Home » Current Affairs » Current Affairs in Hindi » Current Affair 14 October 2021

Current Affair 14 October 2021

Current Affairs – 14 October, 2021

विश्व मानक दिवस

विश्व मानक दिवस के अवसर पर, भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) ने आज यहां नई दिल्ली में अपने मुख्यालय में ‘सतत विकास लक्ष्यों के लिए बेहतर विश्व मानकों के लिए साझा दृष्टिकोण’ के विषय पर एक दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन किया।

विश्व मानक दिवस अथवा अंतर्राष्ट्रीय मानक दिवस (World Standards Day) प्रतिवर्ष 14 अक्टूबर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मनाया जाता है। यह दिन उन हजारों विशेषज्ञों के प्रयासों का सम्मान करता है जो अमेरिकन सोसाइटी ऑफ मैकेनिकल इंजीनियर्स (एएसएमई), अंतर्राष्ट्रीय इलेक्ट्रोटेक्निकल कमीशन (आईईसी), अंतर्राष्ट्रीयकरण के लिए अंतर्राष्ट्रीय संगठन (आईएसओ), अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार जैसे मानक विकास संगठनों के भीतर स्वैच्छिक मानकों को विकसित करते हैं। यूनियन (आईटीयू), इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियर्स संस्थान (आईईईई) और इंटरनेट इंजीनियरिंग टास्क फोर्स (आईईटीएफ)। विश्व मानकों का उद्देश्य वैश्विक अर्थव्यवस्था के मानकीकरण के महत्व के रूप में नियामकों, उद्योग और उपभोक्ताओं के बीच जागरूकता बढ़ाने के लिए है।

14 अक्टूबर को विशेष रूप से तारीख को चिह्नित करने के लिए चुना गया था, 1946 में, जब 25 देशों के प्रतिनिधियों ने पहली बार लंदन में इकट्ठा किया और मानकीकरण को सुविधाजनक बनाने पर केंद्रित एक अंतर्राष्ट्रीय संगठन बनाने का फैसला किया। हालांकि एक साल बाद आईएसओ का गठन हुआ था, यह 1970 तक नहीं था कि पहला विश्व मानक दिवस मनाया गया था।

दुनिया भर में, राष्ट्रीय निकायों द्वारा तारीख को मनाने के लिए विभिन्न गतिविधियों का चयन किया जाता है। संयुक्त राज्य अमेरिका ने 23 अक्टूबर 2014 को विश्व मानक दिवस का 2014 का जश्न मनाया। कनाडा के राष्ट्रीय मान्यता संस्था, कनाडा के मानक मान्यता परिषद, अंतरराष्ट्रीय मानदंड की तारीख के निकट दिन देखकर अंतर्राष्ट्रीय मानक दिवस के साथ विश्व मानकों दिवस का जश्न मनाती है। 2012 में एससीसी ने शुक्रवार, 12 अक्टूबर को विश्व मानक दिवस मनाया।

भारतीय मानक ब्यूरो

भारतीय मानक ब्यूरो (The Bureau of Indian Standards (BIS)) भारत में राष्ट्रीय मानक निर्धारित करने वाली संस्था है। यह उपभोक्ता मामलों, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के अधीन कार्य करती है। पहले इसका नाम ‘भारतीय मानक संस्थान’ (Indian Standards Institution / ISI) था जिसकी स्थापना सन् १९४७ में हुई थी।

SOURCE-PIB

PAPER-G.S.1 PRE

 

विश्वकर्मा वाटिका की स्थापना

कारीगरों और शिल्पकारों के बहुमूल्य पारंपरिक कौशल को बढ़ावा देने और संरक्षित करने के लिए “हुनर हाट” में “विश्वकर्मा वाटिका” की स्थापना की जाएगी। इन वाटिकाओं में वे यह भी प्रदर्शित करेंगे कि भारत के पारंपरिक, उत्तम और सुरुचिपूर्ण स्वदेशी हस्तनिर्मित उत्पाद कैसे बनाए जाते हैं।

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने आज नई दिल्ली में मीडियाकर्मियों से बात करते हुए कहा कि भारत की सदियों पुरानी गौरवशाली विरासत की सुरक्षा, संरक्षण और प्रचार-प्रसार के लिए उत्तर प्रदेश के रामपुर में “हुनर हाट” में इस तरह की पहली “विश्वकर्मा वाटिका” स्थापित की गई है। इसका उद्घाटन केंद्रीय शिक्षा और कौशल विकास और उद्यमिता मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान द्वारा 16 अक्टूबर, 2021 को केंद्रीय संसदीय कार्य और संस्कृति राज्य मंत्री श्री अर्जुन राम मेघवाल की गरिमामयी उपस्थिति में किया जाएगा।

देश भर के कुशल शिल्पकार, मूर्तिकार, राजमिस्त्री, लोहार, बढ़ई, कुम्हार और अन्य कारीगर इन “विश्वकर्मा वाटिका” में एक ही स्थान पर भारत की सैकड़ों पारंपरिक कलाओं और शिल्पों का सजीव प्रदर्शन करेंगे।

SOURCE-PIB

PAPER-G.S.1 PRE

 

कोकिंग कोयला क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए

केंद्रीय इस्पात मंत्री श्री राम चंद्र प्रसाद सिंह ने आज रशियन एनर्जी वीक के दौरान मॉस्को में रूसी गणराज्य के ऊर्जा मंत्री श्री निकोले शुलगिनोव के साथ मुलाकात की। इस्पात बनाने और इस्पात क्षेत्र में आरएंडडी में उपयोग होने वाले कोकिंग कोयले में सहयोग के संबंध में दोनों देशों के बीच एक अहम समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।

इस समझौते के माध्यम से भारत को अच्छी गुणवत्ता के कोकिंग कोयले की दीर्घकालिक आपूर्ति, कोकिंग कोयले के भंडारों के विकास और लॉजिस्टिक विकास, कोकिंग कोयले के उत्पादन के प्रबंधन में अनुभव, खनन प्रौद्योगिकियां साझा करने, बेनिफिकेशन और प्रोसेसिंग के साथ ही प्रशिक्षण सहित कोकिंग कोयले में संयुक्त परियोजनाओं/व्यावसायिक गतिविधियों के कार्यान्वयन की कल्पना की गई है।

कोयला

  • कोयला सबसे प्रचुर मात्रा में पाए जाने वाला जीवाश्म ईंधन है जो भारत की ऊर्जा ज़रूरत का 55% हिस्सा पूरा करता है।
  • उपयोग के आधार पर कोयले को दो प्रकारों में विभाजित किया जाता है:
  • कोकिंग कोल:
    • इस कोयला को हवा की अनुपस्थिति में 600 डिग्री सेल्सियस से ऊपर गरम करने पर जो संश्लेषित पदार्थ बनता है उसे कोक (Coke) कहा जाता है।
      • कोक को स्टील के उत्पादन के लिये स्टील प्लांट्स में लौह अयस्क और चूना पत्थर के साथ आग की भट्टी में रखा जाता है।
    • कोकिंग कोल में राख का प्रतिशत कम होता है।
    • उपयोग:
      • इसका उपयोग मुख्य रूप से स्टील बनाने और धातुकर्म उद्योगों में किया जाता है।
      • इसे हार्ड कोक (Hard Coke) निर्माण में भी उपयोग किया जाता है।

नॉन कोकिंग कोल:

इनमें कोकिंग कोल का गुण नहीं होता है।

उपयोग:

  • इस कोयले का उपयोग बिजली पैदा करने के लिये थर्मल पावर प्लांट में किया जाता है, इसलिये इसे स्टीम कोल या थर्मल कोल के नाम से भी जाना जाता है।
  • इसका उपयोग सीमेंट, उर्वरक, ग्लास, चीनी मिट्टी, कागज़, रासायनिक पदार्थ और ईंट निर्माण तथा गर्मी उत्पन्न करने के प्रयोजन के लिये भी किया जाता है ।

कोयले को भी चार भागों में बाटा गया है: एंथ्रासाइट, बिटुमिनस, लिग्नाइट और पीट कोयला। इनका वर्गीकरण इनमें मौजूद कार्बन के प्रकार और मात्रा पर निर्भर करता है।

SOURCE-PIB

PAPER-G.S.3

 

माईपार्किंग्स ऐप

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री श्री अनुराग सिंह ठाकुर ने आज दक्षिण दिल्ली नगर निगम (एसडीएमसी) के मेयर श्री मुकेश सूर्यान, एसडीएमसी के आयुक्त श्री ज्ञानेश भारती और बेसिल के सीएमडी (अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक) श्री जॉर्ज कुरुविला की उपस्थिति में ‘माईपार्किंग्स’ ऐप को लॉन्च किया।

ऐप के माध्यम से पार्किंग में आसानी होने से पार्किंग स्थलों की खोज में लगने वाला समय घटने से वाहनों के कारण होने वाले प्रदूषण को कम करने में भी मदद मिलेगी। इस प्रकार इस ऐप हर भारतीय को लाभ होगा। मंत्री ने आशा व्यक्त की कि दूसरे नगर निगम ‘माईपार्किंग्स’ के अनुभव से सीखेंगे और इसी तरह के समाधान अपनाएंगे।

माईपार्किंग्स एक आईओटी (इंटरनेट ऑफ थिंग्स) प्रौद्योगिकी-सक्षम एंड-टू-एंड डिजिटल समाधान है और इसका इस्तेमाल इन चीजों के जरिए कर सकते हैं:

  1. एंड्रॉइड और आईओएस प्लेटफॉर्म दोनों में मोबाइल ऐप
  2. प्रीपेड कार्ड
  3. एनेबल्ड स्मार्ट क्यूआर कोड

इस ऐप को ब्रॉडकास्ट इंजीनियरिंग कंसल्टेंट्स इंडिया लिमिटेड (बेसिल) ने दक्षिण दिल्ली नगर निगम के साथ मिलकर एसडीएमसी नगरपालिका सीमा क्षेत्र के तहत सभी अधिकृत पार्किंग स्थलों के डिजिटलीकरण के उद्देश्य से विकसित किया है। यह सुविधा भविष्य में पूरे भारत में अन्य नगरपालिका प्रभागों में शुरू की जाएगी।

माईपार्किंग्स ऐप निम्न सुविधाएं देगा:

  1. वाहन पार्किंग की ऑन स्पॉट और एडवांस बुकिंग।
  2. उपयोग में आसान मोबाइल ऐप के माध्यम से स्लॉट चुनने का सुविधा।
  3. प्रीपेड/स्मार्ट कार्ड के साथ सक्षम पार्किंग समाधान।
  4. वाहनों के पेपरलेस चेक-इन और चेक-आउट का विकल्प।
  5. सेफ्टी और रिकॉल के लिए साझा पार्किंग।
  6. पार्किंग और आसपास के पार्किंग स्थलों में सुविधाओं का डिस्प्ले।
  7. दैनिक/नियमित यात्रियों के लिए पार्किंग पास का प्रबंधन।
  8. इलेक्ट्रिक वाहनों (ईवी) के लिए चार्जिंग स्टेशन के विकल्प और डीटीसी/दिल्ली मेट्रो के साथ कार्ड का एकीकरण।
  9. स्लॉट बुकिंग, चेक इन और चेकआउट के लिए स्मार्ट क्यूआर कोड।
  10. एएनपीआर-स्वचालित नंबर प्लेट पहचान प्रणाली।

SOURCE-PIB

PAPER-G.S.3

 

‘World Economic Outlook’ जारी किया

‘World Economic Outlook’ में अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने वर्ष 2021 में लैटिन अमेरिकी और कैरेबियाई अर्थव्यवस्था के अपने विकास पूर्वानुमानों में सुधार किया।

मुख्य बिंदु

  • IMF की रिपोर्ट के अनुसार, 2021 तक 3% और 2022 तक 2.5% की रिकवरी की उम्मीद है।
  • IMF को वर्ष 2022 के लिए 2% की वृद्धि की उम्मीद है, जो इसके पिछले विश्लेषण से 0.2% कम है।
  • IMF ने ब्राजील और मैक्सिको के खराब प्रदर्शन को नोट किया, जिन्हें इस क्षेत्र की सबसे मजबूत अर्थव्यवस्थाओं के रूप में माना जाता है।
  • IMF के अनुसार, ब्राजील का सकल घरेलू उत्पाद का विस्तार 2021 में 2%, जबकि 2022 में 1.5% होगा।
  • मेक्सिको के लिए, सकल घरेलू उत्पाद का विस्तार 2021 में 2% और 2022 में 4.0% होगा।

वैश्विक अर्थव्यवस्था

  • IMF के अनुसार, 2021 में विश्व अर्थव्यवस्था 9% की दर से बढ़ेगी। जुलाई 2020 में, इसमें 6% की वृद्धि की उम्मीद थी।
  • IMF ने 2022 में 9% की वृद्धि का अनुमान लगाया था।

वैक्सीन अंतर

IMF ने आर्थिक रूप से उन्नत देशों और विकासशील देशों के बीच एक बड़ा टीका अंतर और बड़ी असमानताओं का उल्लेख किया। उन्नत अर्थव्यवस्थाओं में 60% से अधिक आबादी का टीकाकरण किया गया है, जबकि कम आय वाले देशों में 96% आबादी का टीकाकरण नहीं किया गया है।

SOURCE-THE HINDU

PAPER-G.S.1 PRE

 

अंतर्राष्ट्रीय ई-कचरा दिवस

14 अक्टूबर को अंतर्राष्ट्रीय ई-कचरा दिवस मनाया जाता है। Waste Electrical and Electronic Forum (WEEF) द्वारा 2018 से यह दिवस मनाया जा रहा है।

मुख्य बिंदु

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, पिछले पांच वर्षों में उत्पन्न ई-कचरे की मात्रा में 21% की वृद्धि हुई है। संयुक्त राष्ट्र भी कहता है कि ई-कचरे के 53.6 मिलियन टन दुनिया भर में व्यापक उत्पन्न कर रहे हैं। इसमें से केवल 17.4% का ही संग्रहण और पुनर्चक्रण किया जाता है। यह भी अनुमान है कि 2030 तक 74 मिलियन टन ई-कचरा उत्पन्न होगा।

प्रौद्योगिकी में तेजी से प्रगति, शहरीकरण प्रक्रिया और आर्थिक विकास ई-कचरे में तेजी से वृद्धि के प्रमुख कारण हैं।

महत्व

यह दिन रीसाइक्लिंग और ई-कचरे को कम करने के महत्व पर बल देता है। इस दिन को मनाना और ई-कचरे के खतरों के बारे में जागरूकता बढ़ाना महत्वपूर्ण है क्योंकि केवल 78 देशों में ही ई-कचरा प्रबंधन अच्छा है। विश्व की केवल 71% जनसंख्या ई-कचरा कानून के अंतर्गत आती है।

भारत

भारत ने 2019 में 3.2 मिलियन टन ई-कचरा उत्पन्न किया। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने 312 ई-कचरा पुनर्चक्रणकर्ताओं पंजीकृत किया है। 2016 में, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने ई-अपशिष्ट प्रबंधन नियम, 2016 को अधिसूचित किया। यह विस्तारित उत्पादक उत्तरदायित्व को लागू करता है।

चीन के साथ भारत में उत्पन्न ई-कचरा का 38% हिस्सा है। पिछले तीन वर्षों में भारत में उत्पन्न होने वाले ई-कचरे में 43% की वृद्धि हुई है।

WEEE फोरम

इसकी स्थापना 2002 में 6 देशों जैसे ऑस्ट्रिया, नीदरलैंड, बेल्जियम, नॉर्वे, स्विट्जरलैंड और स्वीडन के संगठनों द्वारा की गई थी।

इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के खतरे

इलेक्ट्रॉनिक उपकरण में कैडमियम, लेड और बेरिलियम जैसे खतरनाक धातु संदूषक होते हैं। प्लास्टिक ई-कचरे का 30% हिस्सा है। लेड सभी इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में सबसे हानिकारक तत्व है।

SOURCE-GK TODAY

PAPER-G.S.3

 

हेनले पासपोर्ट सूचकांक

हेनले पासपोर्ट सूचकांक 2021 हाल ही में जारी किया गया था जिसमें 2020 के सूचकांक की तुलना में भारत की रैंक में 6 स्थान की गिरावट आई है।

मुख्य बिंदु

  • हेनले पासपोर्ट इंडेक्स दुनिया के सबसे अधिक यात्रा-अनुकूल पासपोर्ट सूचीबद्ध करता है।
  • इस वर्ष भारत को 90वें स्थान पर रखा गया है।
  • यह सूचकांक ऐसे समय में जारी किया गया है जब देश 2020 में कोविड-19 महामारी की शुरुआत के दो साल बाद अंतरराष्ट्रीय आगंतुकों के लिए यात्रा नियमों में ढील दे रहे हैं।

यह सूचकांक देशों को कैसे रैंक करता है हेनले पासपोर्ट इंडेक्स देशों के पासपोर्टों को उन गंतव्यों की संख्या के आधार पर रैंक करता है जहां उनके धारक पहले से वीजा प्राप्त किए बिना जा सकते हैं। ‘इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन (IATA) द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों का विश्लेषण करके रैंकिंग तय की जाती है।

  • इस साल जापान और सिंगापुर ने सूची में शीर्ष स्थान हासिल किया है क्योंकि उनके पासपोर्ट धारकों को 192 देशों में वीजा-मुक्त यात्रा करने की अनुमति है।
  • जापान ने लगातार तीसरे वर्ष शीर्ष स्थान हासिल किया।
  • दूसरे स्थान पर दक्षिण कोरिया और जर्मनी रहे।
  • अफगानिस्तान, सीरिया, इराक, यमन और पाकिस्तान सबसे कम शक्तिशाली देशों में से हैं।

भारत की रैंक

2020 में भारत को 84वें स्थान पर रखा गया था लेकिन 2021 में इसकी स्थिति गिरकर 90वें स्थान पर आ गई है। भारत के पासपोर्ट धारकों को 58 देशों में वीजा-मुक्त यात्रा करने की अनुमति है। भारत इस रैंक को ताजिकिस्तान और बुर्किना फासो के साथ साझा करता है।

यह रिपोर्ट कौन तैयार करता है?

हेनले पासपोर्ट इंडेक्स लंदन स्थित हेनले एंड पार्टनर्स द्वारा तैयार किया गया है, जो एक वैश्विक नागरिकता और निवास सलाहकार फर्म है। इसमें 199 पासपोर्ट और 227 गंतव्य शामिल हैं।

SOURCE-GK TODAY

PAPER-G.S.1PRE