Home » Current Affairs - Hindi » Current Affair 6 March 2021

Current Affair 6 March 2021

Current Affairs – 6 March, 2021

हरियाणा का कोटा कानून

हरियाणा स्टेट एम्प्लॉमेंट ओफ लोकल कैंडिडेट्स बिल, 2020 के अनुसार निजी कंपनियों को 75% नौकरियाँ 50,000 रुपये के मासिक वेतन तक राज्य के स्थानीय लोगों के लिए आरक्षित होंगी। यह सीमा बदली जा सकती है और समय-समय पर सरकार द्वारा अधिसूचित की जा सकती है।

यह कानून सभी कंपनियों, समाजों, ट्रस्टों, सीमित देयता भागीदारी फर्मों, साझेदारी फर्मों और 10 या अधिक व्यक्तियों को नियुक्त करने वाले किसी भी व्यक्ति और सरकार द्वारा समय-समय पर अधिसूचित एक इकाई पर लागू होता है।

जबकि आरक्षण की संवैधानिक गारंटी सार्वजनिक रोजगार तक सीमित रही है, परन्तु निजी क्षेत्र में इसे विस्तारित करने के प्रयास नए नहीं हैं। जुलाई 2019 में, आंध्र प्रदेश सरकार ने एक समान कानून पारित किया था, जिसे अदालत में चुनौती दी गई थी।

Important Info :

पहला, नौकरियों में डोमिसाइल आरक्षण का सवाल है। जबकि शिक्षा में डोमिसाइल कोटा काफी सामान्य है, अदालतें इसे सार्वजनिक रोजगार में विस्तारित करने में अनिच्छुक रही हैं।

पिछले साल, मध्य प्रदेश सरकार ने “राज्य के बच्चों” के लिए सभी सरकारी नौकरियों को आरक्षित करने का निर्णय लिया, जिस पर नागरिकों के लिए समानता के मौलिक अधिकार से संबंधित प्रश्न उठे।

दूसरा सवाल, जो अधिक विवादास्पद है, निजी क्षेत्र को रोजगार में आरक्षण का पालन करने के लिए मजबूर करने का मुद्दा है।

SOURCE- INDIAN EXPREES

 

QAnon

QAnon एक ट्रम्प समर्थक षड्यंत्र सिद्धांत है जिसने 2017 के आसपास आकार लिया था। यह तब होना शुरू हुआ, जब एक अनाम उपयोगकर्ता, जिसे “क्यू” या “क्यू क्लीयरेंस पैट्रियट” कहा जाता है, ने षड्यंत्र के सिद्धांतों को पोस्ट करना शुरू कर दिया। “क्यू” शीर्ष-गुप्त जानकारी तक पहुंच के लिए अमेरिकी ऊर्जा विभाग द्वारा दी गई सुरक्षा मंजूरी को संदर्भित करता है।

इस आंदोलन के अनुयायियों का मानना है कि दुनिया को पीडोफाइल के एक कैबेल/चालबाज गुट द्वारा चलाया जा रहा है जो शैतान की पूजा करते हैं और अमेरिकी राष्ट्रपति के रूप में ट्रम्प का एक उद्देश्य यह है कि वे इस चालबाज गुट का खुलासा करें और उसे दंडित करें। साजिश के सिद्धांतकारों के अनुसार, ट्रम्प गुप्त रूप से गणना के दिन की तैयारी कर रहे हैं। इस दिन को “द स्टॉर्म” कहा जा रहा है, जब “डीप स्टेट” के सदस्यों को हटा दिया जाएगा।

SOURCE-INDIAN EXPREES

 

ब्लैक-ब्रोअड बैबलर

 ब्लैक-ब्रोएड बैबलर (मैलाकोसिनला पर्सिसिलाटा) परिवार पेलोरोनीडे में एक गाने वाली प्रजाति है।प्रजाति बोर्नियो के लिए स्थानिक है।

इसकी ‘IUCN’ संरक्षण स्थिति डेटा की कमी है। पूर्व में, इसे IUCN द्वारा वल्नरेबल के रूप में वर्गीकृत किया गया था।

उन्नीसवीं शताब्दी में एकत्र किए गए केवल एक नमूने को ही जाना जाता था, जब तक कि 2020 के दौरान इंडोनेशिया में पक्षी को फिर से खोजा नहीं गया था।

Important Info :

बोर्नियो?

बोर्नियो दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा द्वीप है और एशिया में सबसे बड़ा है।

द्वीप राजनीतिक रूप से तीन देशों में विभाजित है : उत्तर में मलेशिया और ब्रुनेई और दक्षिण में इंडोनेशिया।

 

रमन अनुसंधान संस्थान (आरआरआई) के वैज्ञानिकों द्वारा लाल रक्त कोशिकाओं पर अल्कोहल के
लंबी अवधि के प्रभाव का पता लगाने के लिए हाई रेजोल्यूशन प्लेटफॉर्म विकसित

वैज्ञानिकों ने लाल रक्त कोशिकाओं के आकार की हाई रेजोल्यूशन माप के जरिए उन पर अल्कोहल की लंबी अवधि के असर का पता लगाने के लिए विशेष निर्देशों के अनुरूप प्लेटफॉर्म बनाया है। हाई रेजोल्यूशन प्लेटफॉर्म जो कि अल्कोहल के प्रभाव से आरबीसी के आकार में कमी दिखाता है, को विभिन्न परिस्थितियों जो रक्त में आरबीसी की संख्या और आकार में बदलाव करती हैं, के लिए प्वाइंट ऑफ केयर जांच के लिए अनुकूल बनाया जा सकता है।

हालांकि ये ज्ञात है कि अल्कोहल आरबीसी को प्रभावित करता है, सटीकता के साथ शारीरिक बदलावों को मापना काफी जटिल और कठिन है। इस चुनौती को हल करने के लिए, रमन अनुसंधान संस्थान (आरआरआई) जो कि विज्ञान एवं प्रोद्योगिकी विभाग, भारत सरकार के द्वारा वित्त पोषित एक स्वायत्त संस्थान है, के वैज्ञानिकों ने प्रोफेसर गौतम सोनी के नेतृत्व में विशेष निर्देशानुसार इलेक्ट्रो-फ्लूएडिक प्लेटफॉर्म को विकसित किया है, जो कि परिष्कृत रेजोल्यूशन से कोशिका के आकार को माप कर बदलाव का पता लगाता है।

आरआरआई में बना उपकरण रिज़िस्टिव पल्स सेंसिंग सिद्धांत पर निर्भर है। अल्कोहल के प्रभाव से आरबीसी की ऑक्सीजन ले जाने की क्षमता में कमी की व्याख्या में भी इस्तेमाल किया जा सकता है जिससे अल्कोहल के दुरुपयोग में नजर का धुंधलापन, मांसपेशियों में तालमेल, और मानसिक स्थिति में बदलाव आता है।

चित्र : लाल रक्त कणिकाओं पर अल्कोहल का असर कोशिका आयतन के मोनटनिक गिरावट के रूप में मापा गया। कोशिका आयतन में इन जटिल बदलावों की माप के लिए हमारे प्वाइंट-ऑफ-केयर उपकरण (मध्य-दाएं) का इस्तेमाल किया गया। आरबीसी की कोशिका के आयतन में कमी का सीधा असर ऑक्सीजन ले जाने की क्षमता पर पड़ सकता है, जो कि बदले में संज्ञानात्मक और शारीरिक ढांचे दोनों गतिविधियों पर असर डालती है।

SOURCE-PIB

 

फूड वेस्ट इंडेक्स रिपोर्ट 2021

संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) ने “फूड वेस्ट इंडेक्स रिपोर्ट, 2021” प्रकाशित किया। UNEP की इस रिपोर्ट के अनुसार, दुनिया भर में 2019 में अनुमानित 931 मिलियन टन भोजन बर्बाद हुआ।

मुख्य बिंदु

साझेदार संगठन WRAP के सहयोग से UNEP द्वारा यह सूचकांक रिपोर्ट प्रकाशित की गई थी। इस बर्बादी में घरों का योगदान 61%, खाद्य सेवाओं का 26%, जबकि खुदरा क्षेत्र का 13% योगदान है। ओस रिपोर्ट में कुल वैश्विक खाद्य उत्पादन का 17 प्रतिशत बर्बाद होने पर भी प्रकाश डाला गया है। इसके अलावा, उपलब्ध कुल भोजन का 11 प्रतिशत घरों में बर्बाद होता है।

भारत में भोजन की बर्बादी

भारत में घरेलू भोजन  बर्बादी प्रति वर्ष 50 किलोग्राम प्रति व्यक्ति है जो प्रति वर्ष 68,760,163 टन के बराबर है। दूसरी ओर, अमेरिका में घरेलू खाद्य अपशिष्ट प्रति वर्ष 59 किलोग्राम है जो प्रति वर्ष 19,359,951 टन के बराबर है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि, चीन में घरेलू भोजन बर्बादी 64 किलोग्राम प्रति व्यक्ति प्रति वर्ष है जो एक वर्ष में 91,646,213 टन के बराबर है।

 

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 584.55 अरब डॉलर पर पहुंचा

26 फरवरी, 2021 को समाप्त हुए सप्ताह के दौरान भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 689 मिलियन डॉलर की वृद्धि के साथ 584.55 अरब डॉलर पर पहुँच गया है। विश्व में सर्वाधिक विदेशी मुद्रा भंडार वाले देशों की सूची में भारत पांचवें स्थान पर है, इस सूची में चीन पहले स्थान पर है।

विदेशी मुद्रा भंडार

इसे फोरेक्स रिज़र्व या आरक्षित निधियों का भंडार भी कहा जाता है भुगतान संतुलन में विदेशी मुद्रा भंडारों को आरक्षित परिसंपत्तियाँ’ कहा जाता है तथा ये पूंजी खाते में होते हैं। ये किसी देश की अंतर्राष्ट्रीय निवेश स्थिति का एक महत्त्वपूर्ण भाग हैं। इसमें केवल विदेशी रुपये, विदेशी बैंकों की जमाओं, विदेशी ट्रेज़री बिल और अल्पकालिक अथवा दीर्घकालिक सरकारी परिसंपत्तियों को शामिल किया जाना चाहिये परन्तु इसमें विशेष आहरण अधिकारों, सोने के भंडारों और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की भंडार अवस्थितियों को शामिल किया जाता है। इसे आधिकारिक अंतर्राष्ट्रीय भंडार अथवा अंतर्राष्ट्रीय भंडार की संज्ञा देना अधिक उचित है।

SOURCE- DANIK JAGARAN

 

स्पेस हरिकेन (Space Hurricane)

वैज्ञानिकों ने पहली बार एक “स्पेस हरिकेन” की खोज की है। पृथ्वी के ऊपरी वायुमंडल में उत्तरी ध्रुव पर आठ घंटे तक यह तूफान चला।

मुख्य बिंदु

ये तूफान आमतौर पर पृथ्वी के निचले वातावरण में घटित होते हैं। यह ऊपरी वायुमंडल में कभी नहीं देखा गया था। इससे पहले, स्पेस हरिकेन का अगस्त 2014 में एक पूर्वव्यापी विश्लेषण के दौरान पता चला था, जिसका नेतृत्व चीन के शेडोंग विश्वविद्यालय में शोधकर्ताओं ने किया था। इसके निष्कर्ष फरवरी 2021 में नेचर कम्युनिकेशंस में प्रकाशित हुए थे।

स्पेस हरिकेन क्या है?

प्लाज्मा का घूमता द्रव्यमान जो पानी के बजाय आयनमंडल में इलेक्ट्रॉनों की बारिश करता है, उसे “स्पेस हरिकेन” कहा जाता है। इस तूफान के परिणामस्वरूप आश्चर्यजनक प्रभाव होता है जो एक विशाल, चक्रवात के आकार का चमकता हुआ हरा अरोरा होता है। खगोलविदों ने मंगल, शनि और बृहस्पति ग्रह पर स्पेस हरिकेन दर्ज किये हैं।

अध्ययन का महत्व

स्पेस हरिकेन के अध्ययन से वैज्ञानिकों को उच्च आवृत्ति रेडियो संचार में गड़बड़ी, सैटेलाइट ड्रैग, उपग्रह नेविगेशन, ओवर-द-होराइजन रडार लोकेशन और संचार प्रणालियों में गड़बड़ी जैसे महत्वपूर्ण अंतरिक्ष मौसम प्रभावों को समझने में मदद मिलेगी।

SOURCE-DANIK JAGARAN

 

DRDO ने सॉलिड फ्यूल डक्टेड रैमजेट का परीक्षण किया

रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) ने 5 मार्च, 2021 को सॉलिड फ्यूल डक्टेड रैमजेट (SFDR) तकनीक का सफल परीक्षण किया। यह परीक्षण ओडिशा के चांदीपुर में एकीकृत परीक्षण रेंज से किया गया। बूस्टर मोटर का उपयोग करके उड़ान परीक्षण के दौरान वायु प्रक्षेपण परिदृश्य को सिमुलेट किया गया था। उसके बाद, नोजल-लेस बूस्टर ने रैमजेट के संचालन के लिए आवश्यक मैक संख्या में मोटर को एक्सेलरेट किया।

मुख्य बिंदु

इस परीक्षण के दौरान, यह देखा गया कि, सभी सब-सिस्टम जैसे बूस्टर मोटर और नोजल-लेस मोटर ने DRDO की अपेक्षा के अनुसार प्रदर्शन किया। इसके अलावा, उड़ान परीक्षण में ठोस ईंधन आधारित डक्टेड रैमजेट प्रौद्योगिकी सहित कई नई तकनीकों का परीक्षण किया गया। सॉलिड फ्यूल आधारित डक्टेड रैमजेट तकनीक का सफल परीक्षण ने अब डीआरडीओ को कई तकनीकी लाभ प्रदान किये हैं। यह अब DRDO को लंबी दूरी की हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल विकसित करने में सक्षम करेगा।

सॉलिड फ्यूल डक्टेड रैमजेट (SFDR)

यह रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) द्वारा विकसित एक मिसाइल प्रणोदन प्रणाली है। DRDO ने महत्वपूर्ण तकनीकों को विकसित करने के उद्देश्य से इस परियोजना का विकास किया, जो भविष्य में भारत की लंबी दूरी की हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइलों की प्रणोदन प्रणाली में आवश्यक हैं। यह एक मिसाइल प्रणोदन प्रणाली है जिसमें थ्रस्ट मॉड्यूलेटेड डक्टेड रॉकेट के साथ-साथ स्मोक नोजल-लेस मिसाइल बूस्टर शामिल है। इस सिस्टम का थ्रस्ट मॉड्यूलेशन एक गर्म गैस प्रवाह नियंत्रक के माध्यम से प्राप्त किया जाता है।

SOURCE-DANIK JAGARAN

 

अमेरिका भारत समेत 17 देशों पर एंटी-डंपिंग टैक्स लगा सकता है

अमेरिका का वाणिज्य विभाग भारत सहित 18 देशों के एल्युमीनियम शीट निर्यातकों पर कर लगाने जा रहा है, क्योंकि विभाग का मानना है कि इन देशों को सब्सिडी और डंपिंग से लाभ हुआ था।

मुख्य बिंदु

यह निर्णय अमेरिकी वाणिज्य विभाग द्वारा लिया गया था जब कई अमेरिकी एल्यूमीनियम मिश्र धातु निर्माताओं ने शिकायत की थी कि कम कीमतों पर आयात के कारण उन्हें नुकसान हो रहा था। भारत पर एक अमेरिकी जांच में कहा गया है कि, 2019 में, भारत के आयातों को 35 प्रतिशत से 89 प्रतिशत तक सब्सिडी का लाभ मिला है।

डंपिंग

जब कोई देश या कंपनी किसी भी उत्पाद को ऐसी कीमत पर निर्यात करती है, जो निर्यातकों के घरेलू बाजार में कीमत की तुलना में विदेशी आयात बाजार में कम होता है, तो उसे डंपिंग कहा जाता है। विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के मानदंडों के अनुसार डंपिंग प्रक्रिया कानूनी है। हालांकि, कार्रवाई की जा सकती है।

एंटी-डंपिंग उपाय

देश अपने घरेलू उत्पादकों को डंपिंग से बचाने के लिए कई टैरिफ और कोटा का उपयोग करते हैं। उनमें से कुछ इस प्रकार हैं :

  1. एंटी-डंपिंग ड्यूटी (ADD)

सामान्य मूल्य से कम मूल्य पर बेची जा रही वस्तुओं के डंपिंग के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से आयात पर लागू होने वाले सीमा शुल्क को “एंटी-डंपिंग ड्यूटी” कहा जाता है।

  1. काउंटरवेलिंग ड्यूटी

इसे आयात सब्सिडी के नकारात्मक प्रभाव का मुकाबला करने के लिए लगाया जाता है, जो घरेलू उत्पादकों की रक्षा करती है।

SOURCE-ECONOMICS TIMES

%d bloggers like this: