Home » Current Affairs - Hindi » Current Affair 27 March 2021

Current Affair 27 March 2021

27 March Current Affairs

ओराकान्दी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने अपनी दो दिवसीय बांग्लादेश यात्रा के दूसरे दिन ओराकान्दी स्थित हरि मंदिर में पूजा-अर्चना कर ईश्वर का आशीर्वाद प्राप्त किया। प्रधानमंत्री ने वहाँ परम पूज्य ठाकुर परिवार के वंशजों से बातचीत भी की।

प्रधानमंत्री ने ओराकान्दी में मतुआ समुदाय के प्रतिनिधियों को भी संबोधित किया। ये वही स्थान है, जहाँ से श्री श्री हरि चंद ठाकुर जी ने सामाजिक सुधारों से संबंधित अपने पवित्र विचारों और संदेशों का प्रसार किया था। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने बल देते हुए कहा कि भारत और बांग्लादेश अपने-अपने देश के विकास और तरक्की के माध्यम से संपूर्ण विश्व की प्रगति चाहते हैं। दोनों ही देश चाहते हैं कि संपूर्ण विश्व में अस्थिरता, आतंक और अशांति नहीं बल्कि स्थिरता, प्रेम और शांति का वातावरण होना चाहिए। श्री हरि चंद ठाकुर जी ने भी हमें शांति, स्थिरता और प्रेम के मार्ग पर चलने का ही संदेश दिया है।

मतुआ समुदाय के संस्थापक हरिश्चंद्र ठाकुर का बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल में काफी सम्मान है। उनका जन्म बंगाल में साल 1812 में हुआ था। मतुआ समुदाय के लोग हरिश्चंद्र ठाकुर को भगवान का अवतार मानते हैं। उन्होंने समाज सुधार के कई कार्य किए थे। समय गुजरा और मतुआ समुदाय को बांग्लादेश के लेकर पश्चिम बंगाल में काफी पहचान मिली।

SOURCE-PIB

 

एग्जिट पोल

भारत निर्वाचन आयोग ने जन प्रतिनिधि अधिनियम, 1951 की धारा 126ए की उप-धारा (1) के तहत शक्तियों का प्रयोग करते हुए 27 मार्च, 2021 (शनिवार) सुबह 7:00 बजे से 29 अप्रैल, 2021 (गुरुवार) शाम 7:30 बजे के बीच की समयावधि को अधिसूचित किया है, जिसके दौरान एग्जिट पोल पर प्रतिबंध रहेगा।

दरअसल इस प्रतिबंधित अवधि के दौरान असम, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी की विधानसभाओं के चुनाव तथा दो लोकसभा एवं विभिन्न राज्यों की विधान सभाओं के उपचुनाव होने हैं।

आयोग की अधिसूचना के अनुसार इस अवधि में इलेक्ट्रॉनिक, प्रिंट या किसी अन्य समाचार माध्यमों में एग्जिट पोल का संचालन करना, उसके परिणाम प्रकाशित करना या प्रचार करना निषिद्ध होगा।

क्या आप जानते हो?

बहु-चरण के चुनावों में मतदाताओं के व्यवहार को प्रभावित करने से रोकने के लिए चुनाव के पहले चरण से अंतिम चरण तक एग्जिट पोल आयोजित करना प्रतिबंधित है। अंतिम चरण के बाद एक एक्जिट पोल आयोजित किया जा सकता है और परिणाम प्रकाशित किए जा सकते हैं।

यह 2009 में जनप्रतिनिधित्व कानून, 1951 में संशोधन करके लाया गया था, जिसमें आरपीए में धारा 126A डाली गई थी।

धारा 126A का उल्लंघन धारा 126A (3) के तहत कारावास की सजा देता है। इसमें दो साल तक का कारावास या जुर्माना या दोनों हो सकते हैं।

इसके अतिरिक्त, धारा 126 ए के तहत कोई अपराध करने वाली कंपनियों को सजा के लिए धारा 126 बी को भी आरपी अधिनियम, 1951 में डाला गया है।

SOURCE-AMAR UJJALA

  

केप ऑफ गुड होप

स्वेज नहर के अवरुद्ध होने के कारण यूरोप, उत्तरी अमेरिका और दक्षिण अमेरिका के साथ भारत के $ 200 बिलियन के व्यापार प्रवाह के साथ, वाणिज्य विभाग केप ऑफ गुड होप के माध्यम से पुन: मार्ग लदान की योजना बना रहा है

केप ऑफ गुड होप (पुर्तगाली : Cabo da Boa Esperança) अथवा उत्तमाशा अंतरीप अफ्रीका के सुदूर दक्षिणी कोने पर एक स्थान है। यह क्षेत्र इसलिए जाना जाता है क्योंकि यहाँ से बहुत से जहाज़ पूर्व की ओर अटलांटिक महासागर से हिन्द महासागर में जाते हैं। यह स्थान दक्षिण अफ्रीका में है। इस स्थान का एतिहासिक महत्व भी है। इस स्थान तक पहुँचने वाला सर्वप्रथम यूरोपीय व्यक्ति था पुर्तगाल का बारटोलोमीयु डियास। उसने इस स्थान को १४८८ में देखा और इसका नाम “केप ऑफ़ स्टॉर्मस” (तूफ़ानों का केप) (पुर्तगाली : Cabo das Tormentas) रखा। इसी स्थान से होकर पुर्तगाली अन्वेषक वास्को द गामा भारत पहुँचा था।

केप अगुलहास

केप अगुलहास पश्चिमी केप, दक्षिण अफ्रीका में एक चट्टानी प्रधानभूमि है।

यह अफ्रीकी महाद्वीप का भौगोलिक दक्षिणी छोर और अटलांटिक और भारतीय महासागरों के बीच विभाजन रेखा की शुरुआत है।

SOURCE-THE HINDU

 

विश्व विकास रिपोर्ट 2021

World Development Report : Data for Better Lives’ को 24 मार्च, 2021 को जारी किया गया। यह कम आय वाले देशों में रहने वाले लोगों के लिए डाटा परिदृश्य को बदलने की जबरदस्त क्षमता और जोखिम की जांच करती है।

रिपोर्ट की सिफारिशें

इस रिपोर्ट में पांच सिफारिशें प्रदान की गयी हैं :

डाटा के लिए नया सामाजिक अनुबंध : वैश्विक विशेषज्ञ अनुशंसा करते हैं कि सिविल सोसाइटी और शिक्षा इत्यादि पारदर्शिता को सुधारने और विकास में योगदान देने के लिए महत्वपूर्ण हैं।

वास्तविक मूल्य के लिए डेटा का उपयोग में वृद्धि : विशेषज्ञों ने विकासशील संदर्भों में डाटा और इसके शासन को समझने में अंतराल को रेखांकित किया है। डाटा साक्षरता में सुधार और विशेष रूप से कमजोर समूहों के लिए पहुंच का विस्तार करने के प्रयास किए जाने चाहिए।

न्यायसंगत पहुंच : विशेषज्ञों ने इस बात पर चिंता जताई कि डेटा के लिए सार्वजनिक और निजी सिस्टम गरीब लोगों या कमजोर समूहों को कवर नहीं करते हैं। इसलिए, यह अनुशंसा करता है, सीमांत लोगों को डाटा सिस्टम में बेहतर प्रतिनिधित्व की आवश्यकता है।

डाटा दुरुपयोग से सुरक्षा : विशेषज्ञ शासन व्यवस्था और सिस्टम से जुड़े मुद्दों पर सलाह देते हैं कि वे जिस डाटा प्रवाह का उपयोग करते हैं, यह सुनिश्चित किये जाना चाहिए कि वे नैतिक और सुरक्षित हैं।

एकीकृत राष्ट्रीय डेटा सिस्टम : विशेषज्ञ उन देशों के लिए कठिनाइयों को उजागर करते हैं जो उच्च गुणवत्ता वाले डाटा सिस्टम को डिजाइन करने में गरीबी और खराब शासन से पीड़ित हैं। इसलिए, वे एकीकृत राष्ट्रीय डेटा सिस्टम के लिए भौतिक और मानव पूंजी में निवेश बढ़ाने की सलाह देते हैं।

विश्व विकास रिपोर्ट

यह 1978 से प्रकाशित विश्व बैंक का एक प्रमुख प्रकाशन है। इस रिपोर्ट को दुनिया के आर्थिक, सामाजिक और पर्यावरणीय स्थिति के लिए एक अमूल्य मार्गदर्शिका माना जाता है।

SOURCE-G.K.TODAY

 

वैश्विक पवन रिपोर्ट 2021

ग्लोबल विंड एनर्जी काउंसिल (Global Wind Energy Council – GWEC) द्वारा 25 मार्च, 2021 को ग्लोबल विंड रिपोर्ट 2021 प्रकाशित की गई थी।

मुख्य बिंदु

हालाँकि, 2020 वैश्विक पवन ऊर्जा उद्योग के लिए एक रिकॉर्ड वर्ष था, लेकिन यह रिपोर्ट चेतावनी देती है कि वैश्विक जलवायु लक्ष्यों को प्राप्त करने और ग्लोबल वार्मिंग को 2°C से लाने के लिए अगले दशक तक तीन गुना तेजी से नई पवन ऊर्जा क्षमता स्थापित करने की आवश्यकता है। वर्ष 2020 में, 93 GW नई क्षमता स्थापित की गई। यह साल-दर-साल 53% की वृद्धि है।

रिपोर्ट के मुख्य बिंदु

इस रिपोर्ट के अनुसार, कुल वैश्विक पवन ऊर्जा क्षमता अब 743GW तक है।यह दुनिया को सालाना 1 बिलियन टन CO2 से बचने में मदद कर रहा है। यह दक्षिण अमेरिका के वार्षिक कार्बन उत्सर्जन के बराबर है।

इस रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि जलवायु परिवर्तन के सबसे बुरे प्रभावों से बचने के लिए दुनिया को प्रति वर्ष कम से कम 280 गीगावॉट नई पवन ऊर्जा स्थापित करने की आवश्यकता है।इस प्रकार, उद्योग और नीति निर्माताओं को तेजी से कार्य करने की आवश्यकता है।

इसमें कहा गया है कि दुनिया भर की सरकारों को लालफीताशाही और योजना में देरी को खत्म करने के लिए ‘जलवायु आपातकाल’ के दृष्टिकोण के साथ काम करना चाहिए।

पवन ऊर्जा शुद्ध शून्य उत्सर्जन लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए एक आधारशिला है।

जलवायु आपातकालीन दृष्टिकोण (Climate Emergency Approach)

GWEC ने नीति निर्माताओं को लालफीताशाही को खत्म करने और प्रशासनिक ढांचे को गति देने और परियोजनाओं के लिए लाइसेंसिंग और परमिट को कारगर बनाने के लिए ‘जलवायु आपातकालीन’ दृष्टिकोण अपनाने के लिए कहा है। इसने ग्रिड, बंदरगाहों और अन्य अवसंरचना में निवेश बढ़ाने के लिए भी कहा है।

 

विश्व थिएटर दिवस

विश्व थिएटर दिवस (WTD) मंच की शक्ति पर ध्यान आकर्षित करने के लिए 27 मार्च को हर साल मनाया जाता है। यह थिएटर कला के महत्व को भी बताता है क्योंकि यह हमें आगे बढ़ना, मनोरंजन करना, सिखाना और बदलना जारी रखता है।

मुख्य बिंदु

इस दिन की शुरुआत 1961 में अंतर्राष्ट्रीय रंगमंच संस्थान (International Theatre Institute – ITI) द्वारा की गई थी, जो कला प्रदर्शन के लिए वैश्विक संस्था है। यह दिन उन लोगों के लिए एक उत्सव है जो कला रूप “थिएटर” के मूल्य और महत्व को देख सकते हैं, और यह दिवस सरकारों, राजनेताओं और संस्थानों के लिए एक वेक-अप कॉल के रूप में कार्य करता है, जिन्होंने अभी तक लोगों के लिए और इसके मूल्य को मान्यता नहीं दी है।

SOURCE-G.K.TODAY

 

म्यांमार में शनिवार को ऑर्म्ड फ़ोर्सेज़ डेके मौक़े पर सुरक्षाबलों और प्रदर्शनकारियों के बीच ज़बर्दस्त झड़पें हुई हैं।

असिस्टेंस एसोसिएशन फ़ॉर पॉलिटिकल प्रिज़नर्स (एएपीपी) ने स्थानीय समयानुसार शनिवार शाम तक के आंकड़े जुटाकर बताया है कि सुरक्षाबलों की गोलियों से 90 से ज़्यादा प्रदर्शनकारी मारे गए हैं जिनमें बच्चे भी शामिल हैं।

अमेरिका, ब्रिटेन और यूरोपियन यूनियन के अधिकारियों ने म्यांमार में शनिवार को हुई हिंसा की भर्त्सना की है।

म्यांमार को बर्मा के नाम से भी जाना जाता है। ये देश वर्ष 1948 में ब्रिटेन से आज़ाद हुआ और उसके बाद अधिकतर वर्षों तक सैन्य शासन के अधीन रहा।

म्यांमार में इस साल फ़रवरी में सेना ने तख़्ता पलट किया और सत्ता पर क़ाबिज़ हो गई. तब से सेना विरोधी प्रदर्शनों में 400 से अधिक लोग मारे जा चुके हैं।

SOURCE-BBC

%d bloggers like this: