Home » Current Affairs - Hindi » Current Affair 27 May 2021

Current Affair 27 May 2021

CURRENTS AFFAIRS – 27th MAY 2021

राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन (एनडीएचएम) की समीक्षा के लिए एक उच्चस्तरीय बैठक की अध्यक्षता की। माननीय प्रधानमंत्री ने 15 अगस्त, 2020 को, अपने स्वतंत्रता दिवस के संबोधन के दौरान, एनडीएचएम के शुभारंभ की घोषणा की थी। उसके बाद से, कई डिजिटल मॉड्यूल एवं रजिस्ट्रियां विकसित की गई हैं और इस मिशन को छह केन्द्र – शासित प्रदेशों में शुरू किया गया है। अब तक, लगभग 11.9 लाख स्वास्थ्य पहचान – पत्र (आईडी) बनाये जा चुके हैं और 3106 डॉक्टरों एवं 1490 स्वास्थ्य सेवा से जुड़ी सुविधाओं ने इस प्लेटफार्म पर पंजीकरण कराया है।

इस बात की परिकल्पना की गई है कि डिजिटल स्वास्थ्य से संबंधित एक खुले और इंटरऑपरेबल आईटी नेटवर्क-यूनिफाइड हेल्थ इंटरफेस (यूएचआई) को जल्द ही शुरू किया जाना चाहिए। यह इंटरफ़ेस सार्वजनिक और निजी समाधानों एवं एप्प को काम करने और उसे राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य से जुड़े इकोसिस्टम का हिस्सा बनने में सक्षम बनायेगा। यह उपयोगकर्ताओं को टेली-परामर्श या प्रयोगशाला जांच जैसी आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं को खोजने, उन्हें बुक करने और उनका लाभ उठाने की अनुमति देगा। यह प्रणाली यह सुनिश्चित करेगी कि केवल सत्यापित स्वास्थ्य सेवा प्रदाता ही इस इकोसिस्टम में शामिल हों। इसके द्वारा नवाचारों और विभिन्न सेवाओं के जरिए नागरिकों के लिए एक डिजिटल स्वास्थ्य तकनीक क्रांति लाये जाने की संभावना है। इस प्रकार, पूरे देश में स्वास्थ्य सेवा से जुड़े बुनियादी ढांचे और मानव संसाधनों काऔर भी अधिक कारगर तरीके से उपयोग किया जा सकता है।

बैठक में नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) द्वारा विकसित यूपीआई ई-वाउचर की अवधारणा पर भी चर्चा की गई। डिजिटल भुगतान का यह विकल्प विशिष्ट उद्देश्य से जुड़े वित्तीय लेनदेन को सक्षम बनायेगा जिसका उपयोग केवल इच्छुक उपयोगकर्ता द्वारा किया जा सकता है। यह विभिन्न सरकारी योजनाओं के लक्षित और कुशल वितरण के लिए उपयोगी हो सकता है और यूपीआई ई-वाउचर का तत्काल उपयोग स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में हो सकता है।

प्रधानमंत्री ने निर्देश दिया कि एनडीएचएम के तहत गतिविधियों में विस्तार करने के लिए तेजी से कदम उठाए जाएं। प्रधानमंत्री ने कहा कि एनडीएचएम बड़ी संख्या में स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ उठाने के लिए नागरिकों के जीवन को आसान बनाएगा। उन्होंने कहा कि तकनीकी प्लेटफार्म और रजिस्ट्रियों का निर्माण भले ही अनिवार्य आवश्यक तत्व हैं, लेकिन नागरिकों के लिए इस प्लेटफार्म की उपयोगिता एक डॉक्टर के साथ टेली परामर्श, एक जांच प्रयोगशाला की सेवाओं, जांच रिपोर्ट या स्वास्थ्य रिकॉर्ड को डिजिटल रूप से डॉक्टर को स्थानांतरित करने और उपरोक्त किसी भी सेवा के लिए डिजिटल रूप से भुगतान करने जैसी सेवाओं का लाभ उठाने में देश भर के नागरिकों को सक्षम बनाने के जरिए ही दिखाई देगी। उन्होंने इस दिशा में किये जा रहे प्रयासों के समन्वय के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय और इलेक्ट्रॉनिक्स एवं आईटी मंत्रालय के साथ एनएचए को निर्देश दिया।

राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन :

पृष्ठभूमि :

भारत में ‘डिजिटल स्वास्थ्य अवसंरचना’ का प्रारंभ वर्ष 2017 की ‘राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति’ के तहत ‘राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य प्राधिकरण’ (National Digital Health Authority) की स्थापना के प्रस्ताव से माना जाता है।

‘भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण’ (UIDAI) के पूर्व अध्यक्ष सत्यनारायण की अध्यक्षता वाली समिति द्वारा जुलाई 2019 में ‘राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन’ का ब्लूप्रिंट जारी किया गया।

7 अगस्त, 2020 को ‘राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन’ (NDHM) की दिशा में नवीनतम रणनीतिक दस्तावेज़ जारी किये गए।

नवीन राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन :

राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन (National Digital Health Mission- NDHM) एक पूर्ण डिजिटल स्वास्थ्य पारिस्थितिकी तंत्र होगा, जिसके तहत चार प्रमुख डिजिटल पहलों; हेल्थ आईडी, व्यक्तिगत स्वास्थ्य रिकॉर्ड, डिजी डॉक्टर और स्वास्थ्यसुविधा रजिस्ट्री को लॉन्च किया जाएगा।

नवीन NDHM रणनीतिक दस्तावेज में डॉक्टरों, अस्पतालों, फार्मेसियों, और बीमा कंपनियों द्वारा डिजिटल रजिस्ट्री का निर्माण करने, ‘डिजिटल व्यक्तिगत स्वास्थ्य रिकॉर्ड रखने ‘डिजिटल नैदानिक निर्णय प्रणालियों’ की रूपरेखा प्रस्तुत की गई।

‘राष्ट्रीय स्वास्थ्य आईडी प्रणाली’ की भी चर्चा की गई है जिससे रोगी अपने डेटा को अस्पतालों और डॉक्टरों के बीच डिजिटल रूप से साझा कर सकते हैं

SOURCE-PIB

 

सेहत ओपीडी पोर्टल

क्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने दिनांक 27 मई, 2021 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ‘सर्विसेज़ ई-हेल्थ असिस्टेन्स एवं टेली-कंसल्टेशन (सेहत) ओपीडी पोर्टल शुरू किया। यह पोर्टल सेवारत सशस्त्र बलों कार्मिकों, पूर्व सैनिकों तथा उनके परिवारों को टेली-मेडिसिन सेवाएं प्रदान करता है।यह उन्नत सुरक्षा सुविधाओं के साथ सेहत ओपीडी पोर्टल का अंतिम संस्करण है। इसका परीक्षण संस्करण अगस्त 2020 में शुरू किया गया था। सैन्य सेवा के डॉक्टरों द्वारा बीटा संस्करण पर 6500 से अधिक चिकित्सा परामर्श पहले ही दिए जा चुके हैं।

इस अवसर पर श्री राजनाथ सिंह ने सैन्य मामलों के विभाग (डीएमए), सशस्त्र बल चिकित्सा सेवाएं (एएफएमएस), एकीकृत रक्षा स्टाफ (आईडीएस), प्रगत संगणन विकास केन्द्र (सी-डैक) मोहाली और पोर्टल के विकास में शामिल अन्य संगठनों की सराहना करते हुए कहा कि यह डिजिटल इंडिया और ई-गवर्नेंस के प्रति सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है। उन्होंने रेखांकित किया, ‘हमेशा से हमारा प्रयास रहा है कि हमारे देशवासियों को बेहतर, तेज और पारदर्शी सुविधाएं प्रदान की जाएं। रक्षा मंत्री ने सेहत ओपीडी पोर्टल को नवाचार का एक बड़ा उदाहरण बताया, खासकर ऐसे समय में जब राष्ट्र कोविड-19 महामारी से लड़ रहा है। उन्होंने बताया कि इस पोर्टल से अस्पतालों का भार कम करने में मदद मिलेगी और मरीज आसान और प्रभावी तरीके से संपर्क रहित परामर्श प्राप्त कर सकेंगे।

रक्षा मंत्री ने एएफएमएस से आग्रह किया कि वे इस पोर्टल पर विशेषज्ञ डॉक्टरों को जोड़ने पर विचार करें और सेवाकर्मियों के घरों में दवाओं के वितरण की सेवा को शामिल करें। उन्होंने कहा कि इससे अतिरिक्त सेवाएं उपलब्ध होंगी और सशस्त्र बलों के कर्मियों को अधिक सुविधा सुनिश्चित होगी। श्री राजनाथ सिंह ने सुझाव दिया कि सेवाओं के बेहतर वितरण के लिए लाभार्थियों का नियमित फीडबैक लिया जाना चाहिए।

SOURCE-PIB

 

एक्लिप्स एंड आफ्टर

महिलाओं द्वारा महिलाओं पर बनाईगई फिल्मों का एक महोत्सव ‘द एक्लिप्स एंड आफ्टर’ 28 से 30 मई 2021 तक ऑनलाइन दिखाया जा रहा है, और इसी के साथ फिल्म प्रभाग द्वारा महिला-केंद्रित डॉक्यूमेंट्री फिल्मों की विषय अनुरूप क्यूरेट की गई महोत्सव श्रृंखला की शुरुआत होगी।

महिला फिल्मकारों द्वारा बनाई गई इन दस फिल्मों के समूह में ऐसी महिलाओं की कहानियां कही गई हैं जो गैर-बराबरी और अन्याय से लड़कर बाहर आती हैं, और इसमें ऐसी मजबूत इरादों वाली महिलाओं की प्रेरक कहानियां भी हैं जिन्होंने आत्म-मूल्य और उपलब्धियों से भरा जीवन जीने के लिए परंपराओं को तोड़ने का साहस किया।

‘द एक्लिप्स एंड आफ्टर’ में शामिल फिल्में हैं – विद द रिवर फ्लोइंग (64 मिनट/तोर्शो बनर्जी), साइलेंट वॉयसेज़ (26 मिनट/पृथा चक्रवर्ती), बॉर्न बिहाइंड बार्स (52 मिनट/ मालती राव), विजी अम्मा (53 मिनट/नवनिंद्र बहल), ब्रम्हवादिनी – महिला पौरोहित्य (26 मिनट/सुहासिनी मुले), फूलबसन बाई (27 मिनट/नवनिंद्र बहल), मेकअप द लॉस (5 मिनट/प्रतिभा कौर पसरीचा), माई बेबी नॉट माइन (52 मिनट/राखी शंडिल्य), चेसिंग टेल्स (53 मिनट/माधवी तंगेला) और, द डे आई बिकेम अ वुमन (34 मिनट/मौपिया मुखर्जी)।

SOURCE-PIB

 

एनी अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार

भारत रत्न प्रोफेसर सी.एन.आर. राव को अक्षय ऊर्जा स्रोतों और ऊर्जा भंडारण में अनुसंधान के लिए अंतर्राष्ट्रीय एनी पुरस्कार 2020 प्राप्त हुआ है। इस पुरस्कार को एनर्जी फ्रंटियर पुरस्कार भी कहा जाता है। इसे ऊर्जा अनुसंधान क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार माना जाता है।

प्रोफेसर राव पूरी मानव जाति के लाभ के लिए ऊर्जा के एकमात्र स्रोत के रूप में हाइड्रोजन ऊर्जा पर काम कर रहे हैं। हाइड्रोजन का भंडारण, हाइड्रोजन का फोटोकैमिकल और इलेक्ट्रोकेमिकल उत्पादन, हाइड्रोजन का सौर उत्पादन और गैर-धातु उत्प्रेरण प्रोफेसर राव के काम के मुख्य आकर्षण थे।

एनर्जी फ्रंटियर्स पुरस्कार धातु ऑक्साइड, कार्बन नैनोट्यूब, और अन्य सामग्रियों और द्वि-आयामी प्रणालियों पर उनके काम के लिए प्रदान किया गया है, जिसमें ग्रेफीन, बोरॉन-नाइट्रोजन-कार्बन हाइब्रिड सामग्री, और मोलिब्डेनम सल्फाइड (मोलिब्डेनाइट – एमओएस2) ऊर्जा अनुप्रयोगों और हरित हाइड्रोजन का उत्पादन शामिल हैं। ये सभी वास्तव में, विभिन्न प्रक्रियाओं के माध्यम से प्राप्त की  जा सकती हैं, जिसमें सौर या पवन ऊर्जा से उत्पादित बिजली द्वारा सक्रिय पानी, थर्मल पृथक्करण, और इलेक्ट्रोलिसिस के फोटोडिसोसिएशन शामिल हैं। प्रोफेसर राव ने तीनों क्षेत्रों में काम किया है और कुछ अत्यधिक नवीन सामग्री विकसित की है।

समान या संबंधित सामग्रियों के हाइड्रोजन संग्रह प्रणाली और उच्च विशिष्ट शक्ति वाले सुपरकैपेसिटर और चार्ज-डिस्चार्ज चक्रों की बढ़ी हुई संख्या के निर्माण के लिए फायदेमंद गुण भी दिखाए गए हैं। बाद वाली वस्तु बैटरी के समान ऊर्जा भंडारण उपकरण हैं, जो अक्षय ऊर्जा क्षेत्र का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन जाएगा।

समान या संबंधित सामग्रियों के  हाइड्रोजन संग्रह प्रणाली और उच्च विशिष्ट शक्ति वाले सुपरकैपेसिटर और चार्ज-डिस्चार्ज चक्रों की बढ़ी हुई संख्या के निर्माण के लिए फायदेमंद गुण भी दिखाए गए हैं। बाद वाली वस्तु बैटरी के समान ऊर्जा भंडारण उपकरण हैं, जो अक्षय ऊर्जा क्षेत्र का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन जाएगा।

एनी अवार्ड्स 2020 रोम के क्विरिनल पैलेस में 14 अक्टूबर, 2021 को आयोजित एक आधिकारिक समारोह के दौरान प्रस्तुत किया जाएगा, जिसमें इटली गणराज्य के राष्ट्रपति सर्जियो मटेरेला शामिल होंगे।

ऊर्जा और पर्यावरण अनुसंधान के क्षेत्र में वर्षों से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त इस पुरस्कार का उद्देश्य ऊर्जा स्रोतों के बेहतर उपयोग को बढ़ावा देना और शोधकर्ताओं की नई पीढ़ियों को उनके काम के लिए प्रोत्साहित करना है। यह एनी वैज्ञानिक अनुसंधान और नवाचार के महत्व का गवाह है। इस पुरस्कार में नगद राशि और विशेष रूप से ढाला गया स्वर्ण पदक शामिल है।

SOURCE-PIB

 

स्मार्ट किचन योजना

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन (Pinarayi Vijayan) ने राज्य में “स्मार्ट किचन योजना” के कार्यान्वयन पर दिशानिर्देश और सिफारिशें तैयार करने के लिए एक सचिव स्तर की समिति की घोषणा की।

योजना के बारे में

स्मार्ट किचन योजना 10 जुलाई, 2021 तक शुरू की जाएगी।

इस योजना के तहत राज्य की महिलाओं को रसोई घर के नवीनीकरण के लिए ऋण दिया जाएगा।

इस योजना में कम ब्याज दर पर ऋण उपलब्ध कराया जाएगा।

यह योजना महिलाओं के घरेलू श्रम के कार्यभार को कम करने का प्रयास करेगी।

Left Democratic Front (LDF)

LDF केरल के वामपंथी राजनीतिक दलों का गठबंधन है जो 2021 में चुनाव जीतने के बाद फिर से सत्ता में आया है। यह पार्टी 2016 से सत्ता में है।

2021 विधानसभा चुनाव

पिनाराई विजयन के नेतृत्व में LDF ने 2016 के विधानसभा चुनाव में सत्ता में वापसी की, जिसमें उसने 140 में से 91 सीटें जीतीं। 2021 के विधानसभा चुनाव में यह संख्या फिर बढ़कर 99 सीटों पर पहुंच गई।

भारत में धूम्रपान करने वालों की संख्या में वृद्धि हुई

31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस (World No Tobacco Day) ​ से ठीक पहले, Global Burden of Disease ने दुनिया भर में धूम्रपान करने वालों की संख्या पर एक अध्ययन प्रकाशित किया है।

भारत में धूम्रपान करने वाले

इस अध्ययन के अनुसार, भारत में 2019 में 15-24 आयु वर्ग के लगभग 2 करोड़ धूम्रपान करने वाले थे। यह दुनिया भर में तंबाकू धूम्रपान करने वालों की दूसरी सबसे बड़ी संख्या है। भारत में भी 1990 के बाद से 15-24 आयु वर्ग में धूम्रपान करने वालों की सबसे अधिक वृद्धि देखी गई।

वैश्विक परिदृश्य

इस अध्ययन के अनुसार, 2019 में धूम्रपान करने वालों की संख्या बढ़कर 1 बिलियन हो गई।

तंबाकू के सेवन से 7 मिलियन लोगों की मौत हुई।

नए धूम्रपान करने वालों में, 89% 25 साल की उम्र तक आदी हो गए थे।

दुनिया भर में 155 मिलियन धूम्रपान करने वाले 15-24 आयु वर्ग के हैं।

धूम्रपान करने वालों की सबसे अधिक संख्या वाले देश

तंबाकू धूम्रपान करने वालों की सबसे अधिक संख्या वाले 10 देशों में वैश्विक तंबाकू धूम्रपान करने वाली आबादी का दो-तिहाई हिस्सा है। शीर्ष 10 देश इस प्रकार हैं- चीन, भारत, इंडोनेशिया, अमेरिका, रूस, बांग्लादेश, जापान, तुर्की, वियतनाम और फिलीपींस।

विश्व तंबाकू निषेध दिवस (World No Tobacco Day)

दुनिया भर में हर साल 31 मई को यह दिवस मनाया जाता है। यह लोगों को तंबाकू के सेवन से होने वाले खतरों और तंबाकू कंपनियों की व्यावसायिक प्रथाओं के बारे में जागरूक करने के लिए मनाया जाता है। यह आगे जनता को सूचित करता है; विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) तंबाकू के सेवन को रोकने के लिए क्या कर रहा है। यह नकारात्मक स्वास्थ्य प्रभावों पर भी ध्यान आकर्षित करता है।

Prevention of Anti-Social Activity

लक्षद्वीप के प्रशासक प्रफुल खोड़ा पटेल (Praful Khoda Patel) का केंद्र शासित प्रदेश के लोगों और राजनेताओं द्वारा हाल के दिनों में तैयार की गई नीतियों के कार विरोध किया जा रहा है।

नीतियां

  1. Draft Lakshadweep Development Authority Regulation 2021 (LDAR)

लक्षद्वीप विकास प्राधिकरण (LDA) को हाल ही में भूमि मालिकों को बेदखल करने जैसी व्यापक शक्तियों के साथ बनाया गया था।  यह कानून  LDAR  को किसी भी क्षेत्र के लिए व्यापक विकास योजनाएं तैयार करने और लक्षद्वीप में रहने वाले लोगों को नगर नियोजन या किसी भी विकासात्मक गतिविधि के उद्देश्य से उनकी संपत्ति से हटाने या स्थानांतरित करने के लिए व्यापक शक्तियां प्रदान करता है।

  1. Prevention of Anti-Social Activities Act (PASA)

यह अधिनियम जनवरी 2021 में पेश किया गया था। इसके अनुसार, व्यक्ति को बिना किसी सार्वजनिक प्रकटीकरण के एक वर्ष तक की अवधि के लिए हिरासत में रखा जा सकता है।

  1. Draft Panchayat Notification

इस अधिसूचना के अनुसार, दो से अधिक बच्चों वाले सदस्य को सदस्य होने से अयोग्य घोषित किया जाता है।

प्रफुल खोड़ा पटेल (Praful Khoda Patel)

प्रफुल्ल खोड़ा पटेल एक राजनेता हैं, वे वर्तमान में केंद्र शासित प्रदेश दादरा व नगर हवेली और दमन व दीव और लक्षद्वीप के प्रशासक के रूप में पद संभाल रहे हैं। वे दादर एवं नगर हवेली और दमन एवं दीव के पहले प्रशासक हैं। उन्हें दिसंबर 2020 में लक्षद्वीप का प्रशासक बनाया गया था।

प्रशासक की नियुक्ति कौन करता है ?

प्रशासक की नियुक्ति भारत के राष्ट्रपति द्वारा की जाती है। यह किसी भी केंद्र शासित प्रदेश के लिए एक महत्वपूर्ण पद है क्योंकि क्षेत्र में सभी कार्यों को करने का कार्यभार प्रशासक के पास होता है। प्रशासक राष्ट्रपति की ओर से कार्य करता है।

SOURCE-GK TODAY

 

प्रिंसेस ऑफ ऑस्टुरियस अवार्ड

भारतीय अर्थशास्त्री और नोबेल पुरस्कार विजेता, अमर्त्य कुमार सेन (Amartya Kumar Sen) को सामाजिक विज्ञान श्रेणी में “प्रिंसेस ऑफ ऑस्टुरियस अवार्ड” (Princess of Asturias Award) से सम्मानित किया गया, जो स्पेन का शीर्ष पुरस्कार है। उन्हें 20 देशों के 41 उम्मीदवारों में से चुना गया था। अमर्त्य सेन को उनके सबसे प्रसिद्ध कार्य “Poverty and Famines” के लिए चुना गया।

पुरस्कार के बारे में

अमर्त्य सेन को सामाजिक विज्ञान श्रेणी में स्पेन के सर्वोच्च पुरस्कार “प्रिंसेस ऑफ ऑस्टुरियस अवार्ड” (Princess of Asturias Award)  से सम्मानित किया गया है। इसमें एक प्रतीक के रूप में जोआन मिरो (Joan Miro) की मूर्ति, एक प्रतीक चिन्ह, एक डिप्लोमा और 50,000 यूरो का नकद पुरस्कार शामिल है।

गरीबी और अकाल पर सेन के विचार

सेन के मुताबिक, “भूख भोजन की कमी का परिणाम नहीं है, बल्कि वितरण के तंत्र में असमानताओं का परिणाम है।

अमर्त्य कुमार सेन (Amartya Kumar Sen)

वह एक भारतीय अर्थशास्त्री और दार्शनिक हैं। उन्होंने 1972 से यूनाइटेड किंगडम और अमेरिका में पढ़ाया और काम किया है। उन्होंने कल्याणकारी अर्थशास्त्र, आर्थिक और सामाजिक न्याय, अकाल के आर्थिक सिद्धांत, विकास अर्थशास्त्र, निर्णय सिद्धांत, सार्वजनिक स्वास्थ्य आदि में योगदान दिया है। वर्तमान में, वह थॉमस डब्ल्यू लैमोंट विश्वविद्यालय (Thomas W. Lamont University) में प्रोफेसर और हार्वर्ड विश्वविद्यालय (Harvard University) में अर्थशास्त्र और दर्शनशास्त्र के प्रोफेसर हैं।

उनकी उपलब्धि

1998 में, उन्हें कल्याणकारी अर्थशास्त्र की श्रेणी में आर्थिक विज्ञान में नोबेल मेमोरियल पुरस्कार और 1999 में भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। German Book Trade का 2020 शांति पुरस्कार उन्हें जर्मन पब्लिशर्स एंड बुकसेलर्स एसोसिएशन द्वारा प्रदान किया गया था।

%d bloggers like this: