Home » Current Affairs - Hindi » Current Affair 16 May 2021

Current Affair 16 May 2021

CURRENTS AFFAIRS – 16th MAY 2021

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन समिति

कैबिनेट सचिव श्री राजीव गौबा ने अरब सागर में चक्रवाती तूफान तौकते के मद्देनजर राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन समिति (एनसीएमसी) की बैठक की अध्यक्षता की। यह बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु के मुख्य सचिवों के साथ-साथ लक्षद्वीप और दादरा एवं नगर हवेली तथा दमन एवं दीव के केन्द्र-शासित प्रदेशों के प्रशासकों के सलाहकारों के साथ हुई। विभिन्न केन्द्रीय मंत्रालयों के सचिव भी इस वीडियो कॉन्फ्रेंस में शामिल हुए।

केन्द्रीय और राज्य एजेंसियों की तैयारियों की समीक्षा करते हुए, श्री राजीव गौबा ने जोर देकर कहा कि चक्रवात से प्रभावित क्षेत्रों में लोगों को निकालने के लिए सभी उपाय किए जाने चाहिए, जिससे किसी भी तरह की जान-माल की क्षति न हो। साथ ही प्रभावित इलाकों में बिजली, दूरसंचार और अन्य महत्वपूर्ण सेवाओं को बहाल रखने की तैयारी सुनिश्चित की जाए। कैबिनेट सचिव ने इस बात पर भी जोर दिया कि अस्पतालों और कोविड देखभाल केन्द्रों के कामकाज में व्यवधान से बचने और उन्हें ऑक्सीजन की नियमित आपूर्ति बनाए रखने के लिए भी सभी कदम उठाए जाएं। इस संबंध में अस्पतालों और कोविड देखभाल केंद्रों के निर्बाध कामकाज को सुनिश्चित करने के साथ-साथ देश भर में कोविड केन्द्रों के लिए ऑक्सीजन का उत्पादन और उसकी आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक व्यवस्था की गई है। कैबिनेट सचिव ने संबंधित एजेंसियों को आपस में बेहतर तालमेल के साथ काम करने और राज्य प्रशासन को सभी आवश्यक सहायता प्रदान करने का भी निर्देश दिया।

संबंधित राज्यों के मुख्य सचिवों ने राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन समिति को चक्रवाती तूफान से निपटने के लिए की गई तैयारी से जुड़े उपायों के बारे में अवगत कराया। खाद्यान्न, पेयजल और अन्य आवश्यक वस्तुओं के पर्याप्त स्टॉक की व्यवस्था की गई है और बिजली, दूरसंचार आदि जैसी आवश्यक सेवाओं को बनाए रखने की तैयारी की गई है। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) ने बताया कि उन्होंने प्रभावित राज्यों में 79 टीमों को तैनात/उपलब्ध कराया है और 22 अतिरिक्त टीमों को भी तैयार रखा गया है। जहाजों और विमानों के साथ थल सेना, नौसेना और तटरक्षक बल के बचाव और राहत दल भी तैनात किए गए हैं।

एक राष्ट्रीय संकट प्रबंधन समिति एक प्राकृतिक आपदा के मद्देनजर भारत सरकार द्वारा राहत उपायों और कार्यों के प्रभावी समन्वय और कार्यान्वयन के लिए गठित एक समिति है। इसकी अध्यक्षता कैबिनेट सचिव करते हैं। ऐसी समिति के गठन पर, कृषि सचिव सभी आवश्यक जानकारी प्रदान करेगा और निर्देश मांगेगा। कैबिनेट सचिवालय में एक राष्ट्रीय संकट प्रबंधन समिति (एनसीएमसी) का गठन किया गया है। समिति की संरचना इस प्रकार है:- कैबिनेट सचिव अध्यक्ष, प्रधान मंत्री के सचिव सदस्य, सचिव (एमएचए) सदस्य, सचिव (एमसीडी) सदस्य, निदेशक (आईबी) सदस्य, सचिव (रॉ) सदस्य, सचिव (कृषि और कॉप)। ) सहयोजित सदस्य, कैबिनेट सचिवालय का एक अधिकारी।

SOURCE-PIB

 

JUICE

यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (European Space Agency) के जुपिटर आइसी मून एक्सप्लोरर (Jupiter Icy Moon Explorer) ने हाल ही में परीक्षणों के एक महत्वपूर्ण क्रम में प्रवेश किया।

Jupiter Icy Moon Explorer

इसे JUICE कहते हैं।

यह यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (European Space Agency) द्वारा विकसित एक अंतरग्रहीय अंतरिक्ष यान है। यह अपने विकास के चरण में है।

इस मिशन का मुख्य कांट्रेक्टर एयरबस डिफेंस एंड स्पेस (Airbus Defence and Space) है।

JUICE Mission बृहस्पति के तीन गैलीलियन चंद्रमा (Galilean Moon) का अध्ययन करेगा। वे यूरोपा (Europa), गेनीमेड (Ganymede) और कैलिस्टो (Callisto) हैं।

इन तीनों चंद्रमाओं की सतह के नीचे महत्वपूर्ण मात्रा में पानी है।

इस अंतरिक्ष यान को जून 2022 में लॉन्च किया जायेगा।

यह अक्टूबर 2029 में बृहस्पति पर पहुंचेगा।

यह पांच गुरुत्वाकर्षण सहायता (gravity assists) के बाद बृहस्पति तक पहुंचेगा। गुरुत्वाकर्षण सहायता (gravity assists) किसी अन्य ग्रह या खगोलीय वस्तु के गुरुत्वाकर्षण का उपयोग किसी अंतरिक्ष यान की गति बढ़ाने या उसके पथ को बदलने के लिए किया जाता है। यह प्रणोदक को बचाने और खर्च को कम करने के लिए किया जाता  है।

उद्देश्य

गैनीमेड की विस्तृत खोज और जीवन को सहारा देने की इसकी क्षमता का मूल्यांकन।

महासागरीय परतों का विश्लेषण

सतह की भूवैज्ञानिक और स्थलाकृतिक संरचना मानचित्रण

बर्फीले क्रस्ट के भौतिक गुणों का अध्ययन

गेनीमेड के वातावरण की जांच। इसके चुंबकीय क्षेत्र के बारे में अध्ययन।

विज्ञान उपकरण

इसमें निम्नलिखित विज्ञान उपकरण होंगे:

  • JANUS : Jovis, Amorum ac Natorum Undique Scrutator
  • MAJIS : Moons and Jupiter Imaging Spectrometer
  • UVS : UV Imaging Spectrograph
  • GALA : Ganymede Laser Altimeter
  • RIME : Radar for Icy Moons Exploraiton
  • JUICE Magnetometer
  • PEP : Particle Environment Package
  • RPWI : Radio and Plasma Wave Investigation
  • PRIDE : Planetary Radio Inferometer and Doppler Experiment

SOURCE-GK TODAY

 

यूटोपिया प्लैनिटिया

हाल ही में मंगल ग्रह के लिए चीनी मिशन तियान्वेन (Tianwen 1) ने यूटोपिया प्लैनिटिया (Utopia Planitia) में लैंडिंग की। यह वही जगह है जहां वाइकिंग 2 (Viking 2) लैंडर ने टच-डाउन किया था।

यूटोपिया प्लैनिटिया (Utopia Planitia)

यह मंगल ग्रह का इम्पैक्ट बेसिन है। इम्पैक्ट क्रेटर का निर्माण छोटे पिंडों के हाइपरवेलोसिटी (hypervelocity) प्रभाव के कारण होता है। यह उल्काओं के कारण हो सकता है।

इस बेसिन का व्यास 3,300 किलोमीटर है।

यूटोपिया प्लैनिटिया (Utopia Planitia) में चट्टानें झुकी हुई (perched) दिखती हैं।

इस क्षेत्र के कुछ क्षेत्रों में स्कैलप्ड स्थलाकृति (Scalloped Topography) प्रदर्शित होती है। स्कैलप्ड टोपोग्राफी (Scalloped Topography) 45 डिग्री से 60 डिग्री उत्तर और दक्षिण के अक्षांशों में काफी आम है।

यूटोपिया प्लैनिटिया की अन्य विशेषताएं

हाईविश प्रोग्राम (HiWish Programme) के तहत होल्स और हॉलोज पाए गए।यह नासा द्वारा बनाया गया एक कार्यक्रम था। इस कार्यक्रम के तहत कोई भी HiRISE कैमरे से मंगल ग्रह की सतह की तस्वीर लेने के लिए जगह का सुझाव दे सकता है। HiRISE को Mars Reconnaissance Orbiter में स्थापित किया गया था।

HiWish Programme  ने क्रेटर फ्लोर में ग्लेशियर को खोजा था।

इसमें स्तरित मेसा (Layered Mesa) का पता चला है। Mesa एक सपाट नरम तलछटी चट्टान है जो कठोर चट्टान की अधिक प्रतिरोधी परतों से ढकी होती है।

इसमें सतह पर बहने वाले पानी का संकेत संकेत भी मिले हैं।

नासा

2016 में, नासा ने यूटोपिया प्लैनिटिया क्षेत्र में बड़ी मात्रा में भूमिगत बर्फ की सूचना दी थी।

ग्रामीण बुनियादी ढांचा विकास कोष

National Bank for Agriculture and Rural Development (NABARD) ने हाल ही में घोषणा की कि उसने अपने ग्रामीण बुनियादी ढांचा विकास कोष (Rural Infrastructure Development Fund – RIDF) से 2020-21 में असम को 1,236 करोड़ रुपये प्रदान किए।

RIDF  क्या है?

इसे 1995-96 में 2,000 करोड़ रुपये के शुरुआती कोष के साथ बनाया गया था।

2020-21 में RIDF को 29,848 करोड़ रुपये आवंटित किए गए। इसके साथ संचयी आवंटन 18,500 करोड़ रुपये तक पहुंच गया है।

योग्य गतिविधियाँ

इस फण्ड का उपयोग भारत सरकार द्वारा अनुमोदित 37 पात्र गतिविधियों के लिए किया जाएगा। इन पात्र गतिविधियों को तीन व्यापक श्रेणियों के अंतर्गत वर्गीकृत किया गया है। वे सामाजिक क्षेत्र, कृषि व संबंधित क्षेत्र और ग्रामीण संपर्क हैं।

कृषि और संबंधित क्षेत्र

  • कृषि कार्यों का मशीनीकरण
  • समर्पित ग्रामीण उद्योग सम्पदा
  • अलग फीडर लाइनें
  • सोलर फोटोवोल्टिक बिजली संयंत्र
  • सौर ऊर्जा, ऊर्जा संरक्षण, पवन ऊर्जा से संबंधित अवसंरचना कार्य।
  • तटीय क्षेत्रों में विलवणीकरण संयंत्र
  • ग्रामीण क्षेत्रों में सूचना प्रौद्योगिकी के लिए आधारभूत संरचना
  • ग्राम ज्ञान केंद्र
  • 25MW तक की मिनी हाइडल परियोजनाएं
  • मध्यम सिंचाई परियोजनाएं
  • प्रमुख सिंचाई परियोजनाएं
  • आधुनिक बूचड़खाना
  • नदी मत्स्य पालन
  • सामुदायिक सिंचाई कुआँ
  • मत्स्य पालन बंदरगाह
  • ग्रेडिंग
  • वृक्षारोपण और बागवानी
  • बीज/कृषि/बागवानी फार्म
  • मार्केट यार्ड, गोदाम, मंडी, ग्रामीण हाट, मार्केटिंग इंफ्रास्ट्रक्चर
  • कोल्ड स्टोरेज
  • जलनिकास
  • बाढ़ सुरक्षा
  • वन विकास
  • वाटरशेड विकास
  • मृदा संरक्षण
  • लघु सिंचाई परियोजनाएं
  • सामाजिक क्षेत्र
  • ठोस अपशिष्ट प्रबंधन
  • आंगनबाड़ियों का निर्माण
  • KVIC केंद्रों की स्थापना
  • ग्रामीण शिक्षा संस्थानों के लिए बुनियादी ढांचा
  • पेय जल
  • सार्वजनिक स्वास्थ्य संस्थान
  • ग्रामीण कनेक्टिविटी
  • ग्रामीण पुल और ग्रामीण सड़कें

पात्र संस्थान

  • राज्य सरकारें और केंद्र शासित प्रदेश
  • राज्य सरकार द्वारा प्रायोजित और समर्थित संगठन
  • राज्य के स्वामित्व वाले निगम और राज्य सरकार के उपक्रम
  • पंचायत राज संस्थाएं और स्वयं सहायता समूह

SOURCE-GK TODAY

 

डीएसआर तकनीक

DSR Technique का अर्थ Direct Seeding of Rice Technique है। इस साल पंजाब सरकार ने एक हेक्टेयर जमीन को डीएसआर तकनीक के तहत लाने का फैसला किया है। ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि सरकार प्रवासी मजदूरों की कमी की उम्मीद कर रही है।

डीएसआर तकनीक (DSR Technique) क्या है?

डीएसआर तकनीक धान की सीधी बुवाई है। यहां बीजों को रोपाई के बजाय सीधे खेत में बोया जाता है। बीजों को मिट्टी में खोदने के लिए ट्रैक्टर से चलने वाली मशीन का उपयोग किया जाता है।डीएसआर तकनीक में नर्सरी की तैयारी नहीं होती है।

धान की रोपाई (Transplanting Paddy)

परंपरागत तरीके से जहां धान की रोपाई की जाती है, किसान पहले नर्सरी तैयार करता है। इन नर्सरी में बीजों को बोया जाता है और पौधों को उगाया जाता है। 25-35 दिनों के बाद इन पौधों को उखाड़ कर खेत में बो दिया जाता है।

डीएसआर तकनीक के लाभ

इस तकनीक से लागत में 6000 रुपये प्रति एकड़ की कमी आती है।यह तकनीक 30% कम पानी का उपयोग करती है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि रोपाई के दौरान, खेत को लगभग रोजाना 4-5 सेंटीमीटर पानी की गहराई बनाए रखते हुए सिंचित करना पड़ता है।

डीएसआर तकनीक के बारे में भ्रांतियां

रोपाई विधि से प्रति एकड़ 35 क्विंटल उपज प्राप्त होती है। डीएसआर तकनीक की उत्पादकता कम हो सकती है। किसानों के अनुसार, यह केवल 25 क्विंटल प्रति हेक्टेयर दे सकती है। हालांकि, पंजाब कृषि विश्वविद्यालय इस बात पर जोर देता रहा है कि यह एक गलत धारणा है।

समस्या क्या है?

2020 में, पंजाब सरकार ने 40% से 50% सब्सिडी के साथ 4000 डीएसआर मशीनों और 800 धान ट्रांसप्लांटरों को मंजूरी दी।जुलाई 2020 के आसपास, किसानों ने चूहों के हमलों की शिकायत की। आमतौर पर सामान्य रोपाई पद्धति में, फसलें चूहों के हमलों की चपेट में नहीं आती हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि वे पाने में डूबे हुए खेतों में जीवित नहीं रह सकते। हालांकि, पंजाब में चूहों का हमला काफी आम है और हर फसल को इस समस्या का सामना करना पड़ता है। राज्य में हर साल लगभग 2% से 15% नुकसान चूहों के हमलों से होता है।

सीमायें

मानसून की बारिश से पहले फसलों को ठीक से बाहर आने के लिए समय पर बुवाई की आवश्यकता होती है।

इसमें बीज की आवश्यकता अधिक होती है।रोपाई में यह 4-5 किग्रा प्रति एकड़ तथा डीएसआर में 8-10 किग्रा प्रति एकड़ बीज का इस्तेमाल होता है।

जिओलाइट्स

एयर इंडिया ने हाल ही में रोम से बेंगलुरु तक ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्रों में इस्तेमाल 35 टन जिओलाइट (Zeolite) को एयरलिफ्ट किया था।

जिओलाइट्स क्या हैं? (What are Zeolites?)

जिओलाइट एल्युमिनोसिलिकेट खनिज (aluminosilicate minerals) हैं। वे सूक्ष्म छिद्रयुक्त पदार्थ हैं जिनका उपयोग अधिशोषक (adsorbents) और उत्प्रेरक (catalysts) के रूप में किया जाता है।

वे K +, Na + , Ca 2+ , Mg 2+ जैसे धनायनों को समायोजित कर सकते हैं। जब जिओलाइट खनिज किसी विलयन के संपर्क में आते हैं, तो वे विलयन में अन्य आयनों के लिए इन धनायनों का आदान-प्रदान करते हैं। सबसे आम जिओलाइट खनिज स्टिलबाइट (stilbite), फिलिप्साइट (phillipsite), नैट्रोलाइट (natrolite), ह्यूलैंडाइट (heulandites), चाबज़ाइट (chabzite) हैं।

प्राकृतिक जिओलाइट्स (Natural Zeolites)

जिओलाइट प्राकृतिक रूप से तब बनते हैं जब ज्वालामुखी चट्टानें क्षारीय भूजल (alkaline ground water) के साथ प्रतिक्रिया करती हैं।

वे लाखों वर्षों तक समुद्री बेसिन में भी क्रिस्टलीकृत (crystallize) होते हैं।

प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले जिओलाइट क्वार्ट्ज जैसे अन्य खनिजों से दूषित होते हैं।वे विरले ही शुद्ध होते हैं। इस कारण से, प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले जिओलाइट्स को व्यावसायिक अनुप्रयोगों (commercial applications) से बाहर रखा गया है जहां शुद्धता आवश्यक होती है।

कृत्रिम जिओलाइट (Artificial Zeolite)

जिओलाइट भी सिलिका-एल्यूमिना जेल के धीमे क्रिस्टलीकरण की प्रक्रिया द्वारा निर्मित होते हैं।

उपयोग

वे मुख्य रूप से वाणिज्यिक जल शोधन (commercial water purification) में उपयोग किए जाते हैं। इसके अलावा, उनका उपयोग अधिशोषक (adsorbents) और उत्प्रेरक (catalysts) के रूप में किया जाता है।

ऑक्सीजन उत्पादन में जिओलाइट्स (Zeolites in Oxygen Production)

जिओलाइट्स का उपयोग Pressure Swing Adsorption में सोखने वाले पदार्थ (adsorbents) के रूप में किया जाता है।

एक ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर जिओलाइट्स का उपयोग वायुमंडलीय नाइट्रोजन को सोखने के लिए करता है और फिर नाइट्रोजन को बाहर निकालता है।इसके बाद मरीजों के उपयोग के लिए ऑक्सीजन गैस बचती है।

उच्च दबाव में, जिओलाइट्स का सतह क्षेत्र बढ़ जाता है और इस प्रकार बड़ी मात्रा में नाइट्रोजन को सोखने में सक्षम होता है।

SOURCE-GK TODAY

%d bloggers like this: