Current Affair 6 December 2021

Current Affairs – 6 December, 2021

महापरिनिर्वाण दिवस

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने भारत रत्न डॉ. बाबासाहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर को उनके महापरिनिर्वाण दिवस पर श्रद्धांजलि अर्पित की है। प्रधानमंत्री ने संसद में बाबासाहेब को पुष्पांजलि भी अर्पित की।

भीमराव रामजी आम्बेडकर (14 अप्रैल, 1891 – 6 दिसंबर, 1956), डॉ॰ बाबासाहब आम्बेडकर नाम से लोकप्रिय, भारतीय बहुज्ञ, विधिवेत्ता, अर्थशास्त्री, राजनीतिज्ञ, और समाज सुधारक थे। उन्होंने दलित बौद्ध आन्दोलन को प्रेरित किया और अछूतों (दलितों) से सामाजिक भेदभाव के विरुद्ध अभियान चलाया था। श्रमिकों, किसानों और महिलाओं के अधिकारों का समर्थन भी किया था। वे स्वतंत्र भारत के प्रथम विधि एवं न्याय मन्त्री, भारतीय संविधान के जनक एवं भारत गणराज्य के निर्माताओं में से एक थे।

आम्बेडकर विपुल प्रतिभा के छात्र थे। उन्होंने कोलंबिया विश्वविद्यालय और लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स दोनों ही विश्वविद्यालयों से अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट की उपाधियाँ प्राप्त कीं तथा विधि, अर्थशास्त्र और राजनीति विज्ञान में शोध कार्य भी किये थे। व्यावसायिक जीवन के आरम्भिक भाग में ये अर्थशास्त्र के प्रोफेसर रहे एवं वकालत भी की तथा बाद का जीवन राजनीतिक गतिविधियों में अधिक बीता। इसके बाद आम्बेडकर भारत की स्वतन्त्रता के लिए प्रचार और चर्चाओं में शामिल हो गए और पत्रिकाओं को प्रकाशित करने, राजनीतिक अधिकारों की वकालत करने और दलितों के लिए सामाजिक स्वतंत्रता की वकालत की और भारत के निर्माण में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा।

हिन्दू पन्थ में व्याप्त कुरूतियों और छुआछूत की प्रथा से तंग आकार सन 1956 में उन्होंने बौद्ध धर्म अपना लिया था। सन 1990 में, उन्हें भारत रत्न, भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान से मरणोपरान्त सम्मानित किया गया था। 14 अप्रैल को उनका जन्म दिवस आम्बेडकर जयन्ती के तौर पर भारत समेत दुनिया भर में मनाया जाता है। डॉक्टर आम्बेडकर की विरासत में लोकप्रिय संस्कृति में कई स्मारक और चित्रण शामिल हैं।

छुआछूत के विरुद्ध संघर्ष

आम्बेडकर ने कहा था “छुआछूत गुलामी से भी बदतर है।” आम्बेडकर बड़ौदा के रियासत राज्य द्वारा शिक्षित थे, अतः उनकी सेवा करने के लिए बाध्य थे। उन्हें महाराजा गायकवाड़ का सैन्य सचिव नियुक्त किया गया, लेकिन जातिगत भेदभाव के कारण कुछ ही समय में उन्हें यह नौकरी छोड़नी पडी। उन्होंने इस घटना को अपनी आत्मकथा, वेटिंग फॉर अ वीजा में वर्णित किया। इसके बाद, उन्होंने अपने बढ़ते परिवार के लिए जीविका साधन खोजने के पुनः प्रयास किये, जिसके लिये उन्होंने लेखाकार के रूप में, व एक निजी शिक्षक के रूप में भी काम किया, और एक निवेश परामर्श व्यवसाय की स्थापना की, किन्तु ये सभी प्रयास तब विफल हो गये जब उनके ग्राहकों ने जाना कि ये अछूत हैं। 1918 में, ये मुंबई में सिडेनहम कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड इकोनॉमिक्स में राजनीतिक अर्थशास्त्र के प्रोफेसर बने। हालांकि वे छात्रों के साथ सफल रहे, फिर भी अन्य प्रोफेसरों ने उनके साथ पानी पीने के बर्तन साझा करने पर विरोध किया। भारत सरकार अधिनियम १९१९, तैयार कर रही साउथबरो समिति के समक्ष, भारत के एक प्रमुख विद्वान के तौर पर आम्बेडकर को साक्ष्य देने के लिये आमंत्रित किया गया। इस सुनवाई के दौरान, आम्बेडकर ने दलितों और अन्य धार्मिक समुदायों के लिये पृथक निर्वाचिका और आरक्षण देने की वकालत की। १९२० में, बंबई से, उन्होंने साप्ताहिक मूकनायक के प्रकाशन की शुरूआत की। यह प्रकाशन शीघ्र ही पाठकों में लोकप्रिय हो गया, तब आम्बेडकर ने इसका प्रयोग रूढ़िवादी हिंदू राजनेताओं व जातीय भेदभाव से लड़ने के प्रति भारतीय राजनैतिक समुदाय की अनिच्छा की आलोचना करने के लिये किया। उनके दलित वर्ग के एक सम्मेलन के दौरान दिये गये भाषण ने कोल्हापुर राज्य के स्थानीय शासक शाहू चतुर्थ को बहुत प्रभावित किया, जिनका आम्बेडकर के साथ भोजन करना रूढ़िवादी समाज में हलचल मचा गया। बॉम्बे उच्च न्यायालय में विधि का अभ्यास करते हुए, उन्होंने अछूतों की शिक्षा को बढ़ावा देने और उन्हें ऊपर उठाने के प्रयास किये। उनका पहला संगठित प्रयास केंद्रीय संस्थान बहिष्कृत हितकारिणी सभा की स्थापना था, जिसका उद्देश्य शिक्षा और सामाजिक-आर्थिक सुधार को बढ़ावा देने के साथ ही अवसादग्रस्त वर्गों के रूप में सन्दर्भित “बहिष्कार” के कल्याण करना था।[33] दलित अधिकारों की रक्षा के लिए, उन्होंने मूकनायक, बहिष्कृत भारत, समता, प्रबुद्ध भारत और जनता जैसी पांच पत्रिकाएं निकालीं। सन १९२५ में, उन्हें बम्बई प्रेसीडेंसी समिति में सभी यूरोपीय सदस्यों वाले साइमन कमीशन में काम करने के लिए नियुक्त किया गया। इस आयोग के विरोध में भारत भर में विरोध प्रदर्शन हुये। जहां इसकी रिपोर्ट को अधिकतर भारतीयों द्वारा अनदेखा कर दिया गया, आम्बेडकर ने अलग से भविष्य के संवैधानिक सुधारों के लिये सिफारिश लिखकर भेजीं।

‘जयस्तंभ’, कोरेगाँव भिमा में डॉ॰ बाबासाहब आम्बेडकर एवं उनके अनुयायि, 1 जनवरी 1927 द्वितीय आंग्ल-मराठा युद्ध के अन्तर्गत १ जनवरी 1818 को हुई कोरेगाँव की लड़ाई के दौरान मारे गये भारतीय महार सैनिकों के सम्मान में आम्बेडकर ने 1 जनवरी 1927 को कोरेगाँव विजय स्मारक (जयस्तंभ) में एक समारोह आयोजित किया। यहाँ महार समुदाय से संबंधित सैनिकों के नाम संगमरमर के एक शिलालेख पर खुदवाये गये तथा कोरेगाँव को दलित स्वाभिमान का प्रतीक बनाया। सन १९२७ तक, डॉ॰ आम्बेडकर ने छुआछूत के विरुद्ध एक व्यापक एवं सक्रिय आंदोलन आरम्भ करने का निर्णय किया। उन्होंने सार्वजनिक आंदोलनों, सत्याग्रहों और जलूसों के द्वारा, पेयजल के सार्वजनिक संसाधन समाज के सभी वर्गों के लिये खुलवाने के साथ ही उन्होनें अछूतों को भी हिंदू मन्दिरों में प्रवेश करने का अधिकार दिलाने के लिये संघर्ष किया। उन्होंने महाड शहर में अछूत समुदाय को भी नगर की चवदार जलाशय से पानी लेने का अधिकार दिलाने कि लिये सत्याग्रह चलाया। 1927 के अंत में सम्मेलन में, आम्बेडकर ने जाति भेदभाव और “छुआछूत” को वैचारिक रूप से न्यायसंगत बनाने के लिए, प्राचीन हिंदू पाठ, मनुस्मृति, जिसके कई पद, खुलकर जातीय भेदभाव व जातिवाद का समर्थन करते हैं, की सार्वजनिक रूप से निंदा की, और उन्होंने औपचारिक रूप से प्राचीन पाठ की प्रतियां जलाईं।25 दिसंबर 1927 को, उन्होंने हजारों अनुयायियों के नेतृत्व में मनुस्मृति की प्रतियों को जलाया। इसकी स्मृति में प्रतिवर्ष 25 दिसंबर को मनुस्मृति दहन दिवस के रूप में आम्बेडकरवादियों और हिंदू दलितों द्वारा मनाया जाता है।1930 में, आम्बेडकर ने तीन महीने की तैयारी के बाद कालाराम मन्दिर सत्याग्रह आरम्भ किया। कालाराम मन्दिर आंदोलन में लगभग १५,००० स्वयंसेवक इकट्ठे हुए, जिससे नाशिकी सबसे बड़ी प्रक्रियाएं हुईं। जुलूस का नेतृत्व एक सैन्य बैंड ने किया था, स्काउट्स का एक बैच, महिलाएं और पुरुष पहली बार भगवान को देखने के लिए अनुशासन, आदेश और दृढ़ संकल्प में चले गए थे। जब वे द्वार तक पहुँचे, तो द्वार ब्राह्मण अधिकारियों द्वारा बंद कर दिए गए।

आम्बेडकर का साहित्य

पुस्तकें

  1. एडमिनिस्ट्रेशन एंड फिनांसेज़ ऑफ़ द ईस्ट इंडिया कंपनी (एम॰ए॰ की थीसिस)
  2. द एवोल्यूशन ऑफ़ प्रोविंशियल फिनांसेज़ इन ब्रिटिश इंडिया (पीएच॰डी॰ की थीसिस, 1917, 1925 में प्रकाशित)
  3. दी प्राब्लम आफ दि रुपी : इट्स ओरिजिन एंड इट्स सॉल्यूशन (डीएस॰सी॰ की थीसिस, 1923 में प्रकाशित)
  4. अनाइहिलेशन ऑफ कास्ट्स (जाति प्रथा का विनाश) (मई 1936)
  5. विच वे टू इमैनसिपेशन (मई 1936)
  6. फेडरेशन वर्सेज़ फ्रीडम (1936)
  7. पाकिस्तान और द पर्टिशन ऑफ़ इण्डिया/थॉट्स ऑन पाकिस्तान (1940)
  8. रानडे, गांधी एंड जिन्नाह (1943)
  9. मिस्टर गांधी एण्ड दी एमेन्सीपेशन ऑफ़ दी अनटचेबल्स (सेप्टेंबर 1945)
  10. वॉट कांग्रेस एंड गांधी हैव डन टू द अनटचेबल्स ? (जून 1945)
  11. कम्यूनल डेडलाक एण्ड अ वे टू साल्व इट (मई 1946)
  12. हू वेर दी शूद्राज़ ? (अक्तुबर 1946)
  13. भारतीय संविधान में परिवर्तन हेतु कैबिनेट मिशन के प्रस्तावों का, अनुसूचित जनजातियों (अछूतों) पर उनके असर के सन्दर्भ में दी गयी समालोचना (1946)
  14. द कैबिनेट मिशन एंड द अंटचेबल्स (1946)
  15. स्टेट्स एण्ड माइनोरीटीज (1947)
  16. महाराष्ट्र एज ए लिंग्विस्टिक प्रोविन्स स्टेट (1948)
  17. द अनटचेबल्स: हू वेर दे आर व्हाय दी बिकम अनटचेबल्स (अक्तुबर 1948)
  18. थॉट्स ऑन लिंगुइस्टिक स्टेट्स: राज्य पुनर्गठन आयोग के प्रस्तावों की समालोचना (प्रकाशित 1955)
  19. द बुद्धा एंड हिज धम्मा (भगवान बुद्ध और उनका धम्म) (1957)
  20. रिडल्स इन हिन्दुइज्म
  21. डिक्शनरी ऑफ पाली लॅग्वेज (पालि-इग्लिश)
  22. द पालि ग्रामर (पालि व्याकरण)
  23. वेटिंग फ़ॉर अ वीज़ा (आत्मकथा) (1935-1936)
  24. अ पीपल ऐट बे
  25. द अनटचेबल्स और द चिल्ड्रेन ऑफ़ इंडियाज़ गेटोज़
  26. केन आय बी अ हिन्दू?
  27. व्हॉट द ब्राह्मिण्स हैव डन टू द हिन्दुज
  28. इसेज ऑफ भगवत गिता
  29. इण्डिया एण्ड कम्यूनिज्म
  30. रेवोलोटिओं एंड काउंटर-रेवोलुशन इन एनशियंट इंडिया
  31. द बुद्धा एंड कार्ल मार्क्स (बुद्ध और कार्ल मार्क्स)
  32. कोन्स्टिट्यूशन एंड कोस्टीट्यूशनलीज़म

SOURCE-PIB

PAPER-G.S.1

 

Project RE–HAB

Project RE–HAB का अर्थ है Reducing Elephant Human – Attacks using Bees। इसे हाल ही में असम में लॉन्च किया गया।

Project RE–HAB क्या है?

Project RE – HAB “मधुमक्खी बाड़” (bee fences) बनाता है। इन बाड़ों में मधुमक्खियां मानव बस्तियों में हाथी के हमलों को विफल करती हैं। वे हाथियों को बिना नुकसान पहुंचाए रोकती हैं। बाड़ लगाने या खाई खोदने की तुलना में यह अत्यधिक लागत प्रभावी है। साथ ही यह प्रोजेक्ट शहद का उत्पादन बढ़ाता है और किसान की आय में वृद्धि करता है। इसके अलावा, यह परियोजना वन आवरण को पुनर्जीवित करके जलवायु परिवर्तन के मुद्दों को हल करने में मदद करती है।

यह प्रोजेक्ट कैसे काम करता है?

इस परियोजना के तहत मधुमक्खी के बक्सों को मानव आवास के परिसर में रखा गया है। जिस बस्ती को संरक्षित किया जाना है, उसके चारों ओर लगभग 15 से 20 मधुमक्खी के बक्से रखे जाते हैं। मधुमक्खियों की भिनभिनाहट हाथियों को सबसे ज्यादा परेशान करती है। उन्हें डर होता है कि मधुमक्खियां उन्हें उनकी सूंड और आंखों में डंक मार सकती हैं। और इसलिए, वे बक्सों के आगे नहीं जाते।

क्रियान्वयन एजेंसी

प्रोजेक्ट RE–HAB खादी और ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) द्वारा कार्यान्वित की जाती है। KVIC खादी और ग्रामोद्योग आयोग अधिनियम, 1956 के तहत स्थापित एक वैधानिक निकाय है। KVIC का मुख्य कार्य ग्रामीण क्षेत्रों में ग्रामोद्योग के विकास के लिए कार्यक्रमों की योजना बनाना, बढ़ावा देना, व्यवस्थित करना और कार्यान्वित करना है।

परियोजना की आवश्यकता

2014 और 2019 के बीच, हाथी-मानव संघर्ष के कारण लगभग 403 मौतें हुईं। ओडिशा में 397, झारखंड में 349, असम में 332, कर्नाटक में 170 और छत्तीसगढ़ में 289 मौतें हुईं। साथ ही, पिछले पांच वर्षों में अकेले मानव-हाथी संघर्ष में लगभग 500 हाथियों की मृत्यु हुई।

SOURCE-THE HINDU

PAPER-G.S.3

 

कोविड-19 टीकाकरण

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने घोषणा की है कि हिमाचल प्रदेश ने राज्य की कुल 100% आबादी (18+) का टीकाकरण करवा लिया है, राज्य ने सभी योग्य लोगों को कोरोना दोनों खुराकें दे दी हैं, हिमाचल प्रदेश यह उपलब्धि हासिल करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है।

मुख्य बिंदु

हिमाचल प्रदेश में 53,86,393 लाख लोगों को दूसरी डोज़ दी चुकी है। इस उपलब्धि के लिए हिमाचल सरकार ने एम्स बिलासपुर में एक कार्यक्रम का आयोजन भी किया।

टीकाकरण के लिए पंजीकरण कैसे करवाएं?

कोविड-19 टीकाकरण के लिए पंजीकरण Co-WIN पोर्टल (https://www.cowin.gov.in) और आरोग्य सेतु एप्प पर किया जा सकता है। पंजीकरण करने के बाद व्यक्ति को वैक्सीन का स्थान और समय चुनना पड़ता है।

भारत में इस्तेमाल किये जाने वाले टीके

COVAXIN

  • COVAXIN भारत बायोटेक द्वारा निर्मित एक सरकारी समर्थित टीका है। इसकी प्रभावकारिता दर 81% है। COVAXIN वैक्सीन के चरण तीन परीक्षणों में 27,000 से अधिक प्रतिभागियों ने भाग लिया है। COVAXIN दो खुराक में दिया जाता है। खुराक के बीच का समय अंतराल चार सप्ताह है। COVAXIN को मृत COVID-19 वायरस से तैयार किया गया था।

COVISHIELD

  • COVISHIELD वैक्सीन एस्ट्राज़ेनेका द्वारा निर्मित है। स्थानीय रूप से, COVISHIELD सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया द्वारा निर्मित किया जा रहा है। यह चिम्पांजी के एडेनोवायरस नामक एक सामान्य कोल्ड वायरस के कमजोर संस्करण से तैयार किया गया था। COVID-19 वायरस की तरह दिखने के लिए वायरस को संशोधित किया गया है। यह दो खुराक में लगाया जाता है।

स्पुतनिक वी (Sputnik V)

  • इसे मॉस्को में गैम्लेया रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी (Gamleya Research Institute of Epidemiology and Microbiology) द्वारा विकसित किया गया था।
  • यह दो खुराक वाला टीका है। हालांकि, हाल ही में रूस में स्पुतनिक वी के एकल खुराक टीके का उत्पादन किया गया है। इसे स्पुतनिक लाइट सिंगल डोज कहा जाता है। भारत केवल डबल खुराक स्पुतनिक वी का इस्तेमाल कर रहा है।
  • जबकि COVISHIELD एक कमजोर सामान्य एडेनोवायरस से बनाया गया है जो चिंपैंजी को प्रभावित करता है, स्पुतनिक वी को विभिन्न मानव एडेनोवायरस का उपयोग करके बनाया गया है।

SOURCE-GK TODAY

PAPER-G.S.1PRE

 

डेविस कप

डेविस कप 2021 रूसी टेनिस महासंघ ने जीता था। डेविस कप का फाइनल रूस के डेनियल मेदवेदेव और आंद्रे रुबलेव के बीच खेला गया। एंड्री रुबलेव को मोस्ट वैल्यूएबल प्लेयर चुना गया।

डेविस कप

  • डेविस कप को टेनिस का विश्व कप भी कहा जाता है। यह पुरुष टेनिस में एक अंतर्राष्ट्रीय टीम इवेंट है। डेविस कप की महिला समकक्ष बिली जीन किंग कप है।
  • यह अंतर्राष्ट्रीय टेनिस महासंघ द्वारा आयोजित किया जाता है।
  • इसे पहली बार 1900 में अमेरिका और ब्रिटेन के बीच एक चैलेंज के रूप में आयोजित किया गया था। 2016 तक, इस प्रतियोगिता में 135 देश भाग ले रहे थे।
  • डेविस कप के सबसे सफल देश अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड हैं। अमेरिका ने अब तक 32 बार डेविस खिताब जीता है, ऑस्ट्रेलिया ने इसे 28 बार जीता है।

अंतर्राष्ट्रीय टेनिस महासंघ

  • डेविस कप का आयोजन अंतर्राष्ट्रीय टेनिस महासंघ द्वारा किया जाता है। ITF बीच टेनिस, व्हील चेयर टेनिस और विश्व टेनिस का शासी निकाय है। यह पेशेवर टेनिस को संचालित करने के लिए एसोसिएशन ऑफ टेनिस प्रोफेशनल्स (ATP) और महिला टेनिस एसोसिएशन (WTA) के साथ साझेदारी करता है।
  • ITF डेविस कप (पुरुषों का), बिल जीन किंग कप (महिलाओं का), ग्रैंड स्लैम, हॉपमैन कप का आयोजन करता है।
  • ITF अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति की ओर से पैरालंपिक खेलों और ग्रीष्मकालीन ओलंपिक खेलों में विश्व टेनिस और व्हील चेयर टेनिस का भी आयोजन करता है।

SOURCE-GK TODAY

PAPER-G.S.1PRE