

उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को कहा कि केंद्र या राज्य सरकार की नौकरी करने वाला या उससे जुड़ा कोई व्यक्ति राज्य के चुनाव आयुक्त के तौर पर काम नहीं कर सकता। उसने कहा कि इस जिम्मेदारी को एक स्वतंत्र व्यक्ति द्वारा संभाला जाना चाहिए।

यह फैसला गोवा सरकार की अपील पर आया है जो उसने पंचायत चुनाव पर उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ दायर की थी। पीठ ने कहा कि चुनाव आयुक्त स्वतंत्र व्यक्ति होने चाहिए और कोई भी सरकार अपने अधीन किसी कार्यालय में काम करने वाले व्यक्ति को चुनाव आयुक्त के पद पर नियुक्त नहीं कर सकती है।

न्यायमूर्ति आर एफ नरीमन की अध्यक्षता वाली पीठ ने गोवा राज्य निर्वाचन आयोग को यह निर्देश भी दिया कि आज से दस दिन के भीतर वह पंचायत चुनावों के लिए अधिसूचना जारी करे और चुनाव प्रक्रिया 30 अप्रैल तक पूरी करे।

न्यायालय ने कहा कि संविधान के तहत यह राज्य का कर्तव्य है कि वह राज्य निर्वाचन आयोग के कामकाज में हस्तक्षेप नहीं करे।

IMPORTANT FACTS

अनुच्छेद 243 k?

  • अनुच्छेद 243 k पंचायतों के चुनावों से संबंधित है।
  • इसमें कहा गया है कि पंचायतों के लिए निर्वाचन नामावली की तैयारी के लिए अधीक्षण, निर्देशन और नियंत्रण, और आचरण, सभी चुनाव राज्य निर्वाचन आयोग में निहित होंगे।
  • इसमें राज्यपाल द्वारा नियुक्त किए जाने वाले राज्य चुनाव आयुक्त शामिल होंगे।
  • राज्य विधानमंडल द्वारा बनाए गए किसी भी कानून के प्रावधानों के अधीन, राज्य निर्वाचन आयुक्त के पद की सेवा और कार्यकाल की शर्तें ऐसी होंगी जैसे कि राज्यपाल नियम के अनुसार निर्धारित कर सकते हैं। हालाँकि,

राज्य निर्वाचन आयुक्त को उनके कार्यालय से केवल उच्च न्यायालय के न्यायाधीश के जैसे और उसी तरह के आधार पर ही हटाया जा सकता है।

राज्य चुनाव आयुक्त की सेवा की शर्तें उनकी नियुक्ति के बाद उनके नुकसान के लिए भिन्न नहीं होंगी।

SOURCE-DANIK JAGARAN

 

ब्रिक्स संपर्क समूह व्यापार और आर्थिक मुद्दों पर पहली बैठक करता है

आर्थिक और व्यापार मुद्दों पर ब्रिक्स संपर्क समूह – CGETI ने 9 मार्च से 11 मार्च, 2021 तक भारत की अध्यक्षता में अपनी पहली बैठक की।

ब्रिक्स 2021 का विषय है ‘ब्रिक्स @ 15 : निरंतरता, समेकन और सहमति’ के लिए इंट्रा ब्रिक्स सहयोग।

ब्रिक्स सदस्य राष्ट्रों ने वर्तमान संदर्भ में प्रासंगिक और सामयिक होने के नाते भारत द्वारा नियोजित गतिविधियों की सराहना की। उन्होंने भारत द्वारा प्रस्तावित विभिन्न पहलों पर एक साथ काम करने के लिए अपना समर्थन व्यक्त किया।

प्रस्तावित वितरण :

  • ब्रिक्स आर्थिक साझेदारी 2025 के लिए दस्तावेज़ रणनीति के आधार पर कार्य योजना। इसे 2020 में रूसी राष्ट्रपति पद के दौरान अपनाया गया था।
  • बहुपक्षीय व्यापार प्रणाली पर ब्रिक्स सहयोग में विश्व व्यापार संगठन में TRIPS छूट प्रस्ताव के लिए सहयोग शामिल था।
  • ई-कॉमर्स पर उपभोक्ताओं की सुरक्षा के लिए रूपरेखा।
  • गैर-टैरिफ उपाय संकल्प तंत्र।
  • सैनिटरी और फाइटोसैनेटरी की कार्य प्रणाली।
  • आनुवंशिक संसाधनों की सुरक्षा और पारंपरिक ज्ञान के लिए सहयोग फ्रेमवर्क।
  • पेशेवर सेवाओं में सहयोग पर ब्रिक्स फ्रेमवर्क।

ABOUT BRICS

ब्रिक्स पांच उभरती अर्थव्यवस्थाओं ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका से बना समूह है। गोल्डमैन सैक्स द्वारा वर्ष 2001 में दुनिया के विभिन्न क्षेत्रों के इन पांच उभरते देशों के प्रस्तावित इस समूह को अधिकाधिक वैश्विक शक्ति परिवर्तन के केंद्र के रूप में देखा जा रहा है.i 2008-9 के वैश्विक वित्तीय संकट (जीएफसी) के समय बने इस समूह का मुख्य लक्ष्य अंतरराष्ट्रीय आर्थिक और वित्तीय मामलों पर सहयोग, नीति समन्वयन और राजनीतिक संवाद को बढ़ावा देना है।

ब्रिक्स (BRICS) उभरती राष्ट्रीय अर्थव्यवस्थाओं के एक संघ का शीर्षक है। इसके घटक राष्ट्र ब्राज़ील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका हैं। इन्हीं देशों के अंग्रेज़ी में नाम के प्रथमाक्षरों B, R, I, C व S से मिलकर इस समूह का यह नामकरण हुआ है। इसकी स्थापना २००९ में हुई,और इसके ५ सदस्य देश है। मूलतः, 2010 में दक्षिण अफ्रीका के शामिल किए जाने से पहले इसे “ब्रिक” के नाम से जाना जाता था। रूस को छोडकर ब्रिक्स के सभी सदस्य विकासशील या नव औद्योगीकृत देश हैं जिनकी अर्थव्यवस्था तेजी से बढ़ रही है। ये राष्ट्र क्षेत्रीय और वैश्विक मामलों पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालते हैं। वर्ष २०१९ तक, पाँचों ब्रिक्स राष्ट्र दुनिया की लगभग ४२% आबादी का प्रतिनिधित्व करते हैं और एक अनुमान के अनुसार ये राष्ट्र संयुक्त विदेशी मुद्रा भंडार में ४ खरब अमेरिकी डॉलर का योगदान करते हैं। इन राष्ट्रों का संयुक्त सकल घरेलू उत्पाद १५ खरब अमेरिकी डॉलर का है। ब्रिक्स देशों का वैश्विक जीडीपी में 23% का योगदान करता है तथा विश्व व्यापार के लगभग 18% हिस्से में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसे R-5 के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि इन पांचों देशों की मुद्रा का नाम ‘R’ से शुरू होता है।  वर्तमान में, दक्षिण अफ्रीका ब्रिक्स समूह की अध्यक्षता करता है। ब्रिक्स का १०वाँ शिखर सम्मेलन द अफ्रीका मे हुआ।

SOURCE-ALL INDIA RADIO

 

अय्या वैकुंडा स्वामिकल

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज अय्या वैकुंडा स्वामिकल की जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा, “उनकी जयंती पर, मैं 19वीं सदी के महान विचारक और समाज सुधारक अय्या वैकुंडा स्वामिकल को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। उनकी शिक्षाओं से समाज को सामाजिक बंदिशों से ऊपर उठने और लोगों को एकजुट करने में सहायता मिली। उनके द्वारा समानता पर जोर दिए जाने से हमें आज भी प्रेरणा मिलती है।”

ABOUT

वे दक्षिण भारत और केरल के सामाजिक क्रांतिकारियों के अग्रणी थे।

अनुसंधान विद्वान वैकुंठर को एक शिक्षक, उपचारक और एक चमत्कार कार्यकर्ता के रूप में मानते हैं।

उनकी शिक्षाओं ने दक्षिण भारत में कई सामाजिक परिवर्तनों को भी प्रभावित किया, जिसके परिणामस्वरूप सामाजिक और आत्म-सम्मान आंदोलनों की एक श्रृंखला का उदय हुआ, जैसे कि ऊपरी वस्त्र आंदोलन, मंदिर प्रवेश आंदोलन और नारायण गुरु, चटपटी स्वविकल, वल्लारार और अय्यंकाली सहित अन्य आंदोलन।

SOURCE-PIB

 

मेनिन्जाइटिस

विश्व स्वास्थ्य सभा ने मेनिन्जाइटिस (मस्तिष्कावरण शोथ) की रोकथाम और नियंत्रण पर पहले संकल्प का समर्थन किया है।रोग बैक्टीरिया, कवक या वायरस सहित कई अलग-अलग रोगजनकों के कारण हो सकता है, लेकिन विश्व में सबसे अधिक मामले बैक्टीरिया मेनिन्जाइटिस के कारण हैं।

तानिकाशोथ या मस्तिष्कावरणशोथ या मेनिन्जाइटिस (Meningitis) मस्तिष्क तथा मेरुरज्जु को ढंकने वाली सुरक्षात्मक झिल्लियों (मस्तिष्कावरण) में होने वाली सूजन होती है। यह सूजन वायरस, बैक्टीरिया तथा अन्य सूक्ष्मजीवों से संक्रमण के कारण हो सकती है साथ ही कम सामान्य मामलों में कुछ दवाइयों के द्वारा भी हो सकती है। इस सूजन के मस्तिष्क तथा मेरुरज्जु के समीप होने के कारण मेनिन्जाइटिस जानलेवा हो सकती है; तथा इसीलिये इस स्थिति को चिकित्सकीय आपात-स्थिति के रूप में वर्गीकृत किया गया है।

मेनिन्जाइटिस के सबसे आम लक्षण सर दर्द तथा गर्दन की जकड़न के साथ-साथ बुखार, भ्रम अथवा परिवर्तित चेतना, उल्टी, प्रकाश को सहन करने में असमर्थता (फ़ोटोफोबिया) अथवा ऊंची ध्वनि को सहन करने में असमर्थता (फ़ोनोफोबिया) हैं। बच्चे अक्सर सिर्फ गैर विशिष्ट लक्षण जैसे, चिड़चिड़ापन और उनींदापन प्रदर्शित करते हैं। यदि कोई ददोरा भी दिख रहा है, तो यह मेनिन्जाइटिस के विशेष कारण की ओर संकेत हो सकता है; उदाहरण के लिये, मेनिन्गोकॉकल बैक्टीरिया के कारण होने वाले मेनिन्जाइटिस में विशिष्ट ददोरे हो सकते हैं।

मेनिन्जाइटिस के निदान अथवा पहचान के लिये लंबर पंक्चर की आवश्यकता हो सकती है। स्पाइनल कैनाल में सुई डाल कर सेरिब्रोस्पाइनल द्रव (CSF) का एक नमूना निकाला जाता है जो मस्तिष्क तथा मेरुरज्जु को आवरण किये रहता है। सीएसएफ़ का परीक्षण एक चिकित्सा प्रयोगशाला में किया जाता है।[3] तीव्र मैनिन्जाइटिस के प्रथम उपचार में तत्परता के साथ दी गयी एंटीबायोटिक तथा कुछ मामलों में एंटीवायरल दवा शामिल होती हैं। अत्यधिक सूजन से होने वाली जटिलताओं से बचने के लिये कॉर्टिकोस्टेरॉयड का प्रयोग भी किया जा सकता है।मेनिन्जाइटिस के गंभीर दीर्घकालिक परिणाम हो सकते हैं जैसे बहरापन, मिर्गी, हाइड्रोसेफॉलस तथा संज्ञानात्मक हानि, विशेष रूप से तब यदि इसका त्वरित उपचार न किया जाये। मेनिन्जाइटिस के कुछ रूपों से (जैसे कि मेनिन्जोकॉकी, हिमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी, न्यूमोकोकी अथवा मम्स वायरस संक्रमणों से संबंधित) प्रतिरक्षण के द्वारा बचाव किया जा सकता है।

कारण

मस्तिष्क ज्वर आम तौर पर सूक्ष्मजीवों द्वारा होने वाला एक संक्रमण है। अधिकतर संक्रमण वायरस के कारण होते हैं तथाबैक्टीरिया, फंगी और प्रोटोज़ोआ अन्य सबसे आम कारण हैं। यह कई गैर-संक्रमण कारणों से भी हो सकता है।शब्द असेप्टिक मेनिन्जाइटिस उन मामलों को बताता है जिनमें कोई बैक्टीरिया जनित संक्रमण प्रदर्शित नहीं होते हैं। इस प्रकार का मस्तिष्क ज्वर आम तौर पर वायरस के कारण होता है, लेकिन यह ऐसे बैक्टीरिया जनित संक्रमणों के कारण भी हो सकता है जिनका पहले आंशिक उपचार हो चुका हो, जब मस्तिष्क ज्वर से बैक्टीरिया समाप्त हो जाते हैं या पैथोजन मस्तिष्क ज्वर से सटे स्थान को संक्रमित करते हैं (उदाहरण के लिये साइनोसाइटिस)। एंडोकार्डाइटिस (दिल के वॉल्व का एक संक्रमण जो रक्त प्रवाह के माध्यम से बैक्टीरिया के छोटे गुच्छों को फैलाता है) से भी असेप्टिक मस्तिष्क ज्वर हो सकता है। असेप्टिक मस्तिष्क ज्वर, स्पाएरोशेट (सर्पकीट) से संक्रमण के कारण भी हो सकता है, यह एक प्रकार का कीट है जिसमें ट्रेपोनेमा पैलिडम (सिफलिस का कारक) और बोरेलिया बर्गडॉरफेरि (लाइम रोग पैदा करने के लिये जाना जाने वाला) शामिल है। मस्तिष्क ज्वर में सेरेब्रल मलेरिया (मस्तिष्क को प्रभावित करने वाला मलेरिया) या अमीओबिक मेनिन्जाइटिस, अमीबा जैसे नाइग्लेरिया फाउलेरी से संक्रमण के कारण होने वाले मस्तिष्क ज्वर से हो सकता है जो स्वच्छ हवा स्रोतों के संपर्क से फैलते हैं।

SOURCE-WHO

 

एलजीबीटीआईक्यू फ्रीडम जोन

यूरोपीय संसद ने प्रतीकात्मक रूप से यूरोपीय संघ मतलब पूरे 27-सदस्यीय ब्लॉक को “एलजीबीटीआईक्यू फ्रीडम जोन” के रूप में घोषित किया है। एलजीबीटीआईक्यू लेस्बीयन, गे, बाइसेक्शूअल, ट्रांस, नोन-बाइनरी, इंटरसेक्स और क्वीर के लिए एक संक्षिप्त नाम है।

प्रस्ताव में लिखा है कि एलजीबीटीआईक्यू व्यक्तियों को यूरोपीय संघ में हर जगह जीने की स्वतंत्रता का आनंद मिलेगा और वह सार्वजनिक रूप से बिना किसी असहिष्णुता, भेदभाव या उत्पीड़न के डर के अपनी सेक्शूअल ऑरीएंटेशन बता सकते हैं।

यह कदम 2019 के बाद से देश भर में 100 से अधिक ”एलजीबीटीआईक्यू विचारधारा-मुक्त क्षेत्र” बनाने के लिए सदस्य राज्य पोलैंड के विवादास्पद कदम के खिलाफ प्रतिक्रिया के रूप में आया है, और आम तौर पर कुछ यूरोपीय संघ के देशों में, विशेष रूप से पोलैंड और हंगरी में ”एलजीबीटीआईक्यू अधिकारों को दबाने के खिलाफ यह कदम उठाया गया है।

यूरोपीय संघ (23/27) के अधिकांश देश समान-सेक्स यूनियनों को मान्यता देते हैं, जिनमें से 16 कानूनी रूप से समान-लिंग विवाह को मान्यता देते हैं।

पोलैंड छोटे अल्पसंख्यक का हिस्सा है जो ऐसे रिश्तों को स्वीकार नहीं करता है।

पोलैंड की तरह, हंगरी भी रूढ़िवादी कैथोलिक सामाजिक एजेंडे को आगे बढ़ा रहा है। नवंबर 2020 में, Nagykáta शहर ने “एलजीबीटीआईक्यू प्रचार के प्रसार और प्रचार” पर प्रतिबंध लगाने के लिए एक प्रस्ताव अपनाया।

यूरोपीय संघ

यूरोपियन संघ (यूरोपियन यूनियन) मुख्यत: यूरोप में स्थित 28 देशों का एक राजनैतिक एवं आर्थिक मंच है जिनमें आपस में प्रशासकीय साझेदारी होती है जो संघ के कई या सभी राष्ट्रो पर लागू होती है। इसका अभ्युदय 1957 में रोम की संधि द्वारा यूरोपिय आर्थिक परिषद के माध्यम से छह यूरोपिय देशों की आर्थिक भागीदारी से हुआ था। तब से इसमें सदस्य देशों की संख्या में लगातार बढोत्तरी होती रही और इसकी नीतियों में बहुत से परिवर्तन भी शामिल किये गये। 1990 में मास्त्रिख संधि द्वारा इसके आधुनिक वैधानिक स्वरूप की नींव रखी गयी। दिसम्बर 2007 में लिस्बन समझौता जिसके द्वारा इसमें और व्यापक सुधारों की प्रक्रिया 1 जनवरी 2008 से शुरु की गयी है।

यूरोपियन कमीशन

यूरोपिय संघ सदस्य राष्ट्रों को एकल बाजार के रूप में मान्यता देता है एवं इसके कानून सभी सदस्य राष्ट्रों पर लागू होता है जो सदस्य राष्ट्र के नागरिकों की चार तरह की स्वतंत्रताएँ सुनिश्चित करता है :- लोगों, सामान, सेवाएँ एवं पूँजी का स्वतंत्र आदान-प्रदान. संघ सभी सदस्य राष्ट्रों के लिए एक तरह की व्यापार, मतस्य, क्षेत्रीय विकास की नीति पर अमल करता है 1999 में यूरोपिय संघ ने साझी मुद्रा यूरो की शुरुआत की जिसे पंद्रह सदस्य देशों ने अपनाया। संघ ने साझी विदेश, सुरक्षा, न्याय नीति की भी घोषणा की। सदस्य राष्ट्रों के बीच श्लेगन संधि के तहत पासपोर्ट नियंत्रण भी समाप्त कर दिया गया।

SOURCE-INDIAN EXPRESS

 

केंद्र सरकार आत्मनिर्भर निवेशक मित्र पोर्टललांच करेगी

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय ने 12 मार्च, 2021 को कहा था कि केंद्र सरकार घरेलू निवेशकों के लिए सूचना प्रसार और सुविधा के लिए “आत्मनिर्भर निवेशक मित्र पोर्टल” नामक एक पोर्टल विकसित करने के लिए काम कर रही है।

मुख्य बिंदु

आत्मनिर्भर निवेशक मित्र पोर्टल वर्तमान में परीक्षण चरण में है। इसे 1 मई, 2021 तक लॉन्च किया जाएगा। इस मंत्रालय एक वेबपेज पर भी काम कर रहा है जो क्षेत्रीय भाषाओं और मोबाइल एप्प में उपलब्ध होगा। घरेलू निवेश को बढ़ावा देने के प्रयासों को मजबूत करने के लिए इस पोर्टल को विकसित किया जा रहा है। इसे उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (DPIIT) द्वारा विकसित किया जा रहा है।

पोर्टल का महत्व

यह पोर्टल केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा नीतियों और नई पहलों सहित कई चीजों पर दैनिक अपडेट प्रदान करने में मदद करेगा, इसके अलावा इसमें अनुमोदन, लाइसेंस, कई योजनाओं और प्रोत्साहन के बारे में जानकारी मिलेगी। यह विनिर्माण समूहों और भूमि की उपलब्धता के बारे में भी जानकारी प्रदान करेगा। यह पोर्टल निवेशकों को उनकी व्यावसायिक यात्रा के दौरान अपना समर्थन प्रदान करेगा और उन्हें निवेश के अवसर खोजने, प्रोत्साहन से लेकर उनके व्यवसायों, कच्चे माल की उपलब्धता, प्रशिक्षण तक सभी जानकारी प्राप्त करने में मदद करेगा।

आत्मनिर्भर निवेशक मित्र पोर्टल की मुख्य विशेषताएं

यह एप्प केंद्र और राज्य सरकार की नीतियों और नई पहल पर दैनिक अपडेट प्रदान करेगा। यह इन्वेस्ट इंडिया के विशेषज्ञों के साथ बैठकें आयोजित करेगा।  इसमें प्रश्नों को हल करने के लिए AI आधारित चैटबॉट की सुविधा है। यह पोर्टल एमएसएमई समाधान, चैंपियंस पोर्टल और एमएसएमई संपर्क जैसे सभी एमएसएमई पोर्टलों तक पहुंचने के लिए वन-स्टॉप-शॉप के रूप में काम करेगा।

SOURCE-G.K .TODAY

 

मिताली राज अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में 10,000 रन बनाने वाली पहली भारतीय महिला क्रिकेटर बनीं

मिताली राज सभी प्रारूपों में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 10,000 रन बनाने वाली पहली भारतीय महिला क्रिकेटर बन गईं हैं। मिताली ने लखनऊ में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ चल रहे तीसरे एकदिवसीय मैच में इस उपलब्धि पहुंची।

मुख्य बिंदु

मिताली ने एकदिवसीय मैचों में 6974 रन बनाए हैं जबकि अंतर्राष्ट्रीय टी-20 मैचों में उनके नाम पर 2,364 रन हैं।  उन्होंने 10 टेस्ट मैचों से 663 रन भी बनाए हैं। मिताली अब सभी प्रारूपों में 10,000 रन बनाने वाली दूसरी अंतर्राष्ट्रीय महिला क्रिकेटर हैं।

इंग्लैंड की चार्लोट एडवर्ड्स ऐसी पहली महिला क्रिकेटर हैं जिन्होंने यह उपलब्धि हासिल की है। मिताली ने 212 एकदिवसीय मैच खेले और 50 ओवर के प्रारूप में सात शतक और 54 अर्धशतक जड़े हैं।

मिताली राज

मिताली राज भारतीय महिला क्रिकेटर हैं, उनका जन्म 3 दिसम्बर, 1982 को राजस्थान के जोधपुर में हुआ था। मिताली राज को भारतीय क्रिकेट की सबसे बेहतरीन महिला क्रिकेटरों में से एक माना जाता है। खेल में उनके योगदान के लिए के लिए उन्हें अर्जुन अवार्ड और पद्म श्री से सम्मानित किया गया है।

SOURCE-DANIK JAGARAN

 

मेरा राशन मोबाइल एप्पलांच की गयी

केंद्र सरकार ने 12 मार्च, 2021 को देश में “मेरा राशन मोबाइल एप्प” लॉन्च किया है। इस एप्प को ‘वन नेशन-वन राशन कार्ड ’की सुविधा के लिए लॉन्च किया गया था।

मेरा राशन मोबाइल एप्प

इस एप्प को सरकार ने राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (NIC) के साथ मिलकर विकसित किया है। यह एप्प राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (NFSA) के लाभार्थियों के बीच कई “एक राष्ट्र-एक राशन कार्ड” प्रणाली से संबंधित सेवाओं की सुविधा के लिए विकसित किया गया है। यह प्रवासी लाभार्थियों, एफपीएस डीलरों और अन्य संबंधित हितधारकों को कई सेवाएं प्रदान करेगा। यह एप्प निकटतम उचित मूल्य की दुकान की पहचान करने में भी मदद करेगा। इसका लाभ उन राशन कार्ड धारकों को मिलेगा जो आजीविका के लिए दूसरे क्षेत्रों में चले जाएंगे। इस मोबाइल एप्लीकेशन को 14 भाषाओं में लॉन्च किया जाएगा। वर्तमान में यह अंग्रेजी और हिंदी में उपलब्ध है। इस एप्प की मदद से लाभार्थी आसानी से खाद्यान्न पात्रता, हालिया लेन-देन और उनकी आधार सीडिंग की स्थिति का विवरण देख सकते हैं। प्रवासी लाभार्थी इस एप्लीकेशन की सहायता से अपना प्रवासन विवरण भी दर्ज कर सकते हैं। लाभार्थी अपने सुझाव या प्रतिक्रिया भी दर्ज कर सकते हैं।

वन नेशन वन कार्ड योजना

यह योजना सभी लाभार्थियों विशेष रूप से प्रवासियों को देश में कहीं से भी सार्वजनिक वितरण प्रणाली की सुविधा का लाभ देने के लिए शुरू की गयी थी। यह योजना राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्यान्वित की जा रही है। इसका उद्देश्य फर्जी राशन कार्डों, अयोग्य राशन कार्डों और डुप्लीकेट राशन कार्डों को खत्म करना है।

%d bloggers like this: