तेल कीमतों की सीमा से निपटने के लिए रूस ने की भारत को मदद की पेशकश

तेल कीमतों की सीमा से निपटने के लिए रूस ने की भारत को मदद की पेशकश

  • पश्चिमी देशों द्वारा तय की गई रूसी कच्ची तेल की कीमतों की सीमा से निपटने के लिए रूस ने भारत को मदद की पेशकश की है।
  • रूस के उपप्रधानमंत्री एलेक्जेंडर नोवाक ने यूरोपीय संघ ब्रिटेन में बीमा सेवाओं और टैकरों को भाड़े पर लेने के लिए निर्भर नहीं रहने के लिए भारत को ज्यादा क्षमता वाले जहाजों को पट्टे पर देने और उनके निर्माण में सहयोग की पेशकश की है।
  • एक बयान के मुताबिक, नोवाक ने 9 दिसंबर को रूस में भारत के राजदूत पवन कपूर से मुलाकात की।

  • बयान के अनुसार, वर्ष 2022 के पहले आठ महीनों के दौरान रूस से भारत को निर्यात 1635 टन तक बढ़ गया है और गर्मियों में भारत भेजे गए शिपमेंट के मामले में वह दूसरे स्थान पर पहुंच गया था।
  • जी-7 देशों, यूरोपीय संघ ऑस्ट्रेलिया ने पिछले हफ्ते रूस पर प्रतिबंधों के तहत समुद्र के रास्ते कच्चे तेल की कीमतें 60 डॉलर प्रति बैरल तय करने पर सहमति व्यक्त की थी।
  • इसके साथ ही रूस ने जी-7 और उसके सहयोगी देशों का इस मामले में समर्थन नहीं करने के भारत के फैसले का स्वागत किया है
  • भारतीय राजदूत से मुलाकात के दौरान नोवाक ने जोर देकर कहा कि रूस पूरी जिम्मेदारी से ईंधन आपूर्ति की अनुबंध बाध्यताओं को पूरा कर रहा है
CIVIL SERVICES EXAM