Home » Current Affairs - Hindi » Current Affair 13 May 2021

Current Affair 13 May 2021

CURRENTS AFFAIRS – 13th MAY 2021

 पीएमकिसान योजना

 प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी 14 मई को सुबह 11 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम-किसान) योजना के तहत वित्तीय लाभ की आठवीं किश्त जारी करेंगे। इससे 9.5 करोड़ से अधिक लाभार्थी किसान परिवारों को 19,000 करोड़ रुपए से ज्यादा की राशि हस्तांतरित करने में मदद मिलेगी। प्रधानमंत्री इस दौरान किसान लाभार्थियों से बातचीत भी करेंगे।

पीएमकिसान योजना के बारे में जानकारी

पीएम-किसान योजना के तहत पात्र लाभार्थी किसान परिवारों को 6,000 रुपए प्रति वर्ष का वित्तीय लाभ प्रदान किया जाता है, जो चार-चार महीने की अवधि में 2,000 रुपए की तीन समान किश्तों में दिया जाता है। पैसे सीधे लाभार्थियों के बैंक खातों में डाले जाते हैं। इस योजना के तहत अब तक किसान परिवारों को 1.15 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा की सम्मान राशि हस्तांतरित की जा चुकी है।

Source –PIB

 

गोवा समुद्री संगोष्ठी (जीएमएस) – 2021

अपने समुद्री पड़ोसियों के साथ मैत्रीपूर्ण संबंधों को बढ़ावा देने की दिशा में भारतीय नौसेना ने दिनांक 11 और 12 मई 2021 को गोवा के नेवल वॉर कॉलेज के तत्वावधान में ‘जीएमएस-21’ की मेजबानी की। कोविड-19 महामारी के कारण पहली बार इस कार्यक्रम को वर्चुअल मोड में आयोजित किया गया था जिसमें तटवर्ती हिंद महासागर के 13 देशों की नौसेना प्रतिनिधियों की ऑनलाइन भागीदारी थी। कार्यक्रम में भारत, बांग्लादेश, कोमोरोस, इंडोनेशिया, मेडागास्कर, मलेशिया, मालदीव, मॉरीशस, म्यांमार, सेशेल्स, सिंगापुर, श्रीलंका एवं थाईलैंड शामिल थे। जीएमएस-21 का विषय “समुद्री सुरक्षा और उभरते गैर-पारंपरिक खतरे: हिन्द महासागर क्षेत्र में स्थित नौसेनाओं हेतु सक्रिय भूमिका निभाने वाले हालात” पर केंद्रित था जिसमें उभरते साझा समुद्री खतरों से निपटने के लिए हिंद महासागर क्षेत्र की नौसेनाओं के बीच क्षमता निर्माण पर जोर दिया गया था।

हिंद महासागर के 21वीं सदी के रणनीतिक परिदृश्य का ठिकाना बनने के साथ ही यह संगोष्ठी उन हितधारकों को एक साथ लाने में रचनात्मक भूमिका निभाएगी जिनकी समुद्री क्षेत्र में साझा हित के मुद्दों पर रणनीतियां, नीतियां और कार्यान्वयन तंत्र विकसित करने में भूमिका रही है। साझेदारों के बीच अंतरसंचालनीयता बढ़ाने के लिए सहकारी रणनीतियां पेश करने के अलावा इस कार्यक्रम में महत्वपूर्ण समुद्री मुद्दों पर विचारों की अभिव्यक्ति के लिए एक मंच प्रदान किया गया जिसके बाद विषय आधारित विमर्श आयोजित किए गए।

नेवल वॉर कॉलेज के डिप्टी कमांडेंट कमोडोर नितिन कपूर ने स्वागत भाषण के माध्यम से प्रतिभागी सदस्यों का स्वागत किया जिसके बाद सिम्पोज़ियम का औपचारिक उद्घाटन रीयर एडमिरल साई वेंकट रमन, वीएसएम, कमांडेंट नेवल वॉर कॉलेज ने किया। उन्होंने प्रमुख संबोधन भी दिया। कमोडोर शांतनु झा, कमोडोर (विदेशी सहयोग), ने अपने समापन भाषण में गोवा समुद्री संगोष्ठी-21 के दौरान बहुमूल्य योगदान के लिए सभी सदस्य देशों को धन्यवाद दिया।

SOURCE-PIB

 

विशेष खिड़की ने पहली आवासीय परियोजना

केन्द्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट कार्य मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने भारत सरकार की सस्ती एवं मध्यम आय वाले आवास (स्वामी) की विशेष खिड़की द्वारा अपनी पहली आवासीय परियोजना पूरी किये जाने के साथ आज वर्चुअल माध्यम से घर खरीदने वालों को कब्जा सौंपा।

उपनगरीय मुंबई में स्थित आवासीय परियोजना – रिवाली पार्क, भारत की पहली ऐसी आवासीय परियोजना थी जिसे स्वामी फंड के तहत धन प्राप्त हुआ था। स्वामी फंड का शुभारंभ श्रीमती सीतारमण द्वारा नवंबर, 2019 में किया गया था।

रिवाली पार्क विंटरग्रीन्स स्वामी फंड द्वारा किया गया पहला निवेश है और यह पूरी होने वाली पहली परियोजना भी है। यह 7 एकड़ में फैली एक ऐसी बड़ी परियोजना है, जिसमें विभिन्न विन्यासों वाले 708 घर शामिल हैं। सीसीआई प्रोजेक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड (सीसीआईपीपीएल), जोकि केबल कॉर्पोरेशन ऑफ़ इंडिया लिमिटेड की एक सहयोगी कंपनी है, द्वारा विकसित की गई यह परियोजना “रिवाली पार्क विंटरग्रीन्स” है।

केन्द्रीय वित्त मंत्री ने कहा कि भारत सरकार ने विभिन्न समस्याओं से जूझ रही सस्ती और मध्यम आय वाली आवासीय परियोजनाओं को धन मुहैया कराने की दिशा में कदम बढ़ाया, जिससे उन घर खरीदने वालों को राहत मिली जिन्होंने अपनी गाढ़ी कमाई का निवेश इन परियोजनाओं में किया था। श्रीमती सीतारमण ने कहा कि सरकार का यह मानना ​​है कि एक बार इन घरों का निर्माण पूरा हो जाने के बाद, इन परियोजनाओं में बड़ी मात्रा में फंसी पूंजी बाहर निकल आएगी।

वित्त मंत्री ने कहा कि यह परियोजना निर्माण के क्षेत्र में लगे श्रमिकों को रोजगार देगी और इस्पात एवं सीमेंट जैसे संबद्ध उद्योगों को गति प्रदान करेगी। इसके अलावा, यह बैंकों और गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) के पोर्टफोलियो में बेहतरी लाएगी और राष्ट्र की आर्थिक भावना में सुधार लाएगी।

श्रीमती सीतारमण ने एसबीआईकैप वेंचर्स की टीम को नीतिगत घोषणा को एक ऐसे ऑन-द-ग्राउंड फंडिंग संस्थान में बदलने के लिए सराहना और बधाई दी, जिसने थोड़े समय के भीतर महत्वपूर्ण प्रगति हासिल की है।

स्वामी के बारे में

अपनी स्थापना के बाद से डेढ़ वर्षों के छोटे से अंतराल में, स्वामी इन्वेस्टमेंट फंड I आज भारत की सबसे बड़ी निजी इक्विटी टीमों में से एक बन गई है और इसने कोविड -19 से जुड़े प्रतिबंधों के बावजूद सराहनीय काम किया है। इस फंड ने अब तक 72 परियोजनाओं को अपनी अंतिम मंजूरी दी है, जो 44,100 घरों के निर्माण कार्य को पूरा करेगी, जबकि 132 परियोजनाओं को प्रारंभिक मंजूरी मिली है, जो अतिरिक्त 72,500 घरों के निर्माण कार्य को पूरा करेगी। इस प्रकार, यह कोष कुल 1,16,600 घरों के निर्माण को पूरा करने का लक्ष्य बना रहा है। यह फंड वित्त के किसी अन्य स्रोत पर निर्भर हुए बिना घरों केनिर्माण को पूरा करने और उनके वितरण के जरिए घर खरीदने वालों और डेवलपरों के बीच विश्वास के संकट को कम कर रहा है।

SOURCE-PIB

 

पर्यावरणीय जोखिम वाले 100 शहरों में से 99 शहर एशिया में

एक निजी फर्म वेरिस्क मैपलक्रॉफ्ट (Verisk Maplecroft) ने पाया है कि एशियाई शहर पर्यावरणीय मुद्दों से सबसे अधिक जोखिम का सामना कर रहे हैं। इसमें प्राकृतिक आपदाएं और वायु प्रदूषण शामिल हैं।

रिपोर्ट के मुख्य बिंदु

100 सबसे संवेदनशील (vulnerable) शहरों में से, 99 शहर एशिया में स्थित हैं।

100 में से, लगभग 37 चीन में और 43 भारत में हैं। चीन और भारत दुनिया में पहला और तीसरा सबसे बड़ा ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जक हैं।

दुनिया के 414 शहरों में फैले लगभग 5 बिलियन लोग पानी की कमी, प्रदूषण, प्राकृतिक खतरों, अत्यधिक गर्मी और जलवायु परिवर्तन के अन्य शारीरिक प्रभावों के उच्च जोखिम में रह रहे हैं।

20 सबसे अधिक जोखिम वाले 20 शहरों में से 13 भारत में हैं। यह मुख्य रूप से वायु और जल प्रदूषण के कारण है।

जकार्ता इस सूची में सबसे ऊपर था और दुनिया का सबसे जोखिम भरा शहर था।

चीन के नामी शहर डोंगगुआन (Dongguan) और गुआंगझो (Guangzhou) ने उन शहरों की सूची में सबसे ऊपर है जो प्राकृतिक खतरों से खतरों का सामना कर रहे हैं।उनके बाद जापान के ओसाका और टोक्यो थे। जापानी शहर आंधी और भूकंप की चपेट में हैं।

लीमा (Lima) दुनिया के शीर्ष 100 जोखिम भरे शहरों में प्रवेश करने वाला एकमात्र गैर-एशियाई शहर है।

ग्लासगो (Glasgow) को सबसे सुरक्षित शहर का दर्जा दिया गया था।

रिपोर्ट के बारे में

दुनिया के विभिन्न हिस्सों में लगभग 576 शहरों को निम्नलिखित कारकों के आधार पर स्कोर दिया गया था:

  • पानी की गुणवत्ता (Water Quality)
  • उष्मागत तनाव (Heat Stress)
  • जलवायु परिवर्तन के प्रति संवेदनशीलता (Vulnerability to Climate Change)
  • पानी की कमी (Water Scarcity)
  • सुनामी, भूकंप और भूस्खलन जैसे प्राकृतिक खतरे

एशियाई शहरों में बाकी हिस्सों की तुलना में ज्यादा जोखिम क्यों हैं?

यह रिपोर्ट कहती है कि एशिया दुनिया में सबसे घनी आबादी वाला क्षेत्र है। इससे जल स्रोतों पर दबाव पड़ता है। कोयले और बायोमास ईंधन के जलने के कारण भी इस क्षेत्र की वायु प्रदूषित है। इसके भूगोल में बड़ी संख्या में प्राकृतिक खतरे शामिल हैं। यही कारण है कि इन शहरों में पर्यावरणीय मुद्दों के कारण जोखिम सबसे अधिक हैं।

SOURCE-GK TODAY

 

विश्व बैंक ने वैश्विक प्रेषण

विश्व बैंक (World Bank) ने हाल ही में “Migration and Development Brief” रिपोर्ट जारी की। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि कम आय और मध्यम आय वाले देशों के लिए प्रेषण प्रवाह (remittance flows) 2019 की तुलना में 2020 में 1.9% कम था। यह 2020 में 540 बिलियन अमरीकी डालर और 2019 में 548 बिलियन अमरीकी डालर था।

मुख्य बिंदु

  • प्रेषण प्रवाहों में कमी 2009 की वैश्विक वित्तीय संकट से छोटी थी।
  • हालांकि, चीन में प्रेषण प्रवाह 2020 में 30% कम हो गया।
  • कैरिबियन और लैटिन देशों की आमद 5% बढ़ी
  • दक्षिण एशिया में 2% की वृद्धि हुई
  • उत्तरी अफ्रीका में 3% की वृद्धि हुई
  • प्रशांत और पूर्वी एशिया में, यह 9% तक गिर गया
  • दक्षिण एशिया में 2% की गिरावट आई
  • उत्तरी अफ्रीका और मध्य पूर्व में 3% की गिरावट आई
  • मध्य एशिया और यूरोप में 7% की गिरावट आई
  • उप-सहारा अफ्रीका में 5% ​​की गिरावट आई

चीन के अलावा, नाइजीरिया में प्रेषण में भारी गिरावट आई है। इसमें 28% की गिरावट आई।

भारत और पड़ोसी

2019 में, भारत को 3 बिलियन डॉलर का प्रेषण प्राप्त हुआ था। यह 2020 में 0.2% तक गिर गया। यह संयुक्त अरब अमीरात से प्रेषण में अधिकतम था। यूएई से भारत में प्रेषण 17% कम हो गया है।

पाकिस्तान में, प्रेषण में 17% की वृद्धि हुई। पाकिस्तान के लिए प्रेषण में सबसे बड़ी वृद्धि सऊदी अरब से हुई।

  • बांग्लादेश में प्रेषण 4% बढ़ा
  • श्रीलंका में, इसमें 8% की वृद्धि हुई
  • नेपाल में, यह 2% गिर गया

प्रेषण क्या है? (What is Remittance?)

यह एक देश से दूसरे देश में भेजे गए धन का योग है। यह व्यवसाय भुगतान या परिवार के सदस्य, दोस्तों को भुगतान प्रेषण हो सकता है।

प्रेषण महत्वपूर्ण क्यों हैं?

वे विदेशी मुद्रा के मुकाबले मुद्रा को अपना मूल्य रखने में मदद करते हैं।

विश्व बैंक का कहना है कि प्रेषण एफडीआई के बाद विकासशील देशों के लिए दूसरा सबसे बड़ा संसाधन प्रवाह है।

जैसे-जैसे प्रेषणों का प्रवाह बढ़ता है, देश की मुद्रा का मूल्य बढ़ता है और विदेशी मुद्रा का मूल्य घटता जाता है।

वाइनयार्ड विंड प्रोजेक्ट

वाइनयार्ड विंड प्रोजेक्ट (Vineyard Wind Project) पहला प्रमुख ऑफशोर विंड फार्म है जो 4,00,000 घरों को बिजली प्रदान करेगा। इस परियोजना का लक्ष्य अटलांटिक महासागर में 84 टर्बाइनों को स्थापित करना है। इसे माथाज वाइनयार्ड (Matha’s Vineyard) के तट से 12 समुद्री मील की दूरी पर स्थापित किया जायेगा।

परियोजना के बारे में

यह परियोजना 800 मेगावाट बिजली का उत्पादन करने में सक्षम है। यह 8 बिलियन डॉलर का प्रोजेक्ट है।

वर्तमान में अमेरिका में दो प्रमुख पवन फार्म (wind farms) हैं। वे रोड आइलैंड (Rhode island) और वर्जीनिया (Virginia) के तटों से दूर स्थित हैं। वाइनयार्ड परियोजना का आकार बहुत बड़ा है कि यह इन दो परियोजनाओं को छोटा कर देगा।

वाइनयार्ड परियोजना के अलावा, पूर्वी तट के साथ एक दर्जन अपतटीय पवन परियोजनाएं स्थापित की जाएँगी।

जब सभी परियोजनाएं स्थापित हो जाएँगी, तो यह अनुमान लगाया जाता है कि 2,000 से अधिक टर्बाइन उत्तरी कैरोलिना और मैसाचुसेट्स के बीच तट पर पवन ऊर्जा का उत्पादन करेंगे।

भविष्य का लक्ष्य

अमेरिकी प्रशासन ने 2030 तक 30,000 मेगावाट की तटवर्ती पवन परियोजनाओं का निर्माण करने का संकल्प लिया है।

व्हाइट हाउस इसे प्राप्त करने के लिए 12 बिलियन अमरीकी डालर के पूंजी निवेश का आवंटन करेगा।

ये कदम 77,000 प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष नौकरियों का समर्थन करेगा।

योजना क्या है?

वाइनयार्ड प्रोजेक्ट द्वारा निर्मित बिजली समुद्र तल से छह फीट नीचे दबी केबलों के माध्यम से यात्रा करेगी।

इस बिजली को केप कॉड (Cape Cod) ले जाया जायेगा। केप कॉड में एक सबस्टेशन स्थापित किया जायेगा।

परियोजना 2023 तक बिजली पहुंचाना शुरू कर देगी।

SOURCE-GK TODAY

 

HPIV (Human Para Influenza Virus)

वैज्ञानिकों ने हाल ही में HPIV (Human Para Influenza Viruses) के अटैचमेंट को ब्लॉक करने का एक नया तरीका खोजा है।

HPIV

HPIV बचपन के श्वसन संक्रमण (respiratory infections) से मृत्यु का प्रमुख कारण है। 30% से 40% से अधिक बच्चे सांस की बीमारी के कारण मर जाते हैं।

HPIV कोशिकाओं पर चिपक जाता है और कोशिकाओं में आनुवंशिक पदार्थों को इंजेक्ट करता है। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि इंजेक्शन वाली आनुवंशिक सामग्री नए वायरस बनाना शुरू कर दे। वैज्ञानिकों ने अब इस प्रविष्टि को अवरुद्ध करने का एक तरीका खोज लिया है। यह विधि HPIV-3 को अवरुद्ध करने में अत्यधिक कुशल है।

HPIV को कैसे अवरुद्ध किया जाता है?

यह वायरस एक विशेष संलयन प्रोटीन (specialised fusion proteins) का उपयोग करता है जो मानव कोशिकाओं में प्रवेश करने के लिए तीन तरफा कॉर्कस्क्रू (corkscrew) जैसा दिखता है। पहले कोलेस्ट्रॉल और बीटा अमीनो एसिड HPIV को ब्लॉक करने के लिए उपयोगी पाए गए थे। हालांकि, वे कुशल नहीं थे। वैज्ञानिकों ने अब कोलेस्ट्रॉल और बीटा अमीनो एसिड को मिलाकर एक नया पेप्टाइड बनाया है।

जेलमैन लैब (Gellman lab) ने पाया कि पेप्टाइड्स युक्त संशोधित बीटा अमीनो एसिड वायरस को ब्लॉक कर सकता है।

मोसकोना प्रोटो लैब (Moscona Protto lab) ने पहले पेप्टाइड को कोलेस्ट्रॉल के एक कण के साथ जोड़ दिया था। इसने एक चिकनी कोशिका झिल्ली बनाई जिसने वायरस को अवरुद्ध कर दिया था।

जब उपरोक्त दो विधियां को मिलाया गया, तो एंटी-वायरल प्रभावकारिता तीन गुना हो गई।

पेप्टाइड्स (Peptides)

पेप्टाइड्स अमीनो एसिड की छोटी श्रृंखला है। वे पेप्टाइड बॉन्ड के अनुक्रम में एक दूसरे के साथ जुड़ी होती हैं। वे कम लंबाई के प्रोटीन से अलग होते हैं। पेप्टाइड्स मानव शरीर को रोगाणुओं से लड़ने में मदद करते हैं।

SOURCE-GK TODAY

%d bloggers like this: