Home » Current Affairs » Current Affairs in Hindi » Current Affair 16 October 2021

Current Affair 16 October 2021

Current Affairs – 16 October, 2021

मेल दिवस

भारतीय डाक डाकघरों और मेल कार्यालयों के अपने विशाल नेटवर्क के साथ देश के हर पते पर दूर-दराज के ग्रामीण इलाकों में भी मेल और पार्सल की डिलीवरी पहुंचाता है। डाक और पार्सल की बुकिंग, प्रेषण और डिलीवरी में लगे डाकियों, ग्रामीण डाक सेवकों और अन्य डाक अधिकारियों की भूमिका को सराहने के लिए भारतीय डाक 16 अक्टूबर, 2021 को ‘मेल दिवस’ मना रहा है। इस वर्ष ‘मेल दिवस’ मनाने के लिए, देश भर में विभिन्न डाक परिमंडलों ने ग्राहक बैठकें आयोजित कीं।

ग्राहकों की अपेक्षा के अनुरूप, भारतीय डाक ने सेवाओं की गुणवत्ता को और बेहतर बनाने और उसे बनाए रखने के लिए कई पहल की हैं। प्रक्रमण, प्रेषण और वितरण कार्यालयों में आँकड़ों का समयबद्ध प्रवाह सुनिश्चित करने के लिए, भारतीय डाक ने पूरे डाक नेटवर्क में मूल सेवा एकीकरण (सीएसआई) समाधान लागू किया है। भारतीय डाक ने पोस्टमैन मोबाइल ऐप (पीएमए) के माध्यम से तीव्र डाक (स्पीड पोस्ट), पंजीकृत डाक, बिजनेस पार्सल आदि का रीयल-टाइम डिलीवरी अपडेट भी शुरू किया है। साधारण या अपंजीकृत डाक की निगरानी में सुधार करने के लिए, भारतीय डाक ने अपंजीकृत थैलियों की ट्रैकिंग के साथ-साथ डाक बक्से (लेटर बॉक्स) की इलेक्ट्रॉनिक निकासी की शुरुआत की है।

दुनिया भर में ई-कॉमर्स के विकास ने पैकेट और पार्सल के प्रेषण और डिलीवरी को सुगम बनाने में एक बड़ा योगदान दिया है। ई-कॉमर्स ग्राहकों की विशिष्ट आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए, भारतीय डाक ने पार्सल संचालन और व्यवसाय को मजबूत करने के लिए कई पहल की हैं। भारतीय डाक ने देश भर में पार्सल के शीघ्र प्रेषण को सुनिश्चित करने के लिए हब और स्पोक मॉडल पर एक समर्पित डाक सड़क परिवहन नेटवर्क (आरटीएन) की स्थापना की है। भारतीय डाक ने दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, हैदराबाद, बेंगलुरु, विजयवाड़ा, लखनऊ और जयपुर में आठ अर्द्ध-स्वचालित पार्सल प्रोसेसिंग हब स्थापित किए हैं, साथ ही भारतीय डाक ने पार्सल के त्वरित प्रोसेसिंग और डिलीवरी के लिए 171 नोडल डिलीवरी सेंटर स्थापित किए हैं।

इसके अलावा, ग्राहकों को संपर्क रहित बुकिंग और डिलीवरी सेवाएं प्रदान करने के लिए, भारतीय डाक ने सेल्फ बुकिंग कियोस्क और स्मार्ट डिलीवरी बॉक्स स्थापित करने की योजना बनाई है।

SOURCE-PIB

PAPER-G.S.1 PRE

 

पूर्व युद्ध अभ्‍यास-21” का शुभारंभ

भारत-अमरीका ने अमरीका के अलास्का में स्थित संयुक्त बेस एल्मेंडॉर्फ रिचर्डसन में एक उद्घाटन समारोह के साथ 15 अक्‍तूबर, 2021 को संयुक्त प्रशिक्षण अभ्यास के 17वें संस्करण “पूर्व युद्ध अभ्‍यास-21” का शुभारंभ किया। इस अवसर पर दोनों देशों के राष्ट्रगान, “जन गण मन” और “द स्टार स्पैंगल्ड बैनर” को बजाने के साथ-साथ राष्ट्रीय ध्वज फहराए गए।

इस अभ्यास में 40वीं कैवलरी रेजिमेंट के फर्स्ट स्क्वाड्रन (एयरबोर्न) के 300 अमेरिकी सैनिक और भारतीय सेना के 7 मद्रास इन्फैंट्री बटालियन ग्रुप के 350 सैनिक भाग ले रहे हैं। 14 दिनों के इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में संयुक्त राष्ट्र के जनादेश के तहत विद्रोह/आतंकवाद के खिलाफ अभियान के रूप में संयुक्त प्रशिक्षण जैसी गतिविधियाँ शामिल हैं।

उद्घाटन समारोह के दौरान, अमेरिकी सेना में अलास्का के कमांडर मेजर जनरल ब्रायन आइफलर ने औपचारिक रूप से भारतीय दल का स्वागत किया। उन्होंने दोनों टुकड़ियों से अभ्यास के प्रशिक्षण उद्देश्यों को सफलतापूर्वक पूरा करने लिए सामंजस्य और अंतर-संचालन में सुधार पर ध्यान केंद्रित करने का आग्रह किया। उन्होंने दोनों देशों के सैनिकों के बीच विचारों, अवधारणाओं और सर्वोत्तम कार्यप्रणालियों के मुक्त आदान-प्रदान और एक-दूसरे के अनुभवों से सीखने की आवश्यकता पर जोर दिया।

संयुक्त अभ्यास से दोनों सेनाओं को एक-दूसरे को बेहतर तरीके से जानने, अपने व्यापक अनुभव साझा करने और सूचना के आदान-प्रदान के माध्यम से स्थिति के अनुसार जागरूकता बढ़ाने में सुविधा होगी। इससे उन्हें संयुक्त राष्ट्र के कार्यक्षेत्र के अंतर्गत शीतकालीन जलवायु परिस्थितियों जैसे पहाड़ी इलाकों में बटालियन स्तर पर संयुक्त अभियान चलाने में भी मदद मिलेगी।

SOURCE-PIB

PAPER-G.S.2

 

फूड टेक समिट 2021

विश्व खाद्य दिवस मनाने के लिए, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय ने प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य प्रसंस्करण उद्यम औपचारिकीकरण (पीएमएफएमई) योजना के तहत 16 अक्टूबर 2021 को फूड टेक समिट का आयोजन किया। फूड टेक समिट 2021 का उद्देश्य सभी खाद्य-तकनीकी हितधारकों को खाद्य प्रसंस्करण और तकनीकी नवाचार में नए उभरते रुझानों पर जानकारी साझा करने, चर्चा करने और सूक्ष्म उद्यमों को उनसे परिचित कराने के लिए मंच तैयार करना है।

खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय के संयुक्त सचिव श्री मिन्हाज आलम ने फूड टेक समिट को संबोधित किया और भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास कारक के रूप में सूक्ष्म खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि पीएमएफएमई योजना के माध्यम से भारत में खाद्य प्रसंस्करण को प्रोत्साहित किया जा रहा है।

शिखर सम्मेलन में उद्योग जगत के प्रख्यात वक्ताओं ने सूक्ष्म उद्यमों के लिए कई अहम बातें साझा कीं और घरेलू तथा वैश्विक स्तर पर खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में आगे बढ़ने का मार्ग प्रशस्त किया।

फूड टेक समिट वर्तमान परिदृश्य में अपने खाद्य व्यवसाय को बढ़ाने के लिए हितधारकों को सही फैसले लेने में सक्षम बनाने के लिए उन्हें शिक्षित करने और उनका मार्गदर्शन करने के लिए विशिष्ट उद्योग विशेषज्ञों के सहयोग से खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय की यह एक अच्छी पहल है। इस शिखर सम्मेलन में विभिन्न प्रतिष्ठित अतिथि वक्ताओं की भागीदारी के अलावा, राज्यों के सरकारी अधिकारियों और खाद्य प्रसंस्करण सूक्ष्म उद्यमों की भी भागीदारी रही। इसे सफलतापूर्वक लाइव होस्ट किया गया और इसमें सभी हितधारकों की बड़ी भागीदारी देखी।

पीएमएफएमई योजना के बारे में

आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत शुरू की गई,प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य प्रसंस्करण उद्यम औपचारिकीकरण (पीएमएफएमई) योजना एक केंद्र प्रायोजित योजना है जिसका उद्देश्य खाद्य प्रसंस्करण उद्योग के असंगठित क्षेत्र में मौजूदा व्यक्तिगत सूक्ष्म उद्यमों की प्रतिस्पर्धात्मकता को बढ़ाना, इस क्षेत्र के औपचारिकीकरण को बढ़ावा देना और किसान उत्पादक संगठनों, स्वयं सहायता समूहों और उत्पादक सहकारी समितियों को उनकी संपूर्ण मूल्य श्रृंखला के साथ सहायता प्रदान करना है। 2020-21 से 2024-25 तक की 5 वर्षों की अवधि में 10,000 करोड़ रुपये के परिव्यय के साथ मौजूदा सूक्ष्म खाद्य प्रसंस्करण उद्यमों के उन्नयन के लिए वित्तीय, तकनीकी और व्यावसायिक सहायता प्रदान करते हुए 2,00,000 सूक्ष्म खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों की सीधे सहायता करने की योजना है।

SOURCE-PIB

PAPER-G.S.3

 

राष्ट्रीय सुरक्षा गारद

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह ने राष्ट्रीय सुरक्षा गारद (NSG) के 37वें स्थापना दिवस पर एनएसजी कर्मियों को शुभकामनाएँ दी हैं। एक ट्वीट में श्री अमित शाह ने कहा कि हमारे बहादुर एनएसजी कर्मियों को उनके 37वें स्थापना दिवस पर बधाई। एनएसजी आतंकवाद के सभी पहलुओं से निपटने के लिए एक विश्व स्तरीय प्रशिक्षित बल है। इस दुर्जेय बल ने अपने आदर्श वाक्य ‘सर्वत्र सर्वोत्तम सुरक्षा’ पर खरा उतरने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। भारत को एनएसजी ब्लैक कैट पर गर्व है।

केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री श्री नित्यानंद राय मानेसर, गुरुग्राम में आयोजित राष्ट्रीय सुरक्षा गारद के स्थापना दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल हुए।

राष्ट्रीय सुरक्षक भारत की एक विशेष प्रतिक्रिया यूनिट है। जिसका मुख्य रूप से आतंकवाद विरोधी गतिविधियों के लिए उपयोग किया गया है। इसका गठन भारतीय संसद के राष्ट्रीय सुरक्षक अधिनियम के अन्तर्गत कैबिनेट सचिवालय द्वारा 1986 में किया गया था। यह पूर्णतः से केन्द्रीय अर्द्धसैनिक बल के ढाँचे के भीतर कार्य करता है।

राष्ट्रीय सुरक्षक गृह मन्त्रालय के निरीक्षण में काम करते हैं। और इसका नेतृत्व भारतीय पुलिस सेवा का महानिदेशक करता है। महानिदेशक सदैव एक आईपीएस अधिकारी होता है। जबकि इसमें भर्ती भारत की केन्द्रीय अर्द्धसैनिक बल और भारतीय सशस्त्र बलों से की जाती है।

राष्ट्रीय सुरक्षक के सदस्यों को ब्लैक कैट के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि वे विशेष कार्यों में काले ओवरऑल और नकाब या हेलमेट पहनते हैं। राष्ट्रीय सुरक्षक भूमिकाओं में शामिल अति विशिष्ट व्यक्तियों की रक्षा, विरोधी तोड़फोड़ की जाँच का आयोजन, बचाव बन्धकों, महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों को आतंकवादी खतरों को निष्क्रिय, आतंकवादियों को उलझाने और अपहरण और चोरी करने के लिये जवाब है।

इस कार्य को राष्ट्रीय सुरक्षक के विशेष रेंजर्स समूह (SRG) द्वारा किया जाता है, राष्ट्रीय सुरक्षक अधिक वीवीआईपी सुरक्षा के लिए भारत में उच्च जोखिम वाले अति महत्वपूर्ण व्यक्तियों, राजनेता द्वारा एक स्थिति के प्रतीक के रूप में अधिक के लिये के बाद की माँग की है। विशेष कार्य समूह के आतंकवाद विरोधी और अपहरण विरोधी अभियानों में हड़ताल बल, SRG और दूसरों के द्वारा समर्थित है।

SOURCE-PIB

PAPER-G.S.3

 

डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम प्रेरणा स्थल का उद्घाटन किया गया

डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम प्रेरणा स्थल का उद्घाटन 15 अक्टूबर, 2021 को नौसेना विज्ञान और प्रौद्योगिकी प्रयोगशाला (NSTL), विशाखापत्तनम में किया गया।

मुख्य बिंदु

  • इस ‘प्रेरणा स्थल’ का उद्घाटन भारत रत्न डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम की 90वीं जयंती के साथ-साथ ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ मनाने के लिए किया गया।
  • इस अवसर पर DRDO के महानिदेशक (नौसेना प्रणाली एवं सामग्री) डॉ. समीर वी. कामत ने डॉ. कलाम की प्रतिमा का अनावरण भी किया।
  • वरुणास्त्र, टॉरपीडो एडवांस्ड लाइट (TAL) और मारीच डिकॉय जैसे NSTL उत्पादों को भी इस अवसर पर प्रदर्शित किया जा रहा है।

NSTL

NSTL रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) के तहत काम करने वाली प्रमुख नौसैनिक अनुसंधान प्रयोगशाला है। यह विशाखापत्तनम में स्थित है। NSTL का मुख्य कार्य पानी के भीतर हथियारों और संबंधित प्रणालियों का अनुसंधान और विकास करना है। NSTL के वर्तमान निदेशक डॉ. वाई. श्रीनिवास राव हैं।

अवुल पकिर जैनुलाबदीन (एपीजे) अब्दुल कलाम

वह एक भारतीय एयरोस्पेस वैज्ञानिक थे और उन्होंने 2002 से 2007 तक भारत के 11वें राष्ट्रपति के रूप में भी कार्य किया। उनका जन्म और पालन-पोषण तमिलनाडु के रामेश्वरम में हुआ था। उन्होंने भौतिकी और एयरोस्पेस इंजीनियरिंग का अध्ययन किया। उन्होंने DRDO और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) में वैज्ञानिक और विज्ञान प्रशासक के रूप में अपने चार साल समर्पित किए। वह भारत में सैन्य मिसाइल विकास प्रयासों और नागरिक अंतरिक्ष कार्यक्रम में शामिल थे। इसलिए उन्हें भारत के मिसाइल मैन के रूप में जाना जाता है। उन्होंने 1998 में भारत द्वारा पोखरण-द्वितीय परमाणु परीक्षणों में महत्वपूर्ण संगठनात्मक, तकनीकी भूमिका निभाई।

SOURCE-GK TODAY

PAPER-G.S.3

 

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद

संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) में भारी बहुमत के साथ 14 अक्टूबर, 2021 को 2022-24 के कार्यकाल के लिए भारत को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के लिए फिर से निर्वाचित किया गया है।

मुख्य बिंदु

  • नई दिल्ली के दूत ने चुनाव को संविधान में निहित लोकतंत्र, मौलिक अधिकारों और बहुलवाद में भारत की मजबूत जड़ों का “मजबूत समर्थन” के रूप में वर्णित किया।
  • यह फैसला संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र में लिया गया।
  • संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के 18 नए सदस्यों के लिए सभा हुई।
  • ये नए सदस्य जनवरी, 2022 से शुरू होकर तीन साल की अवधि के लिए काम करेंगे।

भारत का चयन

भारत ने 193 सदस्यीय विधानसभा में 184 मतों से अपना चयन हासिल किया। भारत का वर्तमान कार्यकाल 31 दिसंबर 2021 को समाप्त होगा। 2022-2024 की अवधि के लिए चुनाव के लिए एशिया-प्रशांत राज्यों की श्रेणी में पांच खाली सीटें थीं, जैसे कि कजाकिस्तान, मलेशिया, भारत, कतर और संयुक्त अरब अमीरात।

नए सदस्य

193 सदस्यीय महासभा ने 2022-2024 कार्यकाल के लिए गुप्त मतदान द्वारा अर्जेंटीना, कैमरून, बेनिन, फिनलैंड, इरिट्रिया, होंडुरास, गाम्बिया, लिथुआनिया, भारत, कजाकिस्तान, मलेशिया, लक्जमबर्ग, मोंटेनेग्रो, कतर, पराग्वे, यूएई, सोमालिया और अमेरिका को चुना।

सदस्यों के कार्यालय की अवधि

परिषद के सदस्य तीन साल की अवधि के लिए काम करेंगे। वे लगातार दो कार्यकालों के बाद तत्काल पुन: निर्वाचन के लिए पात्र नहीं होंगे।

SOURCE-DANIK JAGRAN

PAPER-G.S.2

 

वन हेल्थ कंसोर्टियम

जैव प्रौद्योगिकी विभाग ने 14 अक्टूबर, 2021 को वर्चुअल मोड में ‘वन हेल्थ’ कंसोर्टियम (One Health Consortium) लॉन्च किया। इसे जैव प्रौद्योगिकी विभाग के सचिव डॉ. रेणु स्वरूप द्वारा लॉन्च किया गया।

वन हेल्थ कंसोर्टियम (One Health Consortium)

  • वन हेल्थ कंसोर्टियम को भारत में जूनोटिक और ट्रांसबाउंड्री रोगजनकों के महत्वपूर्ण वायरल, बैक्टीरियल और परजीवी संक्रमणों की निगरानी करने का अधिकार दिया गया है।
  • यह परियोजना मौजूदा नैदानिक परीक्षणों के उपयोग और निगरानी करने और उभरती बीमारियों के प्रसार को समझने के लिए अतिरिक्त पद्धतियों के विकास पर भी विचार करेगी।

पृष्ठभूमि

यह संघ कोविड-19 महामारी की पृष्ठभूमि में शुरू किया गया था, जिसने संक्रामक रोगों के शासन में ‘एक स्वास्थ्य’ सिद्धांत की प्रासंगिकता को दिखाया। एक स्वास्थ्य सिद्धांत दुनिया भर में जूनोटिक रोगों को रोकने और नियंत्रित करने के लिए प्रासंगिक है। इस प्रकार, महामारी जैसे कोविड-19 से होने वाले नुकसान को कम करने के लिए मानव, जानवरों और वन्यजीवों के स्वास्थ्य को समझने के लिए यह समग्र दृष्टिकोण अपनाया जाएगा।

इस संघ के तहत संगठन

वन हेल्थ कंसोर्टियम में DBT-नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एनिमल बायोटेक्नोलॉजी, हैदराबाद के नेतृत्व में 27 संगठन शामिल हैं। यह भारत सरकार द्वारा कोविड के बाद के समय में शुरू किए गए सबसे बड़े स्वास्थ्य कार्यक्रमों में से एक है। इसमें एम्स दिल्ली, एम्स जोधपुर, गडवासु लुधियाना,  IVRI  बरेली, TANUVAS चेन्नई, असम कृषि और पशु चिकित्सा विश्वविद्यालय, MAFSU  नागपुर,  ICAR और  ICMR केंद्र और वन्यजीव एजेंसियां शामिल हैं।

एक स्वास्थ्य दृष्टिकोण (One Health Approach)

‘एक स्वास्थ्य दृष्टिकोण’ बताता है कि लोगों का स्वास्थ्य, जानवरों का स्वास्थ्य और पर्यावरण का स्वास्थ्य परस्पर जुड़े हुए हैं। इसके कारण, इन क्षेत्रों में गतिविधियां और प्रथाएं अनिवार्य रूप से दूसरों को प्रभावित करेंगी। ‘वन हेल्थ’ का प्राथमिक लक्ष्य मनुष्यों, जानवरों और पर्यावरण के लिए सर्वोत्तम स्वास्थ्य परिणाम प्राप्त करने के लिए बताए गए तीन डोमेन में हितधारकों के सहयोगात्मक प्रयासों को प्रोत्साहित करना है।

SOURCE-GK TODAY

PAPER-GS 2