मानसून का सीज़न अपने उच्च स्तर पर समाप्त हुआ, भारत में 6% अतिरिक्त बारिश दर्ज की गई: IMD

मानसून का सीज़न अपने उच्च स्तर पर समाप्त हुआ, भारत में 6% अतिरिक्त बारिश दर्ज की गई: IMD

  • दक्षिण-पश्चिम मानसून का सीजन 2022 के लिए आधिकारिक तौर पर समाप्त हो गया है।
  • इस सीजन में 925 मिलीमीटर की संचयी वर्षा हुई, जो सामान्य से 6 प्रतिशत अधिक है।
  • हालांकि जून में सामान्य स्तर पर शुरू मानसून अभी लौटने की जल्दबाजी में नहीं है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के नवीनतम पूर्वानुमान के अनुसार, सुपर टाइफून नोरू के कारण जलवायु प्रणाली द्वारा ट्रिगर बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक चक्रवाती परिसंचरण के कारण मानसून की वापसी में देर हो रही है।

  • आईएमडी के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा कि उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में मौसम प्रणाली के मौजूद होने के कारण 20 सितंबर से शुरू हुए मानसून के 13 अक्टूबर तक रुकने की संभावना है।
  • मौसम विभाग ने उम्मीद जताई कि देश में यह लगातार चौथा साल है, जहां अच्छी बारिश हुई है और गंगा के मैदानी इलाकों में देर से हुई वर्षा से रबी सीजन के दौरान किसानों को मदद मिलने की उम्मीद है

इस वर्ष मानसून के स्थिति:

  • मानसून 1 जून से 30 सितंबर — 925 मिमी, औसत से 6 प्रतिशत ऊपर
  • कम वर्षा वाले जिलों की संख्या —- 28% (703 जिलों में से)
  • खरीफ का अंतिम रकबा —– 27 मिलियन हेक्टेयर, पिछले वर्ष से 0.85% कम
  • धान का अंतिम रकबा — 28 मिलियन हेक्टेयर, पिछले वर्ष से 4.76% कम
  • खरीफ खाद्यान्न उत्पादन —- 92 मिलियन टन, पिछले वर्ष से 3.92% कम

Note: यह सूचना प्री वाले पाठ्यक्रम से जुड़ा हुआ है।

CIVIL SERVICES EXAM